फेज-2 में पहली बार लगी छक्कों की झड़ी, 10 तस्वीरें:बॉलर की हाथ से गेंद छूटी तो शॉट लगाने पिच से 10 फीट बाहर तक दौड़ गए बैट्समैन

4 महीने पहले

IPL फेज-2 के शुरू होने के 13 दिन बाद, पहली बार एक मैच में 18 छक्के लगे। एक बैट्समैन ने शतक भी लगाया। पहले खेलने वाली टीम ने 189 रन बनाए। दूसरी ने 190 बनाकर मैच जीत लिया। हां, हम बात कर रहे हैं शनिवार को खेले गए चेन्नई और राजस्‍थान के मैच की। हम यहां उसी मैच की 8 तस्वीरें रख रहे हैं। बाकी की 2 तस्वीरें शनिवार को ही हुए मुंबई और दिल्ली के मैच की हैं। ये मैच 13 दिनों में हुए कुछ अन्य मैचों की तरह ही लो-स्कोरिंग और बोरिंग था।

इस तस्वीर में आसमान की ओर देखते हुए बैट लेकर भागते बल्लेबाज हैं, ग्लेन फिलिप्स। न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर हैं, IPL में राजस्‍थान के लिए खेलते हैं। चेन्नई के खिलाफ खेलते हुए बॉलर सैम करन के हाथ से एक गेंद छूट गई तो फिलिप्स उसे मारने के लिए पिच के बाहर करीब 10 फिट तक दौड़ते चले गए।
इस तस्वीर में आसमान की ओर देखते हुए बैट लेकर भागते बल्लेबाज हैं, ग्लेन फिलिप्स। न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर हैं, IPL में राजस्‍थान के लिए खेलते हैं। चेन्नई के खिलाफ खेलते हुए बॉलर सैम करन के हाथ से एक गेंद छूट गई तो फिलिप्स उसे मारने के लिए पिच के बाहर करीब 10 फिट तक दौड़ते चले गए।
ये तस्वीर उस लम्हे की है जब सैम करन को इतनी तेज गेंद लगी कि उनकी आंखों में आंसू आ गए। दरअसल, शिवम दुबे पूरे मैच में बहुत जोर से शॉट लगा रहे थे। सैम करन की एक गेंद पर उन्होंने बल्ला खींचकर मारा और गेंद सीधे जाकर करन के पैर पर लगी। वो उसी जगह गिर पड़े और उन्हें आंख से आंसू पोंछते हुए भी देखा गया।
ये तस्वीर उस लम्हे की है जब सैम करन को इतनी तेज गेंद लगी कि उनकी आंखों में आंसू आ गए। दरअसल, शिवम दुबे पूरे मैच में बहुत जोर से शॉट लगा रहे थे। सैम करन की एक गेंद पर उन्होंने बल्ला खींचकर मारा और गेंद सीधे जाकर करन के पैर पर लगी। वो उसी जगह गिर पड़े और उन्हें आंख से आंसू पोंछते हुए भी देखा गया।
ये केएम आसिफ हैं। चेन्नई के फास्ट बॉलर हैं। इनके एक ओवर में अजीब घटना घटी। इन्होंने अपना ओवर पूरा किया। टोपी वापस ली और अपनी फील्डिंग के लिए जाने लगे। टीवी वाले प्रचार दिखाने लगे। तभी अंपायर के वॉकी-टॉकी पर थर्ड अंपायर की कॉल आई। उन्होंने कहा आसिफ को बुलाकर एक गेंद और फेंकवाइए। दरअसल, आसिफ की आखिरी गेंद नो बॉल थी। ये थर्ड अंपायर ने पकड़ा।
