IPL फाइनल के बाद ट्रेंड में #fixing:टॉस जीतने के बावजूद RR ने पहले की बैटिंग, चहल ने गिल का ड्रॉप किया कैच...फैंस ने उठाए सवाल

अहमदाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रविवार को IPL-15 के फाइनल में गुजरात टाइटंस की जीत के बाद #fixing सोशल मीडिया में ट्रेंड करने लगा। मैच खत्म होते ही फाइनल के फिक्स होने वाली पोस्ट की बाढ़ आ गई। कुछ फैंस इसे सिरे से नकार रहे थे, तो कुछ इसके समर्थन में पोस्ट कर रहे थे।

आइए जानते हैं कि फैंस सोशल मीडियो पर किन मोमेंट्स को लेकर ये आरोप लगा रहे हैं कि फाइनल तो फिक्स था...हम फैंस के ऐसे ही कुछ पोस्ट भी नीचे दे रहे हैं...
http://चैंपियन गुजरात को मिले 20 करोड़, राजस्थान भी मालामाल, जाने कौन से प्लेयर पर कितनी हुई पैसों की बारिश

RR टॉस जीतकर बल्लेबाजी
RR के कप्तान संजू सैमसन ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी को चुना, जबकि GT ने लीग में सबसे ज्यादा मुकाबले चेज करते हुए ही जीते हैं। उसने चेज करते हुए 9 में से आठ मैच में जीत हासिल की है, जबकि एक गंवाया है। ऐसे में कप्तान संजू सैमसन के फैसले पर सवाल उठने लगे। उनका यह निर्णय गलत भी साबित हुआ और टीम बड़ा स्कोर नहीं कर सकी। उसने गुजरात के सामने जीत के लिए 130 रन का सामान्य-सा स्कोर ही खड़ा कर सकी। इससे फैंस टॉस के बाद काफी नाराज थे।

राजस्थान का टॉप ऑर्डर
टॉस जीतकर पहले खेलने उतरे RR के ओपनर्स ने तो अच्छी शुरुआत की, लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल सके। इन दोनों के बीच सबसे बड़ी 31 रनों की ओपनिंग साझेदारी हुई। यशस्वी जायसवाल ने 22 और जोस बटलर ने 39 रन बनाए। कप्तान सैमसन और पडि्डकल भी फेल रहे। टॉप आर्डर के आउट होने के बाद RR मिडिल ऑर्डर पूरी तरह धराशाई हो गया। दोनों ओपनर्स के बाद कोई अन्य बल्लेबाज 15+ स्कोर नहीं कर सका।

http://बीच मैच में पंत की बगावत, विराट की बेबसी ने तोड़ा फैंस का दिल; धोनी के सामने झुके जडेजा

बटलर का विकेट
टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले जोस बटलर फाइनल में बड़ी पारी नहीं खेल सके। बटलर ने मौजूदा सीजन में 863 रन बनाए हैं। इनमें चार शतक और चार अर्धशतक शामिल हैं, लेकिन जब टीम को उनकी बड़ी पारी की सबसे ज्यादा जरूरत थी तो वे शतक या अर्धशतक नहीं जमा सके।

चहल का कैच ड्रॉप
फाइनल में युजवेंद्र चहल का कैच ड्रॉप भी सबसे चर्चा में रहा। चहल ने दूसरी पारी के पहले ही ओवर में शार्ट फाइन लेग में शुभमन गिल का आसान-सा कैच ड्रॉप कर दिया। गिल ने GT के लिए सबसे ज्यादा 45 रन बनाए। उन्होंने छक्का जमाते हुए टीम को जीत दिलाई।

http://पहले जोरदार गेंदबाजी से राजस्थान की कमर तोड़ी, फिर अंपायर के साथ मस्ती-मजाक भी किया

अश्विन की इकोनॉमी, पराग की फील्डिंग
आर. अश्विन ने फाइनल मुकाबले में 10.66 की इकोनॉमी से गेंदबाजी की। उन्होंने तीन ओवर में 32 रन खर्च किए और उनके खाते में एक भी विकेट नहीं आया। गिने-चुने मैचों पर ही ऐसा हुआ है जब उन्हें विकेट नहीं मिला। उन्होंने खराब फील्डिंग भी की। रेयान पराग की फील्डिंग भी औसत दर्जे की रही।