लॉर्ड्स में 17 में से 2 टेस्ट ही जीता भारत, कपिल-धोनी के बाद अब कोहली के पास टीम को जिताने का मौका

1932 में लार्ड्स पर पहला टेस्ट भारत 158 रन से हारा, 1971 में अजीत वाडेकर की कप्तानी में यहां पहली बार ड्रॉ खेला

DainikBhaskar.com| Last Modified - Aug 09, 2018, 09:59 AM IST

1 of
Only two Tests won by the Indian team in Lords

  • अजीत वाडेकर, अजहरुद्दीन और धोनी ने लॉर्ड्स में सबसे ज्यादा 2-2 टेस्ट में कप्तानी की
  • धोनी ने 2011 में पहली बार इस मैदान पर भारत की कप्तानी की, 196 रन से मैच हारे

लंदन. भारत-इंग्लैंड के बीच 9 अगस्त से 5 टेस्ट की सीरीज का दूसरा मुकाबला लॉर्ड्स के मैदान पर खेला जाएगा। एजबस्टन में खेला गया पहला मैच भारत 31 रन से हार चुका है। ऐसे में भारतीय टीम का इरादा लॉर्ड्स में मैच जीतकर सीरीज बराबर करने का होगा। लॉर्ड्स में भारत-इंग्लैंड के बीच हुए टेस्ट रिकॉर्ड में मेजबान टीम का पलड़ा भारी है। इस मैदान पर भारत ने 17 टेस्ट खेले, जिनमें 2 में ही जीत हासिल कर सका, जबकि 11 में उसे हार का सामना करना पड़ा। 4 टेस्ट ड्रॉ पर छूटे। लॉर्ड्स में कपिल देव और महेंद्र सिंह धोनी ही हैं, जिनकी कप्तानी में टीम इंडिया ने यहां टेस्ट जीता। भारत ने इस मैदान पर पिछली जीत 2014 में धोनी की कप्तानी में हासिल की थी। उस टीम में विराट कोहली भी थे। अब विराट भी लार्ड्स में टेस्ट जीतकर कपिल और धोनी के क्लब में शामिल होना चाहेंगे। 

 

लॉर्ड्स में इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय कप्तानों का प्रदर्शन

क्रम साल कप्तान परिणाम क्रम साल कप्तान परिणाम
1 1932 सीके नायडू 158 रन से हारा 10 1982 सुनील गावस्कर ड्रॉ
2 1936 विजिनगरम 9 विकेट से हारा 11 1986 कपिल देव 5 विकेट से जीता
3 1946 इफ्तिखार अली खान पटौदी 10 विकेट से हारा 12 1990 मोहम्मद अजहरुद्दीन 247 रन से हारा
4 1952 विजय हजारे 8 विकेट से हारा 13 1996 मोहम्मद अजहरुद्दीन ड्रॉ
5 1959 पंकज राय 8 विकेट से हारा 14 2002 सौरव गांगुली 170 रन से हारा
6 1967 मंसूर अली खान पटौदी पारी और 124 रन से हारा 15 2007 राहुल द्रविड़ ड्रॉ
7 1971 अजीत वाडेकर ड्रॉ 16 2011 महेंद्र सिंह धोनी 196 रन से हारा
8 1974 अजीत वाडेकर पारी और 285 रन से हारा 17 2014 महेंद्र सिंह धोनी 95 रन से जीता
9 1979 वेंकटराघवन ड्रॉ 18 2018 विराट कोहली मैच खेला जाना है

 

इशांत ने लिए थे 7 विकेट : 2014 में भारतीय टीम ने लॉर्ड्स पर इंग्लैंड को 95 रन से हराया था। उस मैच में इंग्लैंड की कप्तानी मौजूदा ओपनर एलिस्टर कुक कर रहे थे। कुक ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया। भारत की पहली पारी 295 और इंग्लैंड की 319 रनों पर सिमटी। दूसरी पारी में भारत ने 342 रन बनाए। इंग्लैंड को जीत के लिए 319 रन का लक्ष्य मिला, लेकिन उसकी पूरी टीम 223 रन पर ऑल आउट हो गई। इस मैदान पर भारत को 28 साल बाद जीत हासिल हुई थी। उससे पहले 1986 में कपिलदेव की कप्तानी में पहली बार भारत यहां जीता था। तब उसने इंग्लैंड को 5 विकेट से हराया था। 

 

पहले टेस्ट में कोहली ने लगाया था शतक: पहले टेस्ट में भारत जीत की दहलीज पर पहुंचकर मैच हार गया। कप्तान कोहली ने पहली पारी में 149 और दूसरी पारी में 51 रन बनाए। उनके अलावा सिर्फ हार्दिक पंड्या ही 30 के आंकड़े को पार करने वाले एकमात्र बल्लेबाज रहे। दूसरे टेस्ट में कोहली पूरी टीम से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे होंगे। लॉर्ड्स की पिच अमूमन गेंदबाजों के मुफीद मानी जाती है। ऐसे में पिछली बार यहां 7 विकेट लेने वाले इशांत के साथ उमेश यादव और मोहम्मद शमी पर टीम को जीत दिलाने की जिम्मेदारी होगी।

Only two Tests won by the Indian team in Lords
Only two Tests won by the Indian team in Lords
कोहली की कप्तानी में भारत को इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट की सीरीज के पहले मैच में हार मिली। -फाइल
prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now