मुंबई-पंजाब मैच के 10 जबर्दस्त PHOTOS:अर्से बाद गरजा हार्दिक पंड्या का बल्ला, तीन मैचों के बाद रितिका के चेहरे पर लौटी खुशी; गेल की टोपी उड़ी

2 महीने पहले

खुद को IPL में बचाए रखने की जंग लड़ रहीं दो टीमें पंजाब और मुंबई के बीच मंगलवार को एक रोमांचक मुकाबला हुआ। मैच से पहले दोनों टीमें 10 में से 4-4 मैच जीती थीं। दोनों के लिए 11वां मैच बहुत अहम था और दोनों ने इसे उसी अंदाज में खेला भी। आइए इस मैच की सबसे रोमांचक 10 तस्वीरों से गुजरते हैं।

ये मुंबई के फील्डर पोलार्ड हैं। ये अपनी टीम के लिए रन बचाने का एक भी मौका नहीं छोड़ रहे थे, भले उन्हें मैदान में गिरना पड़े।
ये मुंबई के फील्डर पोलार्ड हैं। ये अपनी टीम के लिए रन बचाने का एक भी मौका नहीं छोड़ रहे थे, भले उन्हें मैदान में गिरना पड़े।
ये भी मुंबई के फील्डर ट्रेंट बोल्ट हैं। ये आईपीएल में अपनी टीम के लिए जोखिम लेने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। ये जानते हुए भी कि उन्‍हें आईपीएल के ठीक दो दिन बाद शुरू होने जा रहे टी-20 वर्ल्ड कप में म न्यूजीलैंड के लिए खेलना है।
ये भी मुंबई के फील्डर ट्रेंट बोल्ट हैं। ये आईपीएल में अपनी टीम के लिए जोखिम लेने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। ये जानते हुए भी कि उन्‍हें आईपीएल के ठीक दो दिन बाद शुरू होने जा रहे टी-20 वर्ल्ड कप में म न्यूजीलैंड के लिए खेलना है।
42 साल के क्रिस गेल भी अपनी टीम पंजाब के लिए जब मैदान में फील्डिंग करने उतरे तो पूरी जान झोंकते नजर आए। वो आमतौर पर अपनी टोपी नहीं निकालते हैं। अगर उन्हें बॉलिंग करनी होती है तो भी वो टोपी पहने बॉलिंग करते हैं। लेकिन यहां फील्डिंग करते वक्त उनकी टोपी गिरी तो उन्होंने इसकी फिक्र नहीं की। पहले उन्होंने गेंद को पकड़ने को तरजीह दी।
42 साल के क्रिस गेल भी अपनी टीम पंजाब के लिए जब मैदान में फील्डिंग करने उतरे तो पूरी जान झोंकते नजर आए। वो आमतौर पर अपनी टोपी नहीं निकालते हैं। अगर उन्हें बॉलिंग करनी होती है तो भी वो टोपी पहने बॉलिंग करते हैं। लेकिन यहां फील्डिंग करते वक्त उनकी टोपी गिरी तो उन्होंने इसकी फिक्र नहीं की। पहले उन्होंने गेंद को पकड़ने को तरजीह दी।
पंजाब के एडेन मार्करम के पास जब गेंद आई तो उन्होंने हवा में झूलकर गेंद पकड़ने की कोशिश की। हालांकि गेंद उनसे छिटक गई। मैच में इतना दबाव था कि आखिर में दीपक हूडा जैसे अच्छे फील्डर से भी दो बार मिस-फील्डिंग हुई।
पंजाब के एडेन मार्करम के पास जब गेंद आई तो उन्होंने हवा में झूलकर गेंद पकड़ने की कोशिश की। हालांकि गेंद उनसे छिटक गई। मैच में इतना दबाव था कि आखिर में दीपक हूडा जैसे अच्छे फील्डर से भी दो बार मिस-फील्डिंग हुई।
पोलार्ड (ऊपर की ओर उंगली उठाए हुए) जोरदार बॉलिंग करते हुए दिखे। इसी दौरान जब उन्हें 300वां विकेट मिला तो वो ऊपर देखते हुए बात करते नजर आए। जैसे भगवान का शुक्रिया कर रहे हों।
पोलार्ड (ऊपर की ओर उंगली उठाए हुए) जोरदार बॉलिंग करते हुए दिखे। इसी दौरान जब उन्हें 300वां विकेट मिला तो वो ऊपर देखते हुए बात करते नजर आए। जैसे भगवान का शुक्रिया कर रहे हों।
अंपायर ने पोलार्ड की बात नहीं सुनी तो वे अंपायर के कंधे पर हाथ रखकर उन्हें समझाने लगे। अमूमन इस तरह से खिलाड़ियों को अंपायर के कंधे पर हाथ रखकर चलते हुए नहीं देखा जाता है। लेकिन मुंबई पर इस मैच में इतना दबाव था कि वो कोई मौका गंवाना नहीं चाहती थी।
