पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निराशा के दौर में IPL जरूरी था:दीपक चाहर ने कहा- किसी ने प्रोटोकॉल नहीं तोड़ा, हम लोगों के लिए खेल रहे थे, यही हमारा मोटिवेशन था

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चेन्नई सुपर किंग्स टीम के तेज गेंदबाज दीपक चाहर IPL 2021 सीजन में 7 मैच खेले, जिसमें 8 विकेट लिए। - Dainik Bhaskar
चेन्नई सुपर किंग्स टीम के तेज गेंदबाज दीपक चाहर IPL 2021 सीजन में 7 मैच खेले, जिसमें 8 विकेट लिए।

IPL में कुछ खिलाड़ियों, कोच और स्टाफ के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद 14वीं सीजन बीच में ही सस्पेंड कर दिया गया। चेन्नई सुपर किंग्स टीम के तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने इस मामले में बात की। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के बीच निराशा का माहौल है। ऐसे में लोगों के एंटरटेनमेंट के लिए IPL होना जरूरी था।

टूर्नामेंट में चेन्नई टीम के बॉलिंग कोच एल बालाजी समेत स्टाफ के कुछ लोग भी पॉजिटिव आए। इस पर दीपक ने कहा कि किसी ने प्रोटोकॉल नहीं तोड़ा। हम लोगों के लिए खेल रहे थे। यही हमारा मोटिवेशन था।

हर रोज कोरोना टेस्ट हुए

दीपक ने स्टार स्पोर्ट्स से कहा कि किसी एक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद टीम मैनेजमेंट ने हमसे आइसोलेट होने के लिए कहा। हमारा हर रोज टेस्ट होने लगा। हर बार निगेटिव निकला। यह हमारे लिए बड़ी राहत थी, लेकिन खिलाड़ियों में कोई हड़बड़ाहट या घबराहट नहीं हुई। सभी ने इसे अच्छे से संभाल लिया। किसी ने प्रोटोकॉल नहीं तोड़ा। हालांकि, यह नहीं कह सकते कि क्या गलत हुआ, जो यह सब देखना पड़ा।

कैसे क्या हुआ, यह समझपाना मुश्किल
तेज गेंदबाज ने कहा कि सभी खिलाड़ी बायो-बबल नियम का पालन कर रहे थे। ऐसे में कैसे क्या हुआ, यह सबकुछ समझ पाना मुश्किल है। एक शहर से दूसरे शहर जाना और वहां बायो-बबल बनाना बड़ी चुनौती है। हालांकि, असल में हुआ क्या है, यह बता पाने की स्थिति में नहीं हूं। मेरा मानना है कि इस मुश्किल हालात में IPL होना जरूरी था। इससे लोगों को थोड़ा मनोरंजन का साधन तो मिल रहा था। हम सिर्फ लोगों के लिए खेल रहे थे और यही हमारा मोटिवेशन भी था।