पसंदीदा खिलाड़ियों की बैकडोर से एंट्री करवा रहे हैं अमय खुरासिया: एमपीसीए के तीन सदस्यों का आरोप

वरिष्ठ सदस्य अशोक जगदाले, अशोक कुमट और नरेंद्र बगथेरिया ने चार पन्नों का शिकायती पत्र लिखा एमपीसीए को

DainikBhaskar.com| Last Modified - Aug 08, 2018, 11:58 AM IST

Khurasia is making entry to favorite players from backdoor
पसंदीदा खिलाड़ियों की बैकडोर से एंट्री करवा रहे हैं अमय खुरासिया: एमपीसीए के तीन सदस्यों का आरोप

इंदौर. मप्र क्रिकेट एसोसिएशन (एमपीसीए) की 11 अगस्त को प्रस्तावित मैनेजिंग कमेटी की बैठक से पहले संस्था के तीन वरिष्ठ सदस्यों ने पूर्व इंटरनेशनल क्रिकेट खिलाड़ी अमय खुरासिया के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अशोक जगदाले, नरेंद्र बगथेरिया व अशोक कुमट ने चार पन्नों का एक पत्र एमपीसीए सचिव मिलिंद कनमड़ीकर को लिखकर आरोप लगाए हैं कि वह स्टाफ के साथ गलत व्यवहार करते हैं। अकादमी के लिए मनमर्जी से खिलाड़ियों का चयन करते हैं। जब उनसे चयन की व्यवस्था छीन ली है तो वह बैकडोर से पसंद के खिलाड़ियों को प्रवेश दे देते हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि एमपीसीए की रेसीडेंशियल अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक खुरासिया दादागीरी कर रहे हैं। वह कमेटी द्वारा चयनित खिलाड़ियों को तवज्जो नहीं देते हैं। हालत यह है कि होनहार लेग ब्रेक बॉलर युवराज नीमा को अच्छे प्रदर्शन के बाद भी अकादमी से बाहर कर दिया गया। 


करोड़ों खर्च फिर भी नहीं मिल रहे बड़े खिलाड़ी : पत्र में कहा है कि उन्हें हर माह तीन लाख का भुगतान किया जा रहा है। अकादमी में अन्य खर्च भी होते हैं। करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद भी अकादमी से बड़े खिलाड़ी नहीं निकल रहे हैं। उनका व्यवहार इस तरह का है, जैसे वह संस्था से बड़े हैं। वह खिलाड़ियों पर गलत कमेंट करते हैं, जब टीम का प्रदर्शन अच्छा होता है तो वह खुद श्रेय लेते हैं और गलत होने पर दूसरों पर ढोल देते हैं। पत्र में खिलाड़ियों ने यह भी लिखा है कि खुरासिया की किसी बड़े खिलाड़ी, प्रशिक्षक, मैनेजर से नहीं पटती है।

 

आईडीसीए ने खुरासिया के दबाव में ए ग्रेड के नियम बदले : तीनों सदस्यों ने इंदौर डिवीजनल क्रिकेट एसोसिएशन (आईडीसीए) पर भी आरोप लगाए हैं। इसमें लिखा है कि आईडीसीए ने खुरासिया के दबाव में ए ग्रेड देने के नियम बदल दिए और टीम से दो रणजी ट्रॉफी खिलाड़ी के खेलने पर ए ग्रेड देना शुरू कर दिया। खुरासिया ने संस्था के खिलाड़ियों को अपनी निजी खुरासिया क्रिकेट अकादमी से खिलाकर यह ए ग्रेड हासिल कर लिया। हितों के टकराव नियम में भी खुरासिया उलझ चुके हैं। इसके चलते सेंट्रल एक्साइज में उन्हें 44 लाख भरने पड़े थे और नौकरी छोड़ी थी। 

 

एमपीसीए में बढ़ा है क्रिकेट स्तर: एमपीसीए के मुख्य प्रशिक्षक अमय खुरासिया ने कहा, "मैं नौ साल से प्रशिक्षक का काम कर रहा हूं। आज हर स्तर पर टॉप फाइव में हमारी टीम है और स्तर बढ़ा है। बार-बार कुछ ही लोग इस तरह के आरोप लगा रहे हैं। मेरे सभी खिलाड़ियों से अच्छे संबंध हैं। आईडीसीए पर भी आरोप गलत है, वहां सक्षम लोग काम कर रहे हैं।"

Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now