अंपायर ने पोलार्ड की बात नहीं सुनी तो वे अंपायर के कंधे पर हाथ रखकर उन्हें समझाने लगे। अमूमन इस तरह से खिलाड़ियों को अंपायर के कंधे पर हाथ रखकर चलते हुए नहीं देखा जाता है। लेकिन मुंबई पर इस मैच में इतना दबाव था कि वो कोई मौका गंवाना नहीं चाहती थी।
MI के लिए लड़ते हुए एक गेंद सौरभ तिवारी के हाथ पर आकर लगी। गेंद इतनी तेज थी वो अपनी जगह पर बैठकर दर्द से कराह उठे। लेकिन उन्होंने पवेलियन लौटना मुनासिब नहीं समझा। थोड़ी देर में वो फिर से बल्ला लेकर तैयार हो गए। तिवारी ने 37 गेंद में 45 रन बनाए। इसमें उन्होंने 3 चौके और 2 छक्के भी लगाए।
MI के लिए लड़ते हुए एक गेंद सौरभ तिवारी के हाथ पर आकर लगी। गेंद इतनी तेज थी वो अपनी जगह पर बैठकर दर्द से कराह उठे। लेकिन उन्होंने पवेलियन लौटना मुनासिब नहीं समझा। थोड़ी देर में वो फिर से बल्ला लेकर तैयार हो गए। तिवारी ने 37 गेंद में 45 रन बनाए। इसमें उन्होंने 3 चौके और 2 छक्के भी लगाए।
इस मैच में अर्से बाद हार्दिक पंड्या का बल्ला बोला। एक मौका था जब 92 रन पर 4 विकेट गिर गए थे। गेंद बची 29 और जीतने के लिए रन बनाने थे 43, और मैदान पर आए हार्दिक लंबे वक्त से रन नहीं बना रहे थे। तभी बॉलिंग के लिए मोहम्मद शमी आए और उन्होंने हार्दिक को एक बाउंसर फेंकी जो सीधे जाकर उनके कंधे से टकराई। इसके बाद हार्दिक ने उसी ओवर में 2 चौके और 1 छक्का मारा। इसके बाद शमी के ही 19वें ओवर में फिर से चौका और एक छक्का मारकर मैच खत्म कर दिया।
इस मैच में अर्से बाद हार्दिक पंड्या का बल्ला बोला। एक मौका था जब 92 रन पर 4 विकेट गिर गए थे। गेंद बची 29 और जीतने के लिए रन बनाने थे 43, और मैदान पर आए हार्दिक लंबे वक्त से रन नहीं बना रहे थे। तभी बॉलिंग के लिए मोहम्मद शमी आए और उन्होंने हार्दिक को एक बाउंसर फेंकी जो सीधे जाकर उनके कंधे से टकराई। इसके बाद हार्दिक ने उसी ओवर में 2 चौके और 1 छक्का मारा। इसके बाद शमी के ही 19वें ओवर में फिर से चौका और एक छक्का मारकर मैच खत्म कर दिया।
फेज 2 में 3 मैच हारकर लगभग आईपीएल से बाहर होने की स्टेज में डिफेंडिंग चैंपियंस मुंबई ने जब वापसी की तो स्टैंड में बैठी कप्तान रोहित शर्मा की पत्नी रितिका (सफेद लिबास में आंखें भींची हुईं) भी भावुक हो गईं।
फेज 2 में 3 मैच हारकर लगभग आईपीएल से बाहर होने की स्टेज में डिफेंडिंग चैंपियंस मुंबई ने जब वापसी की तो स्टैंड में बैठी कप्तान रोहित शर्मा की पत्नी रितिका (सफेद लिबास में आंखें भींची हुईं) भी भावुक हो गईं।
इमोशन, स्ट्रगल और तनातनी से भरे इस मैच में खेल भावना भी देखने को मिली। एक बार ऐसा हुआ कि क्रुणाल पंड्या की गेंद पर मंदीप ने शॉट लगाया। गेंद जाकर लगी नॉन स्ट्राइक एंड पर खड़े बल्लेबाज केएल राहुल को। उनको लगने के बाद गेंद क्रुणाल के हाथ में आ गई। क्रुणाल ने गेंद पकड़कर स्टंप उखाड़ दिया और राहुल के आउट होने की अपील करने लगे। क्योंकि राहुल उस वक्त तक क्रीज से बाहर नजर आ रहे थे। लेकिन क्रुणाल ने खेल भावना को ध्यान में रखकर अपील वापस ले ली। क्योंकि गेंद राहुल के पैर में लगी थी और वो भाग नहीं पाए थे।
इमोशन, स्ट्रगल और तनातनी से भरे इस मैच में खेल भावना भी देखने को मिली। एक बार ऐसा हुआ कि क्रुणाल पंड्या की गेंद पर मंदीप ने शॉट लगाया। गेंद जाकर लगी नॉन स्ट्राइक एंड पर खड़े बल्लेबाज केएल राहुल को। उनको लगने के बाद गेंद क्रुणाल के हाथ में आ गई। क्रुणाल ने गेंद पकड़कर स्टंप उखाड़ दिया और राहुल के आउट होने की अपील करने लगे। क्योंकि राहुल उस वक्त तक क्रीज से बाहर नजर आ रहे थे। लेकिन क्रुणाल ने खेल भावना को ध्यान में रखकर अपील वापस ले ली। क्योंकि गेंद राहुल के पैर में लगी थी और वो भाग नहीं पाए थे।