टेस्ट क्रिकेट में जारी रहेगा टॉस, सीरीज की जगह मैच के पॉइंट मिलेंगे; बॉल टैम्परिंग पर मिलेगी कड़ी सजा

टेस्ट क्रिकेट में 141 साल पुरानी टॉस की परंपरा खत्म करने को लेकर आईसीसी क्रिकेट कमेटी का फैसला।

Bhaskar News| Last Modified - May 31, 2018, 08:15 AM IST

1 of
ICC decision to keep coin toss in Test cricket
साल की शुरुआत में भारत-दक्षिण अफ्रीका टेस्ट सीरीज के दौरान टॉस करते फॉक डुप्लेसिस और विराट कोहली। - फाइल

स्पोर्ट्स डेस्क.  अगले साल से शुरू हो रही टेस्ट चैंपियनशिप में भी टॉस की परंपरा खत्म नहीं की जाएगी। पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले की अगुआई में हुई आईसीसी क्रिकेट कमेटी ने दो दिन की बैठक के बाद यह सिफारिश की है। साथ ही टेस्ट चैंपियनशिप के तहत सीरीज जीत के लिए टीमों को कोई पॉइंट नहीं दिया जाएगा। हर मैच के नतीजे के आधार पर पॉइंट दिए जाएंगे। कमेटी ने बॉल टैम्परिंग और अभद्र व्यवहार पर सजा के प्रावधान को और कड़ा करने की सिफारिश भी की है।

 

हर मैच के नतीजे के आधार पर पॉइंट क्यों?

- कमेटी ने टेस्ट चैंपियनशिप के हर मैच को बराबर महत्व देने के लिए मैच के नतीजे के आधार पर पॉइंट देने का फैसला किया है, न कि सीरीज के आधार पर।

- अगर तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में कोई टीम पहले दो टेस्ट जीत भी लेती है तो भी तीसरे मैच में जीत की उसकी कोशिश कम नहीं होगी, क्योंकि उस मैच के अंक का चैंपियनशिप में आगे असर पड़ सकता है।

 

किसने और कब रखा था टॉस खत्म करने का प्रस्ताव?

- एशेज-2015 के दौरान तत्कालीन ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने टेस्ट मैचों में टॉस खत्म करने का प्रस्ताव रखा था। उनका कहना था इससे घरेलू टीमों का पिच के मामले में दखल देना कम होगा।

- पोंटिग के इस विचार को स्टीव वॉ और माइकल होल्डिंग जैसे दिग्गजों का भी समर्थन मिला था।

- इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने 2016 में खेली गई काउंटी चैंपियनशिप में टॉस खत्म करने का प्रयोग भी किया था, जिसके मिले-जुले परिणाम सामने आए थे।

 

बॉल टैम्परिंग मामले के बाद सजा कड़ी करने की सिफारिश

- ऑस्ट्रेलिया-दक्षिण अफ्रीका सीरीज को ध्यान में रखते हुए बॉल टैम्परिंग और मैच के दौरान खराब व्यवहार के लिए अभी दी जा रही सजा को आईसीसी से और कड़ी करने की सिफारिश की गई थी। 

- बॉल टैम्परिंग मामले में आईसीसी ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ पर एक मैच का बैन लगाया था। कैमरून बेनक्रॉफ्ट पर मैच फीस का 75 फीसदी जुर्माना लगाया गया था। डेविड वार्नर को कोई सजा नहीं मिली थी।  

 

कौन शामिल था इस आईसीसी की इस समिति में?

- आईसीसी क्रिकेट समिति में बतौर अध्यक्ष पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले के अलावा एंड्रू स्ट्रॉस, माहेला जयवर्धने, राहुल द्रविड़, टिम मे, न्यूजीलैंड क्रिकेट के मुख्य कार्यकारी डेविड वाइट, अंपायर रिचर्ड केटेलबोरोग, आईसीसी मैच रेफरी प्रमुख रंजन मदुगले, शॉन पोलाक और क्लेरी कोनोर शामिल हैं। 

 

टॉस टेस्ट क्रिकेट में 141 साल पुरानी परंपरा

- क्रिकेट की दुनिया में होने वाले हर मैच से पहले टॉस के जरिए यानी सिक्का उछालकर ये तय किया जाता है कि कौन सी टीम पहले बैटिंग या फील्डिंग करेगी। ये टेस्ट क्रिकेट में 141 साल पुरानी परंपरा है। 
- टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत साल 1877 में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच मेलबर्न के एमसीजी ग्राउंड में हुए मैच से हुई थी। तब से मैच से पहले सिक्के को उछालकर ये तय किया जाता है कि कौन सी टीम पहले बैटिंग करेगी और कौन सी टीम पहले फील्डिंग करेगी। 

 

मेजबान टीम को कैसे होता है फायदा?
- नौ टीमों की भागीदारी वाली आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में मेजबान टीमें अपने पसंद की पिच बनाकर फायदा न उठाए, इसके लिए टॉस समाप्त करने की बात चल रही थी। ऐसा होने पर मेहमान टीम को यह हक मिलता कि वह पहले बैटिंग करना चाहती है या बॉलिंग। लेकिन, आईसीसी कमेटी इस निष्कर्ष पर पहुंची कि टॉस हमेशा से क्रिकेट का अभिन्न हिस्सा रहा है और इसे खत्म करना ठीक नहीं होगा। 

ICC decision to keep coin toss in Test cricket
क्रिकेट की दुनिया में होने वाले हर मैच से पहले टॉस के जरिए यानी सिक्का उछालकर ये तय किया जाता है कि कौन सी टीम पहले बैटिंग या फील्डिंग करेगी। - फाइल
ICC decision to keep coin toss in Test cricket
एशेज-2015 के दौरान तत्कालीन ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने टेस्ट मैचों में टॉस खत्म करने का प्रस्ताव रखा था। - फाइल
prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now