ये केएम आसिफ हैं। चेन्नई के फास्ट बॉलर हैं। इनके एक ओवर में अजीब घटना घटी। इन्होंने अपना ओवर पूरा किया। टोपी वापस ली और अपनी फील्डिंग के लिए जाने लगे। टीवी वाले प्रचार दिखाने लगे। तभी अंपायर के वॉकी-टॉकी पर थर्ड अंपायर की कॉल आई। उन्होंने कहा आसिफ को बुलाकर एक गेंद और फेंकवाइए। दरअसल, आसिफ की आखिरी गेंद नो बॉल थी। ये थर्ड अंपायर ने पकड़ा।
ये वो खिलाड़ी हैं, जिनकी चर्चा करने के लिए हम मजबूर हैं। नाम है- शिवम दुबे। इन्होंने फेज 2 के शुरू होने से पहले प्रैक्टिस मैच में 7 छक्‍के जड़े थे, लेकिन फिर भी इन्हें शुरुआत के 4 मैच में नहीं खिलाया गया। पांचवें मैच में खेले तो 42 गेंद में 64 रन की नाबाद पारी खेली। इसमें 4 ऊंचे-ऊंचे छक्के और 4 तेजी से बाउंड्री तक पहुंचने वाले चौके हैं। मैच के दौरान शिवम बहुत ताकत के साथ अपने शॉट्स खेल रहे थे।
ये वो खिलाड़ी हैं, जिनकी चर्चा करने के लिए हम मजबूर हैं। नाम है- शिवम दुबे। इन्होंने फेज 2 के शुरू होने से पहले प्रैक्टिस मैच में 7 छक्‍के जड़े थे, लेकिन फिर भी इन्हें शुरुआत के 4 मैच में नहीं खिलाया गया। पांचवें मैच में खेले तो 42 गेंद में 64 रन की नाबाद पारी खेली। इसमें 4 ऊंचे-ऊंचे छक्के और 4 तेजी से बाउंड्री तक पहुंचने वाले चौके हैं। मैच के दौरान शिवम बहुत ताकत के साथ अपने शॉट्स खेल रहे थे।
इस दुबले-पतले दिखने वाले खिलाड़ी ने विरोधी टीमों की हालत खराब कर रखी है। चेन्नई के खिलाफ इन्होंने 21 गेंद में 50 रन की तूफानी पारी खेली। इसमें 3 छक्के और 6 चौके शामिल हैं। इन्होंने एक ओवर में 22 रन भी लिए। मैच खत्म हुआ तो संजू सैमसन ने कहा कि वो इन्हें इंडियन टीम में खेलते हुए देखना चाहते हैं।
इस दुबले-पतले दिखने वाले खिलाड़ी ने विरोधी टीमों की हालत खराब कर रखी है। चेन्नई के खिलाफ इन्होंने 21 गेंद में 50 रन की तूफानी पारी खेली। इसमें 3 छक्के और 6 चौके शामिल हैं। इन्होंने एक ओवर में 22 रन भी लिए। मैच खत्म हुआ तो संजू सैमसन ने कहा कि वो इन्हें इंडियन टीम में खेलते हुए देखना चाहते हैं।
ये जो दोनों हाथों को ऊपर कर खुशी मनाते हुए खिलाड़ी को देख रहे हैं, इनका नाम है- ऋतुराज गायकवाड। ये खुश हों या दुखी हों, मैच खत्म होने पर इन्हें समझ नहीं आ रहा था। दरअसल, ये फेज 2 में शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बने, लेकिन मैच खत्म हुआ तो इनकी टीम बुरी तरह हार गई थी। अगली तस्वीर में इनके बारे में एक बड़ी बात बता रहे हैं।
ये जो दोनों हाथों को ऊपर कर खुशी मनाते हुए खिलाड़ी को देख रहे हैं, इनका नाम है- ऋतुराज गायकवाड। ये खुश हों या दुखी हों, मैच खत्म होने पर इन्हें समझ नहीं आ रहा था। दरअसल, ये फेज 2 में शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बने, लेकिन मैच खत्म हुआ तो इनकी टीम बुरी तरह हार गई थी। अगली तस्वीर में इनके बारे में एक बड़ी बात बता रहे हैं।
