• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Ipl
  • Indian Hockey Teams Will Not Participate In The Commonwealth Games To Be Held In England England Refused To Come To India For The Junior World Cup

खेल में कोरोना का साइड इफेक्ट:भारतीय हॉकी टीमें इंग्लैंड में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा नहीं लेंगी, इंग्लैंड ने भी भारत आने से किया था इनकार

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। महिला टीम ने चौथा स्थान हासिल किया था। - Dainik Bhaskar
भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। महिला टीम ने चौथा स्थान हासिल किया था।

कोरोना की वजह से भारत और इंग्लैंड के बीच चल रही खींचतान अब खेल तक पहुंच गई है। हॉकी इंडिया ने अगले साल जुलाई-अगस्त में इंग्लैंड के बर्मिंघम में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए टीमें न भेजने का फैसला लिया है।

इससे पहले इंग्लैंड ने इस साल नवंबर-दिसंबर में भुवनेश्वर में होने वाले जूनियर वर्ल्ड से नाम वापस ले लिया था। माना जा रहा है कि हॉकी इंडिया का फैसला इसी का जवाब है। इंग्लैंड के अलावा ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने भी कोरोना का हवाला देते हुए जूनियर वर्ल्ड में टीमें न भेजने का फैसला किया है।

इंग्लैंड में कोरोना से हालात खराब
हॉकी इंडिया ने अपने बयान में कहा है कि पूरे यूरोप में इंग्लैंड में कोरोना महामारी की स्थिति सबसे खराब है। वहां अब भी बड़ी संख्या में पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं। इस लिहाज से वहां टीमें भेजना सुरक्षित नहीं होगा।

एशियन गेम्स हॉकी इंडिया की प्राथमिकता
हॉकी इंडिया ने साथ ही यह भी कहा कि भारत के लिए एशियन गेम्स ज्यादा बड़ी प्राथमिकता है। हॉकी इंडिया ने कहा कि एशियन गेम्स पेरिस ओलिंपिक के लिए क्वालिफाइंग टूर्नामेंट भी है। इसमें गोल्ड जीतने की स्थिति में टीम सीधे ओलिंपिक में जगह बना लेगी। कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स के बीच सिर्फ 32 दिनों का अंतर है। लिहाजा भारत कॉमनवेल्थ गेम्स में खेलने की जगह एशियन गेम्स की तैयारी पर ध्यान लगाना चाहता है।

क्वारैंटाइन पीरियड को लेकर दोनों देशों में खींचतान
इंग्लैंड ने हाल ही में एक अजीबोगरीब फैसला करते हुए भारत में कोवीशील्ड वैक्सीन लेने वालों को वैक्सीनेटेड न मानने का फैसला लिया था। कोवीशील्ड लगाने वालों को भी इंग्लैंड जाने पर 10 दिन तक क्वारैंटाइन में रहना होगा और नई वैक्सीन भी लगानी होगी।

यह फैसला अजीबोगरीब इसलिए है क्योंकि इंग्लैंड में भी कोवीशील्ड वैक्सीन अलग नाम से बड़ी संख्या में इस्तेमाल हुई है। जवाब में भारत ने भी इंग्लैंड से यहां आने वाले लोगों के लिए 10 दिनों का क्वारैंटाइन अनिवार्य कर दिया है।

आगे और बिगड़ सकता है मामला
भारत और इंग्लैंड के बीच कोरोना और वैक्सीनेशन को लेकर चल रही खींचतान जल्द खत्म नहीं हुई तो खेल पर आगे भी इसका असर पड़ सकता है। अन्य खेल फेडरेशन भी कॉमनवेल्थ गेम्स से हटने का फैसला कर सकते हैं। आगे चल कर मामला क्रिकेट तक भी पहुंच सकता है।

खबरें और भी हैं...