• Hindi News
  • Sports
  • Australian Open 2020 Preview | Australian Open 2020 Tournament Stats Preview News Statistics On Serena Williams, Sania Mirza, Novak Djokovic

ऑस्ट्रेलियन ओपन / टेनिस का 115 साल पुराना टूर्नामेंट कल से, 2016 से कोई भारतीय चैम्पियन नहीं बना; सेरेना के पास मार्गरेट की बराबरी का मौका

Australian Open 2020 Preview | Australian Open 2020 Tournament Stats Preview News Statistics On Serena Williams, Sania Mirza, Novak Djokovic
Australian Open 2020 Preview | Australian Open 2020 Tournament Stats Preview News Statistics On Serena Williams, Sania Mirza, Novak Djokovic
X
Australian Open 2020 Preview | Australian Open 2020 Tournament Stats Preview News Statistics On Serena Williams, Sania Mirza, Novak Djokovic
Australian Open 2020 Preview | Australian Open 2020 Tournament Stats Preview News Statistics On Serena Williams, Sania Mirza, Novak Djokovic

  • इस टूर्नामेंट में पिछली भारतीय चैम्पियन सानिया मिर्जा, वे 2016 में वुमन्स डबल्स जीती थीं
  • मार्गरेट कोर्ट सबसे ज्यादा 24 ग्रैंड स्लैम जीतने वाली खिलाड़ी, सेरेना 23 बार चैम्पियन बनीं
  • पुरुषों में नोवाक जोकोविच इस टूर्नामेंट में सबसे कामयाब प्लेयर रहे, उन्होंने 7 खिताब जीते

दैनिक भास्कर

Jan 19, 2020, 04:29 PM IST

खेल डेस्क. साल का पहला ग्रैंड स्लैम टेनिस टूर्नामेंट ऑस्ट्रेलियन ओपन सोमवार से मेलबर्न में खेला जाएगा। टूर्नामेंट 20 जनवरी से 2 फरवरी तक होगा। पहली बार यह टूर्नामेंट 1905 में खेला गया था। इस टूर्नामेंट को शुरू में ऑस्ट्रेलेसियन चैम्पियनशिप कहा जाता था। इसके बाद 1927 में इसका नाम बदलकर ऑस्ट्रेलियन चैम्पियनशिप कर दिया गया। 1969 में फिर से नाम बदला और यह ऑस्ट्रेलियन ओपन हो गया। 115 साल पुराने इस टूर्नामेंट में अब तक तीन भारतीय खिलाड़ियों ने कुल 8 खिताब जीते।

भारत की ओर से पहली बार लिएंडर पेस इस टूर्नामेंट को जीते थे। उन्होंने साल 2003 में मिक्स्ड डबल्स स्पर्धा में अमेरिका की मार्टिना नवरातिलोवा के साथ खिताब जीता। इसके बाद महेश भूपति 2006 में मिक्स्ड डबल्स में स्विट्जरलैंड की मार्टिना हिंगिस के साथ खेलते हुए चैम्पियन बने थे। भारत के लिए तीसरी चैम्पियन सानिया मिर्जा थीं। वे 2009 में मिक्स्ड डबल्स में हमवतन महेश भूपति के साथ फाइनल जीती थीं। भारत के लिए पिछली बार 2016 में सानिया चैम्पियन बनी थीं। उन्होंने हिंगिस के साथ यह खिताब अपने नाम किया था।

इंडोर स्टेडियम में होने वाला यह पहला ग्रैंड स्लैम
चारों ग्रैंड स्लैम में यह पहला है, जो इंडोर स्टेडियम में खेला गया था। ‘द रॉड लेवर एरेना’ में बारिश या बहुत ज्यादा गर्मी के दौरान स्टेडियम को ऊपर से ढंक दिया जाता है। 1987 तक यहां ग्रास कोर्ट पर मुकाबले होते थे। उसके बाद से हार्ड कोर्ट का इस्तेमाल किया जाता है। पिछले साल 7 लाख 96 हजार 435 दर्शकों ने स्टेडियम में मैच देखा था।

सेरेना विलियम्स 2017 में ऑस्ट्रेलियन ओपन जीती थीं।

सेरेना खिताब जीतने पर मार्गरेट कोर्ट की बराबरी कर लेंगी
अमेरिका की सेरेना विलियम्स ने अब तक 23 ग्रैड स्लैम खिताब जीते हैं। वे सबसे ज्यादा ग्रैंड स्लैम जीतने के मामले में दूसरे स्थान पर हैं। ऑस्ट्रेलिया की मार्गेट कोर्ट ने सबसे ज्यादा 24 ग्रैंड स्लैम अपने नाम किए थे। सेरेना के पास उनके रिकॉर्ड की बराबरी करने का मौका है। वे सक्रिय खिलाड़ियों में सबसे ज्यादा 7 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन जीत चुकी हैं।

फेडरर इस टूर्नामेंट में छह बार चैम्पियन बने।

फेडरर के पास जोकोविच के 7 खिताब की बराबरी करने का मौका
सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने सबसे ज्यादा 7 बार इस खिताब को अपने नाम किया। वे ओपन एरा और उससे पहले (1968 से पहले) दोनों को मिलाकर ऑलटाइम नंबर-1 हैं। इस मामले में स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर और ऑस्ट्रेलिया के रॉय इमर्सन 6-6 खिताब के साथ दूसरे स्थान पर हैं। इमर्सन ने सभी खिताब ओपन एरा से पहले जीते थे। फेडरर पिछली बार 2018 में चैम्पियन बने थे।

नडाल और बार्टी को टॉप सीड, सेरेना को आठवीं वरीयता
वर्ल्ड नंबर-1 और 2009 के चैम्पियन स्पेन के राफेल नडाल और ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी को टॉप सीड मिली है। नडाल 20वें ग्रैंड स्लैम की तलाश में उतरेंगे। अगर वे चैम्पियन बन जाते हैं तो वे सबसे ज्यादा ग्रैंड स्लैम जीतने वाले रोजर फेडरर की बराबरी कर लेंगे। जोकोविच को दूसरी, फेडरर को तीसरी और रूस के दानिल मेदवेदेव को चौथी वरीयता दी गई है। वहीं, महिलाओं में चेक गणराज्य की कैरोलिना प्लिस्कोवा को दूसरी, जापान की नाओमी ओसाका को तीसरी और रोमानिया की सिमोना हालेप को चौथी वरीयता मिली है। सेरेना को आठवीं वरीयता दी गई।

प्रजनेश गुणेश्वरण सिंगल्स में भारत के इकलौते खिलाड़ी।

इस बार सिंगल्स में सिर्फ एक ही भारतीय खिलाड़ी मुख्य दौर में
इस बार भारत के चार खिलाड़ी सिंगल्स स्पर्धा में उतरे। इनमें से एक ही प्रजनेश गुणेश्वरण मुख्य दौर में पहुंच सके। वे क्वालिफायर्स में हार गए थे, लेकिन मुख्य दौर में पहले शामिल खिलाड़ियों के चोटिल होने के बाद उन्हें मौका दिया गया। सुमित नागल, रामकुमार रामनाथन और अंकिता रैना क्वालिफाइंग राउंड में बाहर हो गईं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना