फीफा वर्ल्ड: रूस ने स्टेडियम बनाने में 28,046 करोड़ खर्च किए, ब्राजील के मुकाबले 3,863 करोड़ ज्यादा

स्पेसशिप की तर्ज पर बना क्रिस्टोव्स्की स्टेडियम इस विश्वकप का सबसे महंगा स्टेडियम है।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Jun 05, 2018, 03:30 PM IST

1 of
12 stadium of russia will host 64 match in fifa worldcup 2018

  • 1956 से 1992 तक लुझनिकी स्टेडियम का नाम सेंट्रल लेनिन स्टेडियम था
  • फिस्ट स्टेडियम के दक्षिण में काला सागर और उत्तर में फिस्ट माउंटेन है

खेल डेस्क. 14 जून से रूस में शुरू हो रहे 21वें फीफा विश्वकप में 32 टीमें चैम्पियन बनने के लिए जोरआजमाइश करेंगी। ये मुकाबले रूस के 11 शहरों के 12 स्टेडियम में खेले जाएंगे। इनमें सबसे बड़ा लुझनिकी स्टेडियम, सबसे महंगा क्रिस्टोवस्की स्टेडियम और फैबर अंडे के आकार का फिस्ट स्टेडियम भी शामिल है। क्रिस्टोवस्की को बनाने में लगभग 4,937 करोड़ रुपए लगे हैं। विश्वकप के दौरान इस्तेमाल में लाए जाने वाले सभी स्टेडियम को बनाने और उनके रेनोवेशन (पुनर्निर्माण) में लगभग 4,175 मिलियन डॉलर (करीब 28,046 करोड़ रुपए) खर्च किए हैं। जबकि, पिछली बार ब्राजील में 3,600 मिलियन डॉलर (24,183 करोड़ रुपए) ही खर्च हुए थे।

 

 

 

लुझनिकी में 81 हजार लोग एक साथ देख सकते हैं मैच
- रूस की राजधानी मॉस्को में स्थित लुझनिकी स्टेडियम देश का सबसे बड़ा स्टेडियम है। इसमें एक साथ 81 हजार दर्शक मैच देख सकते हैं। इसके रेनोवेशन पर 2,754 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। यहां पर टूर्नामेंट का उद्घाटन और फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। 

- 1956 में पहली बार इस मैदान पर मैच खेला गया था। तब इसका नाम सेंट्रल लेनिन स्टेडियम था जो 1992 में लुझनिकी स्टेडियम किया गया।1963 में सोवियत यूनियन और इटली के बीच हुए मैच को रिकॉर्ड 1,02,538 लोगों ने स्टेडियम में मुकाबले को देखा था।

 

स्पेसशिप के आकार का क्रिस्टोव्स्की स्टेडियम
- सेंट पीटर्सबर्ग स्थित क्रिस्टोव्स्की स्टेडियम को स्पेसशिप के आकार का बनाया गया है। इसके निर्माण में लगभग 4,937 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। इस स्टेडियम की खास बात ये है कि इसके अंदर का तापमान हमेशा 15 डिग्री सेल्सियस ही रहता है। ये इस विश्वकप का सबसे महंगा फुटबॉल स्टेडियम है।
- क्रिस्टोव्स्की स्टेडियम की क्षमता 67 हजार है। रसियन प्रीमियर लीग के दौरान इसमें 56,196 लोगों ने एक साथ मैच देखा था। विश्वकप के लिए इसकी दर्शक क्षमता बढ़ाई गई है। इसका निर्माण कार्य 2007 में शुरू हुआ था, जो 2017 में पूरा हुआ। 

 

स्टेडियम से दिखता है काला सागर
- सोची स्थित फिस्ट स्टेडियम विंटर ओलंपिक के साथ-साथ फीफा वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला दुनिया का दूसरा स्टेडियम होगा। इसके रेनोवेशन में 3,144 करोड़ रुपए खर्च किए गए। यह फैबर अंडे के आकार का बनाया गया है। इसके दक्षिण में काला सागर और उत्तर में फिस्ट माउंटेन है। दक्षिणी स्टैंड से काला सागर दिखाई देता है।
- विश्वकप के लिए इस स्टेडियम की दर्शक क्षमता 41,220 कर दी गई है। टूर्नामेंट खत्म होने के बाद वैकल्पिक सीटों को हटा दिया जाएगा। जिसके बाद इसकी क्षमता 40 हजार हो जाएगी।

 

केवल दो स्टेडियम ही दर्शक क्षमता में 40 हजार से कम
- विश्वकप के इस्तेमाल में लाए जाने वाले सभी स्टेडियमों में से केवल दो कलिनिग्राद स्टेडियम (35,212) और एकटरिनबर्ग स्टेडियम (35,696) की क्षमता 40 हजार से नीचे है। इन दोनों के अलावा सभी 10 स्टेडियम 40 हजार से ज्यादा दर्शक क्षमता वाले हैं।

 

क्रिस्टोव्स्की स्टेडियम के रेनोवेशन में लगे 4,937 करोड़ रुपए

नाम दर्शक क्षमता निर्माण-रेनोवेशन में खर्च
कजान एरीना 45,379 250 मिलियन डॉलर (1,679 करोड़ रुपए)
एक्टोरिनबर्ग एरीना 35,696 220 मिलियन डॉलर (1,478 करोड़ रुपए)
फिस्ट स्टेडियम 47, 659 468 मिलियन डॉलर (3,144 करोड़ रुपए)
कालिनिग्राद स्टेडियम 35, 212 300 मिलियन डॉलर (2,015 करोड़ रुपए)
स्पार्टक स्टेडियम 45, 360 250 मिलियन डॉलर (1,679 करोड़ रुपए)
लुझनिकी स्टेडियम 81, 000 410 मिलियन डॉलर (2,754 करोड़ रुपए)
नोवगोरोद स्टेडियम 44,899 307 मिलियन डॉलर (2,062 करोड़ रुपए)
रोस्तोव स्टेडियम 45,145 330 मिलियम डॉलर (2,216 करोड़ रुपए)
क्रिस्टोव्स्की स्टेडियम 67, 000 735 मिलियन डॉलर (4,937 करोड़ रुपए)
मोरदोविया एरीना 44,442 295 मिलियन डॉलर (1,982 करोड़ रुपए)
कॉसमोस एरीना 44, 807 310 मिलियन डॉलर (2,082 करोड़ रुपए)
वोल्गोग्राद एरीना 45,568 300 मिलियन डॉलर (2,015 करोड़ रुपए)
12 stadium of russia will host 64 match in fifa worldcup 2018
12 stadium of russia will host 64 match in fifa worldcup 2018
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now