--Advertisement--

ऐलान / तीरंदाज दीपिका कुमारी की अतानु दास से सगाई 10 दिसंबर को, नवंबर 2019 में लेंगी सात फेरे



दीपिका कुमारी। (फाइल फोटो) दीपिका कुमारी। (फाइल फोटो)
X
दीपिका कुमारी। (फाइल फोटो)दीपिका कुमारी। (फाइल फोटो)

  • तीरंदाज दीपिका कुमारी को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित किया था
  • पश्चिम बंगाल में जन्मे अतानु दास भी दीपिका की तरह अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज हैं

Dainik Bhaskar

Dec 06, 2018, 04:25 PM IST

रांची. पद्मश्री से सम्मानित अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज रांची की दीपिका कुमारी और अंतराष्ट्रीय तीरंदाज अतानु दास की सगाई 10 दिसंबर को रात में होगी। यह सगाई दीपिका के पैतृक गांव रातू चट्टी में ही संपन्न होगी। अतानु मूल रूप से कोलकाता के रहने वाले हैं। दीपिका की मां गीता देवी ने बताया कि सगाई 10 दिसंबर को जबकि शादी अगले साल 2019 में नवंबर में होगी। सगाई समारोह में पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा भी शामिल होंगे। इसके अलावा आसपास के करीब 100 लोगों को निमंत्रण दिया गया है।

ऐसी है दीपिका की तीरंदाज बनने की कहानी

  1. तीरंदाज दीपिका कुमारी को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित किया था। कभी दीपिका के पास तीरंदाजी कॉम्पिटीशन में पार्टिसिपेट करने के लिए 10 रुपए भी नहीं थे। आज अपने मेहनत के बल पर वो करोड़ों की मालकिन हैं। अर्जुन अवॉर्ड पा चुकीं दीपिका ने 2011 से 13 तक लगातार 3 वर्ल्ड कप में रजत पदक अपने नाम किए हैं। पैसे की तंगी के चलते कभी दीपिका कुमारी बांस के धनुष और तीर से तीरंदाजी की प्रैक्टिस किया करती थीं। इनके पिता आज भी ऑटो रिक्शा चलाते हैं। एक बार दीपिका ने तीरंदाजी कॉम्पिटीशन में पार्टिसिपेट के लिए अपने ऑटो रिक्शा ड्राइवर पिता से 10 रुपए मांगे थे। दीपिका के पिता के पास उस वक्त 10 रुपए भी नहीं थे। हालांकि, बाद में उन्होंने कहीं से दीपिका को 10 रुपए दे दिए।

  2. कौन हैं अतानु दास

    पश्चिम बंगाल में जन्मे अतानु दास भी दीपिका की तरह अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज हैं। अतानु ने वर्ष 2008 में अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी। दीपिका और अतानु की मुलाकात कोलंबिया के मेडलिन में वर्ल्ड कप मैच के दौरान हुई थी। इस दौरान दोनों ने डबल्स का ब्रॉन्ज मेडल जीता था। मैच के बाद अतानु ने दीपिका को प्रपोज किया था लेकिन दीपिका ने इनकार कर दिया था। लेकिन धीरे-धीरे दोनों एक दूसरे के करीब आए और इसी साल अक्टूबर में दोनों ने शादी का फैसला किया। 

  3. 2007 में जूनियर चैंपियनशिप जीतकर खींचा था ध्यान

    5 अप्रैल 1992 को कोलकाता में जन्मे अतानु दास ने 14 साल की उम्र में तीरंदाजी शुरू कर दी थी। उन्होंने साल 2007 में जबलपुर में आयोजित सब जूनियर चैंपियनशिप जीतकर सबका ध्यान खींचा था। इसके बाद वे 2009 में यूथ वर्ल्ड कप खेलने तुर्की गए। फिर 2010 में यूथ ओलंपिक गेम्स खेलने सिंगापुर गए। उन्होंने 2016 में आयोजित रियो ओलिंपिक में भी भाग लिया है। यहां उन्होंने मैंस सिंगल कैटेगरी में तीरंदाजी की थी। फिलहाल, वे खेल के साथ भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड के कर्मचारी भी हैं। 

  4. कई प्रतियोगिताओं में जीत चुके हैं मेडल

    • बांग्लादेश में एशियन ग्रैंड प्रिक्स की रीकर्व मेंस इंडीविजुअल प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल। (2011)
    • बांग्लादेश में एशियन ग्रैंड प्रिक्स की रीकर्व मिक्स्ड टीम में गोल्ड मेडल। (2011)
    • पोलैंड में वर्ल्ड आर्चरी यूथ चैंपियनशिप की जूनियर मेंस टीम में गोल्ड मेडल। (2011)
    • दीपिका कुमारी के साथ कोलंबिया में वर्ल्ड कप में ब्रॉन्ज मेडल। (2013)
    • थाईलैंड में एशियन आर्चरी ग्रैंड प्रिक्स में ब्रॉन्ज मेडल।
    • पोलैंड में आर्चरी वर्ल्ड कप में रिकर्व मिक्स्ड टीम में सिल्वर मेडल। (2014)

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..