FIFA WC को लेकर अर्जेंटीना में कैदी भूख हड़ताल पर, ब्रिटेन ने कई लोगों के रूस जाने पर लगाई रोक

उद्घाटन और फाइनल मॉस्को के लुझनिकी स्टेडियम में होगा। जिसकी दर्शक क्षमता 81 हजार है।

dainikbhaskar.com| Last Modified - Jun 14, 2018, 05:34 PM IST

1 of
9 prisoners in an Argentina jail have gone on a hunger strike

* गुरुवार से हो रही फीफा वर्ल्ड कप 2018 की शुरुआत
* 32 टीमें 11 शहरों के 12 स्टेडियम में खेलेंगी मुकाबले
* स्टेडियमों पर खर्च किए गए हैं 29 हजार करोड़ रुपए
* मॉस्को के लुझनिकी स्टेडियम में होगा पहला और आखिरी मैच

मॉस्को. मेजबान रूस और सऊदी अरब के गुरुवार को होने वाले मुकाबले के साथ ही फीफा वर्ल्ड कप-2018 की शुरुआत हो जाएगी। ये मैच लुझनिकी स्टेडियम में खेला जाएगा। वर्ल्ड कप में रूस और सऊदी अरब की टीमें सिर्फ एक बार आमने-सामने हुई हैं। जिसमें सऊदी अरब को 4-2 से जीत मिली थी। ये पहला मौका है जब दो सबसे कम रैंकिंग वाली टीमों के बीच ओपनिंग मुकाबला खेला जा रहा है। मेजबान रूस की रैकिंग 70 और सऊदी अरब की रैंकिंग 67 है। वहीं इस वर्ल्ड कप को लेकर दुनियाभर में फैन्स की दीवानगी दिख रही है। अर्जेंटीना में जहां कैदियों ने भूख हड़ताल तक शुरू कर दी है, वहीं ब्रिटेन ने अपने 1200 लोगों को रूस जाने से रोक दिया है। स्पोर्ट्सवियर बनाने वाली कंपनी ने ईरान के प्लेयर्स को किट देने से इनकार कर दिया है। इस वजह से शुरू की हड़ताल...

 

- अर्जेंटीना की एक जेल में टीवी न चलने पर कैदी भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। कैदी चाहते हैं कि जेल के टीवी केबल सिस्टम को तुरंत ‍ठीक किया जाए, ताकि वे वर्ल्ड कप के मैच देख सकें।
- प्यूर्टो मार्डिन जेल के नौ कैदियों ने एक बयान में कहा कि केबल टेलीविजन कैदियों का अधिकार है। हमारे जेल में केबल तीन दिन से नहीं चल रहा है। जब तक इसे ठीक नहीं किया जाता, तब तक हम भूख हड़ताल पर रहेंगे। इन कैदियों ने इस मामले को लेकर कोर्ट में केस भी दायर कर दिया है।

 

ईरान की टीम को वर्ल्ड कप के लिए जूते ही नहीं दिए 

 

- स्पोर्ट्सवियर बनाने वाली कंपनी नाइकी ने ईरान की फुटबॉल टीम को जूते बेचने से इनकार कर दिया है। अमेरिकी कंपनी ने कहा, 'अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबंध लगा रखे हैं। ऐसे में अमेरिकी कंपनी होने के नाते हम ईरान की राष्ट्रीय फुटबॉल टीम को जूतों की सप्लाई नहीं कर सकते हैं।'
- ईरान के मुख्य कोच कार्लोस क्वीरोज ने कहा कि नाइकी का प्रतिबंध के बारे में बयान उचित नहीं है। उसे ईरान की टीम से माफी मांगनी चाहिए। फीफा को भी ईरान की मदद के लिए हस्तक्षेप करना चाहिए।

 

ब्रिटेन ने 1200 लोगों को रूस जाने से रोका 

 

- ब्रिटेन ने अपने 1200 नागरिकों को फीफा वर्ल्ड कप के लिए रूस जाने की इजाजत नहीं दी। इन सभी पर मैच के दौरान हुड़दंग मचाने और उत्पात करने का आरोप है। ब्रिटेन की सरकार ने पुलिस के साथ मिलकर इन हुड़दंगियों की पहचान की थी। 

 

मॉस्को में है सबसे बड़ा स्टेडियम

 

- उदघाटन और फाइनल मॉस्को के लुझनिकी स्टेडियम में होगा। जिसकी दर्शक क्षमता 81 हजार है। ये रूस का सबसे बड़ा स्टेडियम है।
- कॉलिनग्रेद स्टेडियम इस वर्ल्ड कप का सबसे छोटा स्टेडियम है। जिसकी दर्शक क्षमता 35,212 है। 
- सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम सबसे महंगा स्टेडियम है। इसकी लागत 9750 करोड़ रुपए है। 

 

वर्ल्ड कप में कमबैक करने वाली तीन प्रमुख टीमें 

 

पेरू- 36 साल के बाद पहली बार वर्ल्ड कप खेलेगा। उसने पांचवीं बार क्वालिफाई किया है। 
मिस्र- 28 साल बाद वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाई किया। ये टीम अपना तीसरा वर्ल्ड कप खेलेगी। 
मोरक्को- 20 साल बाद वर्ल्ड कप खेलेगा। ये उसका चौथा वर्ल्ड कप होगा। 

 

दो ही टीम के 200 या उससे अधिक गोल 

 

- वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा गोल करने वाली टीम की बात करें तो जर्मनी ने 106 मैचों में सबसे ज्यादा 224 गोल किए हैं, ब्राजील ने 221 गोल दागे हैं।
- इनके अलावा कोई टीम 200 गोल का आंकड़ा नहीं छू सकी हैं। अर्जेंटीना ने 131, इटली ने 128 और फ्रांस ने 106 गोल किए हैं। 

9 prisoners in an Argentina jail have gone on a hunger strike
9 prisoners in an Argentina jail have gone on a hunger strike
9 prisoners in an Argentina jail have gone on a hunger strike
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now