• Hindi News
  • Sports
  • Tokyo Olympics | Tokyo 2020 Olympics expected to cost 12.6 billion dollar final budget unveiled

बजट / टोक्यो ओलिंपिक में खर्च होंगे करीब 89 हजार 460 करोड़, इससे आधे में आयोजित होंगे 2028 के लॉस एंजिल्स खेल

नए बने नेशनल स्टेडियम में ही टोक्यो ओलिंपिक की ओपनिंग सेरेमनी होगी। नए बने नेशनल स्टेडियम में ही टोक्यो ओलिंपिक की ओपनिंग सेरेमनी होगी।
X
नए बने नेशनल स्टेडियम में ही टोक्यो ओलिंपिक की ओपनिंग सेरेमनी होगी।नए बने नेशनल स्टेडियम में ही टोक्यो ओलिंपिक की ओपनिंग सेरेमनी होगी।

  • 2028 के लॉस एंजेलिस ओलिंपिक में करीब 48 हजार 990 करोड़ खर्च होंगे
  • टोक्यो ओलिंपिक के बढ़ते खर्च को लेकर आयोजन समिति और जापान सरकार के बीच विवाद
  • मैराथन स्थल बदलने के खर्च को लेकर आयोजन समिति और आईओसी के बीच तकरार

दैनिक भास्कर

Dec 20, 2019, 03:12 PM IST

टोक्यो. 2020 टोक्यो ओलिंपिक में करीब 89 हजार 460 करोड़ रुपए ($12.6 डॉलर) खर्च होंगे। शुक्रवार को आयोजकों ने इन खेलों के अंतिम बजट को पेश किया। हालांकि, 2028 लॉस एंजिल्स ओलिंपिक इससे आधे यानि करीब 48 हजार 990 करोड़ में आयोजित होंगे। वहीं, 2024 पेरिस ओलिंपिक पर करीब 53 हजार 960 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसमें से करीब 10 हजार करोड़ रुपए सरकार देगी। 

जापान में ओलिंपिक खेलों में बढ़ते खर्चे को लेकर अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक कमेटी और आयोजन समिति के बीच विवाद है। खासतौर पर गर्मी के चलते मैराथन को उत्तरी शहर सापारो स्थानांतरित करने के मुद्दे पर दोनों पक्षों के बीच तकरार है। इस पर अनुमानित 3 बिलियन येन (करीब 195 करोड़ रुपए) खर्च होना है। यह खर्चा कौन उठाएगा, यह मसला अब तक सुलझा नहीं है।

गर्मी से निपटने के लिए सड़कों पर स्पेशल पेंट लगाया जाएगा

टोक्यो ओलिंपिक की आयोजन समिति में वित्तीय विभाग के कार्यकारी निदेशक गाकुजी ईतो के मुताबिक, गर्मी के चलते मैराथन का स्थान बदलने को लेकर हम रोजाना आईओसी से बात कर रहे हैं। हालांकि अब तक इसे सुलझाया नहीं जा सका है। आयोजन समिति ने गर्मी से निपटने के कई इंतजाम किए हैं। सड़कों पर गर्मी सोखने वाले पेंट के साथ ही वाटर स्प्रे छिड़का जाएगा। 

आयोजन समिति को घरेलू स्पॉन्सरशिप और टिकटों से आय में करीब 1955 करोड़ का इजाफा

आयोजन समिति के मुताबिक, घरेलू स्पॉन्सरशिप और टिकटों की बिक्री के चलते आय में करीब 1955 करोड़ का इजाफा हुआ है। हालांकि, यह राशि परिवहन, सुरक्षा और गर्मी से बचने के उपायों पर खर्च की गई राशि के बराबर है। इसके अलावा प्राकृतिक आपदाओं के लिए अलग से 1759 करोड़ का आपात फंड रखा गया है। 

आईओसी ने आयोजन समिति को खर्चों में कटौती के लिए कहा

अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक कमेटी (आईओसी) भी आयोजन के बढ़ते खर्चे से चिंतित है। उसे यह डर है कि इससे कई देश आने वाले सालों में इन खेलों की मेजबानी से कतराएंगे। ऐसे में उसने जापान से खर्चों में कटौती की अपील की है। हालांकि, जापान के कुछ खेल एसोसिएशनों को यह डर है कि बजट में कटौती से न सिर्फ खिलाड़ियों का नुकसान होगा, बल्कि खेल की भव्यता भी कम होगी। 

जापान सरकार और टोक्यो मेट्रोपॉलिटन रीजन (स्थानीय निकाय) मिलकर इन खेलों का आयोजन कर रहे हैं। बजट की हिस्सेदारी भी बराबर है। हालांकि बढ़ते खर्चे को लेकर सरकार और आयोजन समिति के बीच विवाद की स्थिति है। नए बने नेशनल स्टेडियम पर खर्च हुए करीब 9772 करोड़ रुपए ने सवाल खड़े किए हैं। सरकारी खर्चे को लेकर आई जापान के बोर्ड ऑफ ऑडिट की रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। इसके मुताबिक 2013 से 2018 के बीच सरकार ने करीब 1.06 ट्रिलियन येन खर्च किए। जो टोक्यो ओलिंपिक के बजट से 10 गुना ज्यादा है।

हालांकि, आयोजन समिति में वित्तीय विभाग के कार्यकारी निदेशक गाकुजी का मानना है, इस रिपोर्ट में अब तक जो अनुमानित खर्चा बताया गया है, उसमें वह राशि भी जोड़ी गई, जो खेलों के संचालन से सीधे नहीं जुड़ी है। 

2 साल में बनकर तैयार हुआ नया नेशनल स्टेडियम

इस बीच नेशनल स्टेडियम की एरियल तस्वीर सामने आई है। इसमें एक फोटो 19 अप्रैल 2017 की है, इस दिन नए स्टेडियम के निर्माण की शुरुआत हुई थी। वहीं, दूसरी तस्वीर 13 नवंबर 2019 की है, जब यह बनकर तैयार हो हुआ। इसी स्टेडियम में ही ओलिंपिक का उद्घाटन और समापन समारोह होगा। 

नए स्टेडियम में 87 फीसदी लकड़ी का इस्तेमाल हुआ 

नए बने नेशनल स्टेडियम में 87% लकड़ी का इस्तेमाल हुआ है। यह लकड़ी जापान के उन 47 प्रांत के जंंगलों से लाई गई, जो 2011 में आई सुनामी से तबाह हो गए थे। इसका मकसद है- दर्शक प्रकृति से जुड़े रहें और उन्हें गर्मी न लगे। इसके लिए यहां 185 बड़े पंखे और 8 स्थानों पर कूलिंग नाेजल भी लगाए गए हैं। 5 मंजिला मुख्य स्टेडियम करीब 10 हजार करोड़ रुपए में तैयार हुआ है। यहां 60 हजार दर्शक बैठ सकेंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना