धोनी पर भास्कर एक्सक्लूसिव:अगले साल से IPL नहीं खेलेंगे धोनी, CSK मैनेजमेंट ने कहा- जाने से पहले अगला कप्तान तैयार करें माही

राजकिशोर6 महीने पहले

IPL के महज दो दिन पहले महेंद्र सिंह धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) की कप्तानी छोड़ने का फैसला लिया। जबसे IPL शुरू हुआ है, तब से पहली बार यानी 14 साल में पहली बार CSK का कप्तान बदला जा रहा है। चेन्नई और धोनी के फैन हैरान हैं। मन में सवाल है कि ऐसा आखिर क्यों? भास्कर को CSK के एक ऑफिशियल ने इस फैसले की वजह बताई। अधिकारी ने बताया कि धोनी का यह IPL सीजन आखिरी होगा। IPL मैनेजमेंट को इससे ऐतराज नहीं है, पर वह चाहता है कि धोनी अपने रहते ही एक कप्तान तैयार कर दें। पढ़िए धोनी के इस्तीफे से जुड़ी अहम वजहें...

1. जडेजा को चुना गया, क्योंकि प्रपोजल धोनी ने ही रखा
CSK की बात पर धोनी भी राजी हैं यानी नए कप्तान को तैयार करने पर। सूत्रों ने भास्कर को बताया कि धोनी ने ही जडेजा के नाम का प्रपोजल रखा और इसे मंजूर कर लिया गया। जडेजा का ऑलराउंडर होना इसकी सबसे बड़ी वजह है। पिछले 2 साल से जडेजा की परफॉर्मेंस में निखार भी इसकी वजह है। रिटेंशन के वक्त ही इस बात के संकेत मिल गए थे कि कप्तान बदला जाएगा। CSK ने जडेजा को 16 करोड़ में रिटेन किया था, जबकि धोनी को 12 करोड़ में।

2. अब ज्यादातर फ्रेंचाइजियों का फोकस युवाओं पर
IPL में इस बार 10 टीमें खेल रही हैं। किसी भी कप्तान की उम्र 37 साल से ज्यादा की नहीं है। 10 में से 5 टीमों के कैप्टन अंडर 30 हैं, 4 अंडर 35 और सिर्फ एक 35 प्लस है। वो हैं फॉफ डु प्लेसिस जो इस बार बेंगलुरु के कैप्टन बनाए गए हैं। चेन्नई ने भी जडेजा को चुना है, जिनकी उम्र 33 साल है। यानी यंग कैप्टन के ट्रेंड को अब चेन्नई भी अपनाना चाहती है।

3. टीम का रिजल्ट बेहतर पर धोनी का परफॉर्मेंस खराब
IPL के 14 सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स का रिपोर्ट कार्ड देखें तो वो काफी बेहतर है। टीम 14 साल में 9 बार फाइनल में पहुंची है और 4 बार खिताब जीता है। 2021 यानी पिछले साल भी चेन्नई ने ही IPL टाइटल जीता। पर धोनी की परफॉर्मेंस पिछले दो सालों में बहुत खराब रही है। 2020 में धोनी ने 14 पारियों में केवल 200 रन बनाए थे। 2021 की 16 पारियों में 16.29 के साधारण औसत से 114 रन बनाए थे।

4. CSK को मेंटर चाहिए और धोनी भी यही चाहते हैं
हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में गौतम गंभीर ने कहा था कि 4 और 5 नंबर पर बल्लेबाजी करने वाले धोनी पिछले सीजन में 6 और 7 नंबर पर नजर आए थे। जडेजा को भी खुद से पहले बैटिंग के लिए भेजा था। गंभीर का मानना है कि ये धोनी का सोचा समझा प्लान था। अब वे केवल विकेटकीपर रहना चाहते हैं और टीम के मेंटर। उन्होंने 2021 के टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के लिए भी यही भूमिका निभाई थी। ऐसे में माना जा सकता है कि टीम के मेंटर के तौर पर खुद को तैयार करने के लिए धोनी ने कैप्टेंसी से इस्तीफा दे दिया हो।

5. प्लेयर के तौर पर ये आखिरी आईपीएल सीजन हो सकता है
खराब फॉर्म और बढ़ती उम्र जैसी कंडीशन को देखते हुए यह माना जा रहा है कि आईपीएल का 15वां सीजन धोनी का आखिरी सीजन हो सकता है। वे टीम के साथ निश्चित तौर पर जुड़े रहेंगे। हालांकि, भविष्य में उनका रोल क्या होगा, यह साफ होना अभी बाकी है। हां, धोनी जिस तरह से अपने करियर में चौंकाने वाले फैसले लेते रहे हैं, उसे देखकर कुछ भी पुख्ता तौर पर कहना मुश्किल है।

6. कैप्टेंसी के ऑप्शन तैयार करना, पहला नंबर ऑलराउंडर
CSK के लिए धोनी को अपने जैसा ही विकल्प तैयार करना है। पहले ऑप्शन पर जडेजा चुने गए हैं, जो ऑलराउंडर हैं। फील्ड पर रहते हुए ही वो उन्हें गेम प्लान और स्ट्रैटजी की ट्रेनिंग देंगे। ऐसा नहीं है कि जडेजा ही ऑप्शन हैं। उनके बाद ऋतुराज गायकवाड को भी ऑप्शन के तौर पर देखा जा रहा है। क्योंकि, 33 साल के जडेजा लॉन्ग टर्म सॉल्यूशन नहीं होंगे।