एशियाड: 67 साल के इतिहास में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन, 69 पदक जीते; टॉप-5 में जगह बनाने में नाकाम रहा

DainikBhaskar.com | Sep 02,2018 16:28 PM IST

एशियाई खेलों में शनिवार को भारत का अभियान समाप्त हो गया। भारत ने पिछले 14 दिन में इन खेलों में 15 स्वर्ण, 24 रजत और 30 कांस्य समेत कुल 69 पदक जीते।एशियाड के 67 साल के इतिहास में सबसे ज्यादा स्वर्ण और कुल पदक जीतने के लिहाज से इस बार का प्रदर्शन सबसे बेहतरीन रहा। 1951 के एशियाड में भारत ने कुल 51 पदक जीते थे। तब भारत को 15 स्वर्ण, 16 रजत और 20 कांस्य पदक मिले थे। पदक तालिका में दूसरा स्थान था।

एथियाड: कभी ग्लव्स खरीदने के लिए नहीं थे पैसे, अब ओलिंपिक चैम्पियन को हराकर जीता गोल्ड

DainikBhaskar.com | Sep 02,2018 13:04 PM IST

भारत के अमित पंघाल ने बॉक्सिंग में लाइट फ्लाईवेट (49 किग्रा) कैटेगरी का गोल्ड मेडल जीता। 22 साल के अमित ने रियो ओलिंपिक चैम्पियन उज्बेकिस्तान के हसनबॉय दुस्मतोव को 3-2 से हराया। जीतने के बाद अमित ने कहा कि अंतिम दिन केवल मेरा मुकाबला बचा था और वह भी फाइनल। भारत को मौजूदा गेम्स में बॉक्सिंग में एक भी गोल्ड नहीं मिला था। इसलिए यह मेरी अब तक की सबसे बड़ी जीत है।

एशियाड: अमित ने मुक्केबाजी में स्वर्ण जीता; ब्रिज में 60 साल के प्रणब, 56 के शिबनाथ की जोड़ी को गोल्ड

DainikBhaskar.com | Sep 01,2018 23:57 PM IST

एशियाड में शनिवार को मुक्केबाजी के 49 किग्रा भार वर्ग में अमित पंघाल ने भारत को गोल्ड मेडल दिलाया। वहीं, ब्रिज में प्रणब बर्धन (60 साल) और शिबनाथ सरकार (56) की जोड़ी ने मेन्स पेयर स्पर्धा में गोल्ड दिलाया। भारत के नाम अब 15 स्वर्ण समेत 67 पदक हो गए। अमित इस वर्ग में पदक जीतने वाले भारत के दूसरे मुक्केबाज हैं। उनसे पहले बिरजू शाह ने 1994 में इस स्पर्धा का कांस्य पदक जीता था।

एशियाडः पुरुष हॉकी में भारत को लगातार चौथा पदक, पाकिस्तान को 2-1 से हराकर कांस्य जीता

DainikBhaskar.com | Sep 01,2018 19:13 PM IST

भारत ने शनिवार को एशियाड में पुरुष हॉकी का कांस्य पदक जीत लिया। उसने तीसरे और चौथे स्थान के लिए हुए मुकाबले में पाकिस्तान को 2-1 से हराया। मैच का पहला गोल भारत के आकाशदीप ने किया। उन्होंने ललित उपाध्याय के पास पर तीसरे मिनट में गोल किया। उनके बाद हरमनप्रीत सिंह ने 50वें मिनट में दूसरा गोल किया। पाकिस्तान के लिए मोहम्मद अतीक ने 52वें मिनट में गोल किया। भारत को दो पेनल्टी कॉर्नर मिले, जिसमें से एक को हरमनप्रीत ने गोल में बदला। वहीं, पाकिस्तान को चार पेनल्टी कॉर्नर मिले, लेकिन वह एक भी गोल नहीं कर सका। दोनों टीमें पहली बार एशियाई खेलों में कांस्य के लिए एक-दूसरे के खिलाफ आमने-सामने थीं।