दानिश को हिंदू होने की सजा मिली:पूर्व PAK स्पिनर का आरोप- अफरीदी ने फिक्सिंग में फंसाया, उम्रभर का प्रतिबंध हटाया जाए

इस्लामाबाद7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान के पूर्व स्पिनर दानिश कनेरिया ने शाहिद अफरीदी पर दुर्व्यवहार का आरोप लगाते हुए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से आजीवन प्रतिबंध हटाने का अनुरोध किया है। दानिश कनेरिया पर साल 2013 में स्पॉट फिक्सिंग के आरोप लगे थे, जिसमें वह दोषी पाए गए। दानिश कनेरिया ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया है कि पाकिस्तान के कप्तान रहे अफरीदी ने उनके खिलाफ हिंदू होने के कारण साजिश रची थी।

शोएब अख्तर ने सबसे पहले हिंदू होने के कारण कनेरिया के साथ हुए भेदभाव से उठाया था पर्दा
गौरतलब है कि बीते साल शोएब अख्तर ने चौंकाने वाला खुलासा किया था कि हिंदू होने की वजह से पाकिस्तान टीम ने दानिश कनेरिया के साथ अन्याय किया था। कनेरिया ने IANS से बातचीत में कहा, शोएब अख्तर सार्वजनिक रूप से मेरी समस्या के बारे में बात करने वाले पहले व्यक्ति थे। शोएब ने अपने बयान में कहा था कि हिंदू होने के कारण दानिश के साथ टीम में बुरा बर्ताव हुआ।

आगे दानिश कहते हैं कि बाद में कई अधिकारियों द्वारा उन पर दबाव डालने के बाद शोएब ने मेरे साथ हुए भेदभाव पर बात करना बंद कर दिया। लेकिन हां, यह मेरे साथ हुआ। मुझे शाहिद अफरीदी ने हमेशा नीचा दिखाया। हम एक ही टीम के लिए एक साथ खेलते थे, जहां वह अक्सर मुझे बेंच पर बैठाते थे और वनडे टूर्नामेंट नहीं खेलने देते थे।

शाहिद नहीं चाहते थे कि मैं टीम में रहूं- दानिश कनेरिया
दानिश कनेरिया ने IANS को बताया, “शाहिद नहीं चाहते थे कि मैं टीम में रहूं। वह झूठे व्यक्ति हैं। हालांकि, मेरा ध्यान केवल क्रिकेट पर था और मैं इन सभी बातों को अनदेखा करता था। वह शाहिद अफरीदी ही थे, जो अन्य खिलाड़ियों के पास जाते और उन्हें मेरे खिलाफ भड़काते थे। मैं अच्छा प्रदर्शन कर रहा था और उन्हें मुझसे जलन हो रही थी। मुझे गर्व है कि मैं पाकिस्तान के लिए खेला। मैं इसके लिए PCB का आभारी हूं।”

अगर अफरीदी कप्तान नहीं होते तो बड़ा होता वनडे करियर
पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि अगर वह अफरीदी की कप्तानी में नहीं होते तो वह 19 वनडे मैचों की तुलना में बहुत अधिक मैच खेल सकते थे। कराची में जन्मे इस खिलाड़ी ने यह भी कहा कि वह कभी भी किसी भी तरह की स्पॉट फिक्सिंग में शामिल नहीं रहे।

उन्होंने आगे कहा, “मेरे खिलाफ स्पॉट फिक्सिंग के कुछ झूठे आरोप लगाए गए थे। मेरा नाम मामले में शामिल व्यक्ति के साथ जोड़ा गया था। वह अफरीदी समेत अन्य पाकिस्तानी क्रिकेटरों का भी दोस्त था, लेकिन मुझे नहीं पता कि मैं इसमें क्यों शामिल किया गया था। मैं सिर्फ PCB से प्रतिबंध हटाने का अनुरोध करना चाहता हूं, ताकि मैं अपना काम कर सकूं।”

दानिश कनेरिया के करियर पर एक नजर
साल 2000 और 2010 के बीच कनेरिया ने 61 टेस्ट मैच खेले, जिसमें 34.79 की औसत से 261 विकेट लिए। उन्होंने 18 वनडे मैचों में 45.53 की औसत से 15 विकेट लेकर पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व किया।

वह टेस्ट में पाकिस्तान के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले स्पिनर बने हुए हैं और वसीम अकरम (414), वकार यूनिस (373) और इमरान खान (362) के बाद ऑल टाइम लिस्ट में चौथे स्थान पर हैं।