--Advertisement--

यूथ ओलिंपिक / शटलर लक्ष्य ने रजत जीता, आठ साल बाद किसी भारतीय शटलर को पदक मिला



अपने पदक के साथ लक्ष्य सेन (बाएं)। अपने पदक के साथ लक्ष्य सेन (बाएं)।
X
अपने पदक के साथ लक्ष्य सेन (बाएं)।अपने पदक के साथ लक्ष्य सेन (बाएं)।
  • भारतीय खिलाड़ियों ने इस टूर्नामेंट में अब तक तीन स्वर्ण समेत सात पदक जीते
  • निशानेबाजों ने सबसे ज्यादा चार पदक जीते, उनके नाम दो गोल्ड, दो सिल्वर

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 03:38 PM IST

ब्यूनस आयर्स. भारत के युवा बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने यूथ ओलिंपिक में पुरुष सिंगल्स का रजत पदक जीता। वे खिताबी मुकाबले में चीन के ली शिफेंग से हार गए। चीनी खिलाड़ी ने उन्हें 21-15, 21-19 से मात दी। 42 मिनट तक चले इस मुकाबले के पहले गेम में शिफेंग ने लक्ष्य को आसानी से हराया। हालांकि, दूसरे गेम में लक्ष्य ने शिफेंग को कड़ी टक्कर दी, लेकिन आखिर में वे जरूरी दो अंकों की बढ़त बना नहीं पाए और स्वर्ण पदक से चूक गए। इस इवेंट में किसी भारतीय ने आठ साल बाद पदक जीता है। उनसे पहले एचएस प्रणय ने 2010 सिंगापुर यूथ ओलिंपिक में रजत पदक जीता था।

यूथ ओलिंपिक में पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय

  1. मैच के बाद लक्ष्य ने चीनी प्रतिद्वंद्वी के बारे में कहा, ‘उन्होंने शानदार खेल खेला और अहम अंक जीतने में सफल रहे। मैं खुद को ज्यादा आगे नहीं ले जा पाया। हालांकि, मैं इस इवेंट में पदक जीतने वाला दूसरा भारतीय बनकर खुश हूं।’

  2. लक्ष्य की जीत पर भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) के अध्यक्ष हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा, ‘लक्ष्य विश्वस्तरीय खिलाड़ी हैं। मैं उन्हें यूथ ओलिंपिक में पदक जीतने पर बधाई देता हूं। उन्होंने सेमीफाइनल में जिस तरह का खेल दिखाया, उससे मैं काफी खुश हूं। मैं कह सकता हूं कि आने वाले समय में वे विश्व बैडमिंटन में छाने वाले हैं।’

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..