धोनी जैसा दूसरा खिलाड़ी नहीं होगा:अश्विन बोले- माही धीरे खेले या तेज, पर बाकी खिलाड़ी भी उस जैसा बनना चाहते हैं

कोलकाता8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चेन्नई सुपर किंग्स के पूर्व खिलाड़ी और IPL-15 में राजस्थान रॉयल्स के लिए खेल रहे ऑफ-स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने एक इंटरव्यू में एम एस धोनी की जमकर तारीफ की। अपने फिनिशिंग स्किल्स के लिए पॉपुलर माही की तारीफ करते हुए अश्विन ने कहा- टी-20 क्रिकेट में बैटिंग ऑर्डर में नीचे आकर बल्लेबाजी करना ऐसी चीज है जो आप कभी नहीं करना चाहते पर मैंने धोनी को ऐसा लंबे समय तक ये करते देखा है। उन्हें देखकर मैं यही सोचता था कि ये कितना अद्भुत खिलाड़ी है।

धोनी की कितनी ही आलोचना हो, पर बाकी खिलाड़ी भी उस जैसा बनना चाहते हैं

अश्विन ने आगे कहा- धोनी को हमेशा इस बात के लिए काफी आलोचना झेलनी पड़ी कि वो गेम को स्लो कर देते हैं; पर खेल को डीप लेकर जाने और फिर उसे फिनिश करने की उनकी क्षमता शानदार है। वो इतने बेहतरीन खिलाड़ी हैं कि बाकी भी उनके जैसा बनना चाहते हैं। हालांकि, मुझे नहीं लगता कि कभी कोई दूसरा एमएस धोनी भी बन सकता है।

अश्विन ने ये बातें मंगलवार को राजस्थान रॉयल्स और गुजरात टाइटंस के बीच प्लेऑफ मुकाबले से पहले टीम को दिए एक इंटरव्यू में कही। रविचंद्रन अश्विन 2008 से 2015 तक आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स का हिस्सा थे। CSK के लिए खेले 120 मुकाबलों में अश्विन ने 121 विकेट लिए थे और वे अब भी चेन्नई के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में दूसरे नंबर पर हैं।

दूसरी टीमों में तो पूरे सीजन में सिर्फ 40 बॉल ही खेलने को मिलती थी

राजस्थान रॉयल्स में टॉप ऑर्डर में बैटिंग करने के बारे में अश्विन ने कहा कि अधिकतर टीमों में मुझे बैटिंग करने के कम मौके मिलते थे। मैं सातवें, आठवें और नवें नंबर पर बैटिंग करता था। मुझे पूरे सीजन में लगभग 40 बॉल खेलने को मिलती थी और एक ऐसे खिलाड़ी के लिए ये काफी मुश्किल था जिसे थोड़ी-बहुत बैटिंग आती है।

मौजूदा सीजन में अश्विन 14 मुकाबलों में 30.50 के औसत से 183 रन बना चुके हैं। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 146 से ऊपर का रहा है। इसी सीजन में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मुकाबले में अश्विन ने अपने T-20 करियर का पहला अर्धशतक भी बनाया।

ज्यादा एक्सपेरिमेंट करने के लिए मेरी काफी आलोचना हुई

मैदान पर बैटिंग और बॉलिंग में अपने शानदार प्रदर्शन से चर्चा में रहे अश्विन ने बताया कि उन्हें जरूरत से ज्यादा चीजें करने के लिए उन्हें काफी आलोचना भी झेलनी पड़ी। अश्विन ने कहा "लोग सवाल करते थे कि आखिर मैं ऐसा क्यों कर रहा हूं? मैं क्या जरूरत से ज्यादा चीजें पाना चाहता हूं? पर मैं ऐसा ही हूं। अगर आप मुझमें से ये एटिट्यूड निकाल देंगे तो आपको अश्विन मिलेगा ही नहीं।”

अश्विन अक्सर मैदान पर नई-नई चीजें ट्राई करने को लेकर चर्चा में रहते हैं। हाल ही में लखनऊ के खिलाफ मुकाबले में अश्विन IPL में रिटायर-आउट होने वाले पहले बल्लेबाज बने थे।