ऋतुराज गायकवाड ने राजस्‍थान के खिलाफ आखिरी गेंद पर छक्का मारकर अपना शतक पूरा किया। वो 17वें ओवर में ही 92 रन पर पहुंच गए थे, लेकिन उन्हें बैटिंग का मौका ही नहीं मिल रहा था। 20वें ओवर की आखिरी गेंद से पहले वो 95 रन पर थे, लेकिन आखिरी गेंद पर छक्का जड़ 101 पर पहुंच गए। इससे भी बड़ी बात ये थी कि ये छक्का 108 मीटर का था। ये अब तक का सबसे लंबा छक्का था। इतना दूर पोलार्ड, धोनी, लिविंग्‍स्टोन भी नहीं मार पाए हैं।
ऋतुराज गायकवाड ने राजस्‍थान के खिलाफ आखिरी गेंद पर छक्का मारकर अपना शतक पूरा किया। वो 17वें ओवर में ही 92 रन पर पहुंच गए थे, लेकिन उन्हें बैटिंग का मौका ही नहीं मिल रहा था। 20वें ओवर की आखिरी गेंद से पहले वो 95 रन पर थे, लेकिन आखिरी गेंद पर छक्का जड़ 101 पर पहुंच गए। इससे भी बड़ी बात ये थी कि ये छक्का 108 मीटर का था। ये अब तक का सबसे लंबा छक्का था। इतना दूर पोलार्ड, धोनी, लिविंग्‍स्टोन भी नहीं मार पाए हैं।
ये जडेजा ने बैटिंग का एक नया स्टाइल निकाला है। वो 20वें ओवर में बॉलर के दौड़ते ही अपनी जगह पर एक घुटना टिका कर बैठ जा रहे थे। फिर बॉलर कहीं भी गेंद फेंके, वो बैठे-बैठे ही मार रहे थे। ऐसा करते हुए उन्होंने आखिरी ओवर में एक छक्का और एक चौका भी मारा।
ये जडेजा ने बैटिंग का एक नया स्टाइल निकाला है। वो 20वें ओवर में बॉलर के दौड़ते ही अपनी जगह पर एक घुटना टिका कर बैठ जा रहे थे। फिर बॉलर कहीं भी गेंद फेंके, वो बैठे-बैठे ही मार रहे थे। ऐसा करते हुए उन्होंने आखिरी ओवर में एक छक्का और एक चौका भी मारा।
ये नौवीं तस्वीर मुंबई और दिल्ली के मैच की है। इसमें हार्दिक पंड्या बोल्ड होते हुए दिख रहे हैं। खास बात ये थी कि आवेश खान ने हार्दिक के दोनों पैरों के बीच से गेंद निकाल कर उन्हें बोल्ड कर दिया था।
ये नौवीं तस्वीर मुंबई और दिल्ली के मैच की है। इसमें हार्दिक पंड्या बोल्ड होते हुए दिख रहे हैं। खास बात ये थी कि आवेश खान ने हार्दिक के दोनों पैरों के बीच से गेंद निकाल कर उन्हें बोल्ड कर दिया था।
ये आखिरी तस्वीर भी मुंबई-दिल्ली के मैच की है। अंतिम ओवर में दिल्ली को मैच जीतने के लिए 4 रन चाहिए थे। टीम के 6 विकेट गिर चुके थे। स्ट्राइक 20 गेंद पर 14 रन बनाकर खेल रहे अश्विन के पास थी। उन्होंने सबको चौंकाते हुए छक्का लगाकर अपनी टीम को जीत दिला दी।
ये आखिरी तस्वीर भी मुंबई-दिल्ली के मैच की है। अंतिम ओवर में दिल्ली को मैच जीतने के लिए 4 रन चाहिए थे। टीम के 6 विकेट गिर चुके थे। स्ट्राइक 20 गेंद पर 14 रन बनाकर खेल रहे अश्विन के पास थी। उन्होंने सबको चौंकाते हुए छक्का लगाकर अपनी टीम को जीत दिला दी।
खबरें और भी हैं...