पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

CSK की हार का एनालिसिस:चेन्नई के बल्लेबाजों ने 46 डॉट बॉल खेलीं, वानखेड़े की पिच पर फेल हुए धोनी के मीडियम पेसर्स

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL-2021) के दूसरे मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को सात विकेट से हरा दिया। उम्मीद थी कि गुरु (एमएस धोनी) और चेले (ऋषभ पंत) की टीमों के बीच कांटे की टक्कर होगी, लेकिन मुकाबला एकतरफा रहा। ज्यादा डॉट बॉल खेलना, तेज गेंदबाजों की गेंदों में तेजी का न होना और ओस सहित कई फैक्टर रहे जिसने चेन्नई की हार की पटकथा लिखी। चलिए सभी फैक्टर्स को एक-एक कर जान लेते हैं।

5. खराब शुरुआत
मैच में पहले बल्लेबाजी करने उतरी चेन्नई की टीम की शुरुआत बेहद खराब रही। टीम के दो विकेट सिर्फ 7 रन के स्कोर पर गिर गए। इस कारण पारी के पहले 10 ओवर में चेन्नई की पारी मोमेंटम हासिल नहीं कर सकी। खराब शुरुआत की वजह से ही बाद में आने वाले बल्लेबाजों ने डॉट बॉल ज्यादा खेली। चेन्नई के बल्लेबाजों ने बैटिंग के स्वर्ग जैसी पिच पर 46 डॉट बॉल खेली। इससे टीम 210-220 के स्कोर तक नहीं पहुंच सकी।

4. जो बल्लेबाज सेट हुए बड़ी पारी नहीं खेल सके
चेन्नई के टॉप-5 बल्लेबाजों में से तीन ने 15 से ज्यादा गेंदें खेलीं। मोईन अली ने 24, सुरेश रैना ने 36 और अंबाती रायडू ने 16 गेंदों का सामना किया, लेकिन इनमें से कोई भी बल्लेबाज 75+ रनों की पारी नहीं खेल पाया। नियमित अंतराल में विकेट गिरते रहने से चेन्नई की टीम विशाल स्कोर नहीं बना सकी।

3. पृथ्वी-शिखर का तूफान
सैम करन की 15 गेंदों पर 34 रनों की पारी के दम पर चेन्नई की टीम 188 रन तक पहुंच गई, लेकिन इसके बाद दिल्ली के ओपनर पृथ्वी शॉ और शिखर धवन के तूफान में यह स्कोर काफी छोटा पड़ गया। शॉ ने 38 गेंद पर 72 रन बना दिए। वहीं, धवन ने 54 गेंदों पर 85 रनों की पारी खेली। ये दोनों जब तक आउट हुए दिल्ली की जीत लगभग तय हो चुकी थी।

2. चेन्नई के तेज गेंदबाजों के पास स्पीड की कमी
वानखेड़े की फ्लैट पर पिच पर आम तौर ऐसे तेज गेंदबाजों की जरूरत होती है तो 140 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से गेंद फेंक सके। चेन्नई के पास ज्यादातर ऐसे तेज गेंदबाज थे जिनकी स्पीड 125-130 किलोमीटर प्रतिघंटा के आस-पास थी। कम गति के कारण ये कम असरदार हुए और इससे दिल्ली की राह आसान हो गई।

1. टॉस फैक्टर
चेन्नई को टॉस हारने के कारण पहले बल्लेबाजी करनी पड़ी। रात में ओस गिरने से दूसरी पारी में बल्लेबाजी काफी आसान हो गई। इससे रवींद्र जडेजा और मोइन अली जैसे स्पिनर असर नहीं छोड़ पाए। जडेजा ने 2 ओवर में 16 तो अली ने 3 ओवर में 33 रन दिए। दोनों ही विकेट नहीं ले पाए।

खबरें और भी हैं...