IPL फेज-2 का मेजबान कौन:इंग्लैंड समेत 4 देशों से मेजबानी का ऑफर; पिछला सीजन होस्ट करने के लिए BCCI ने UAE को 98.5 करोड़ रु. दिए थे

नई दिल्ली7 महीने पहले

इंग्लैंड, UAE के बाद ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका जैसे 2 और देशों ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के सामने IPL 2021 के बाकी बचे मैच को होस्ट करने का ऑफर रखा है। IPL के 14वें सीजन को 29 मैच के बाद कोरोना की वजह से सस्पेंड कर दिया गया था।

अब बाकी बचे 31 मैच के लिए BCCI 20 दिन की विंडो तलाश रहा है। इससे पहले साउथ अफ्रीका और UAE भी IPL होस्ट कर चुका है। पिछला सीजन UAE में हुआ था और इनसाइड स्पोर्ट की रिपोर्ट के मुताबिक इसके लिए BCCI ने उन्हें 98.5 करोड़ रुपए भी दिए थे।

टाइट शेड्यूल और कोरोना के चलते यह विंडो सितंबर-अक्टूबर में होने की पूरी संभावना है। भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से BCCI इसे दोबारा यहां कराने का खतरा नहीं उठाना चाहता। ऐसे में पिछले सीजन की तरह UAE में इसे कराने को लेकर बात चल रही थी। पर भारत को इंग्लैंड में 14 सितंबर तक टेस्ट खेलना है। ऐसे में इंग्लैंड के 4 काउंटी क्लब मिडलसेक्स, सरे, वारविकशायर और लंकाशायर ने भी IPL कराने का प्रस्ताव रखा था। अब श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया बोर्ड ने भी टूर्नामेंट के फेज-2 को होस्ट करने का प्रस्ताव रखा है। कई और देशों का इसे होस्ट करने को लेकर ऑफर आ सकता है।

BCCI के पास 4 ऑप्शन...

ऑप्शन 1: UAE
UAE BCCI का पहला ऑप्शन हो सकता है। पिछला सीजन भी इस देश ने सफलतापूर्वक होस्ट किया था। ऐसे में इस सीजन में भी उसी निर्देश और रोडमैप के साथ BCCI आसानी से यहां मैच करा सकता है। हो सकता है कि कोरोना की वजह से टी-20 वर्ल्ड कप भारत की बजाय UAE में ही हो। ऐसे में इंग्लैंड दौरे के बाद खिलाड़ी यहीं बाकी मैच खेल सकते हैं। हालांकि, इसमें एक परेशानी भी है। क्रिकेट एक्सपर्ट्स की मानें तो IPL और वर्ल्ड कप एक साथ UAE में होगा, तो दूसरे टूर्नामेंट के बीच में ही पिच काफी स्लो हो जाएंगी।

ऑप्शन 2: इंग्लैंड
इंग्लैंड BCCI की दूसरी च्वाइस हो सकती है। BCCI इंग्लिश समर का पूरा इस्तेमाल लीग को खत्म करने के लिए कर सकता है। भारतीय टीम मई से लेकर मिड सितंबर तक इंग्लैंड में ही रहेगी। ऐसे में सितंबर अंत में मिलने वाले 20 दिन के स्लॉट का आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। कई और देशों के खिलाड़ी भी वहां पहुंच सकते हैं। 4 इंग्लिश काउंटी क्लब के प्रस्ताव रखने से BCCI को हिम्मत भी मिली है।

ऑप्शन 3: ऑस्ट्रेलिया
बिग बैश लीग जैसे बड़े टी-20 लीग को होस्ट करने वाले ऑस्ट्रेलिया ने भी IPL की मेजबानी का प्रस्ताव रखा है। अगर BCCI ने फैसला लिया और ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने 4 महीने में अपने पॉलिसी में बदलाव किया, तो टूर्नामेंट को वहां भी कराया जा सकता है। हालांकि, इसके चांस कम हैं, क्योंकि इंग्लैंड टूर के बाद टीम इंडिया का ऑस्ट्रेलिया जाना, फिर वापस भारत या UAE आकर टी-20 वर्ल्ड कप में शामिल होना न के बराबर है। फिलहाल ऑस्ट्रेलिया ने भारत से आने वाली फ्लाइट और लोगों पर बैन लगा रखा है।

ऑप्शन 4: श्रीलंका
श्रीलंका जुलाई से अगस्त के बीच लंका प्रीमियर लीग करवाने जा रहा है। इस टूर्नामेंट को अगर वे होस्ट कर लेते हैं, तो यह तय हो जाएगा कि वे IPL को भी उन्हीं ग्राउंड और होटल की मदद से सफलतापूर्वक समाप्त करवा सकते हैं।

सवाल उठता है कि इतने सारे देश IPL की मेजबानी के लिए तैयार क्यों हैं? इसके 3 कारण...

पहला रेवेन्यू: IPL दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग है। इससे मिलने वाला रेवेन्यू कई दूसरे खेलों से ज्यादा है। BCCI इसके लिए जमकर पैसे लुटाती है और इससे उनकी करोड़ों कमाई भी होती है। पिछले सीजन UAE को इससे करीब 100 करोड़ रुपए का फायदा हुआ था। जब कोरोना की वजह से कई देशों के बोर्ड को नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसे में IPL होस्ट कर वे मुनाफा कमा सकते हैं।

दूसरा टूरिज्म को फायदा: भारत को छोड़ दिया जाए, तो इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया ने अपने घरेलू जमीन पर हुए मैच में दर्शकों को एंट्री दी थी। ऑस्ट्रेलियाई बिग बैश लीग और भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर दर्शक मैच देखने आए थे। वहीं, इंग्लैंड में भी दर्शकों को स्टेडियम आने की इजाजत है। ऐसे में BCCI, IPL फ्रेंचाइजी और खिलाड़ियों को भी फायदा होगा। IPL सिर्फ भारत ही नहीं, पूरी दुनिया में पॉपुलर है। इससे वहां के सरकार को टूरिज्म से भी फायदा पहुंचेगा।

तीसरा अन्य सेक्टर से होने वाले फायदे: होस्टिंग बोर्ड को छोड़कर देशों को कई और सेक्टर से भी रेवेन्यू मिल सकता है। इसमें कमर्शियल, ऑफिशियल पार्टनर्स, स्पॉन्सर्स शामिल हैं।

टूर्नामेंट रद्द होने पर होगा 2500 करोड़ रु. का नुकसान
BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली ने भी टेलीग्राफ को दिए इंटरव्यू में कहा था कि वे फिलहाल टूर्नामेंट को लेकर जल्दबाजी नहीं कर रहे। धीरे-धीरे इस पर फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि IPL इस साल नहीं कराया जा सका, तो BCCI को इससे 2500 करोड़ रुपए तक का नुकसान होगा।

नवंबर-दिसंबर में IPL मुमकिन नहीं
इस साल IPL के बाकी बचे 31 मैच कराने के लिए नवंबर-दिसंबर में भी विंडो मिल सकती है, लेकिन ऐसा मुमकिन नहीं होगा। इस दौरान इंग्लैंड को ऑस्ट्रेलिया में एशेज सीरीज खेलनी है। साथ ही अगले IPL सीजन के लिए मेगा ऑक्शन भी कराना होगा। ऐसे में नवंबर-दिसंबर में टूर्नामेंट कराना संभव नहीं होगा।

खबरें और भी हैं...