दो महीने बायो-बबल में कैसे रहते हैं खिलाड़ी:IPL फ्रेंचाइजी ने बताया- घर जैसा माहौल रहता है; प्लेयर्स के खास दिन को सेलिब्रेट करते हैं

मुंबई6 महीने पहलेलेखक: राजकिशोर

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 26 मार्च से शुरू हो रहा है और 29 मई तक चलेगा। IPL के लीग स्टेज के सारे मैच मुंबई और पुणे में ही खेले जाएंगे। इस बार दो नई टीमों के जुड़ने से टीमों की संख्या 10 हो गई है। सभी टीमों ने मुंबई में ही अपना डेरा डाला है। 2 महीने से ज्यादा समय तक चलने वाले IPL के लिए खिलाड़ियों को करीब ढाई महीने तक बायो-बबल में रहना होगा। बायो-बबल सख्त नियमों की वजह से खिलाड़ी एक लिमिटेड एरिया के अंदर ही रहेंगे और उनके बाहर जाने की मनाही होती है।

ऐसे में फ्रेंचाइजी टीमों के पास एक बड़ी चुनौती होती है कि खिलाड़ियों को लिमिटेड एरिया में ही घर का माहौल दें, ताकि वह सख्त बायो बबल में भी सुकून के साथ रहें और अपने खेल पर फोकस करें। आइए हम आपको बताते हैं कि इन दो महीनों में फ्रेंचाइजी खिलाड़ियों को मैनेज करने के लिए किस तरह का इंतजाम करते हैं और खिलाड़ियों की क्या रूटीन होती है। खिलाड़ियों को बायो-बबल में क्या करने की इजाजत होती है और किन चीजों को वो नहीं कर सकते हैं।

मुंबई इंडियंस का बायो-बबल 13 हजार स्क्वायर मीटर में फैला हुआ है। फ्रेंचाइजी ने मुंबई के जियो वर्ल्ड गार्डन में MI एरिना तैयार किया है।
मुंबई इंडियंस का बायो-बबल 13 हजार स्क्वायर मीटर में फैला हुआ है। फ्रेंचाइजी ने मुंबई के जियो वर्ल्ड गार्डन में MI एरिना तैयार किया है।

पहले आपको बताते हैं, कि बायो-बबल क्या होता, इसे क्रिएट कैसे किया जाता है।
बायो-बबल को क्रिएट करने के लिए फ्रेंचाइजी एक होटल और उसके पार्ट को निश्चित समय के लिए लेते हैं। सबसे पहले इसको सैनेटाइज किया जाता है। इसमें एंट्री से पहले खिलाड़ी, स्टाफ, परिवार और जो भी लोग इन दिनों खिलाड़ियों की देख-रेख में होंगे, चाहे वह होटल स्टाफ हो या स्टेडियम लेकर जाने वाले बस और टैक्सी के ड्राइवर, सभी 3 दिन तक क्वारैंटाइन में रहते हैं। इस बीच उनका RT-PCR होता है। रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही उन्हें प्रवेश दिया जाता है। यहां तक कि उनके लगेज को भी सैनेटाइज किया जाता है और 48 घंटे तक अलग रखा जाता है और उसके बाद ही बायो-बबल में ले जाने की इजाजत होती है।

इस बार मुंबई इंडियंस का बायो-बबल 13 हजार स्क्वायर मीटर में फैला हुआ है। फ्रेंचाइजी ने मुंबई के जियो वर्ल्ड गार्डन में MI एरिना तैयार किया है।

बायो-बबल के बाहर नहीं जा सकते हैं खिलाड़ी
बायो- बबल के अंदर ही हर प्रकार की सुविधा होती है। खिलाड़ियों और उनके परिवार को इस एरिया से बाहर जाने की इजाजत नहीं होती है। खिलाड़ियों और उनके परिवार को निर्धारित किए गए एरिया में ही रहना होता है। खिलाड़ी केवल प्रैक्टिस और मैच के लिए ही इससे बाहर जा सकते हैं।

मुंबई इंडियंस ने अपने बायो-बबल के अंडर मिनी गोल्फ कोर्स भी तैयार किया है।
मुंबई इंडियंस ने अपने बायो-बबल के अंडर मिनी गोल्फ कोर्स भी तैयार किया है।

बाहर से खाना मंगाने की भी इजाजत नहीं
खिलाड़ी को बाहर से खाने की चीजें मंगाने की इजाजत नहीं होती है। अगर उन्हें कुछ खाने की इच्छा होती है, तो वह मैनेजर को जानकारी देंगे, होटल में ही तैयार किया जाता है।

वहीं खिलाड़ी और उनके परिवार को किसी चीज की जरूरत हो तो वह ऑनलाइन शॉपिंग करके मंगवा सकते हैं या मैनेजर को बता सकते हैं। सामान आने पर उन्हें तुरंत नहीं दिया जाता है। सामान को सैनेटाइज कर दो दिन अलग कमरे में रखा जाता है। उसके बाद ही उसे खिलाड़ियों या उनके परिवार को सौंपा जाता है।

मुंबई इंडियंस ने किड्स जोन भी तैयार किया है, ताकि खिलाड़ियों के बच्चे भी बायो-बबल में मस्ती कर सकें।
मुंबई इंडियंस ने किड्स जोन भी तैयार किया है, ताकि खिलाड़ियों के बच्चे भी बायो-बबल में मस्ती कर सकें।

बायो-बबल में क्या-क्या सुविधाएं होती है
15वें सीजन में खिलाड़ियों को करीब ढाई महीने बायो बबल में रहना है। ऐसे में फ्रेंचाइजी खिलाड़ियों को घर जैसा माहौल देने की कोशिश कर रहे हैं। बायो-बबल के अंदर बच्चों के लिए किड्स जोन और खिलाड़ियों और उनके परिवार के लोगों के मनोरंजन के लिए टीम रूम में टेबल टेनिस, कार्ड सेंटर आदि की व्यवस्था की गई है।
राजस्थान रॉयल्स के एक अधिकारी के मुताबिक खिलाड़ियों के साथ आए उनके बच्चों के लिए किड्स रूम बनाए गए हैं। वहां पर विभिन्न प्रकार के टॉय रखे गए हैं। वहीं कार्टून कैरेक्टर्स के साथ करार किया है, ताकि बच्चे कार्टून पात्रों के साथ खेल सकें और इंजॉय करें। वहीं खिलाड़ियों और उनके परिवार के लोगों के लिए रेसिंग गेम्स की व्यवस्था की गई है। इसके लिए रेडबुल के साथ करार किया गया है। वहीं आउटडोर जगह भी ली गई है ताकि सुबह में वॉक कर सकें। इसके लिए जिम आदि की भी व्यवस्था की गई है।

मुंबई इंडियंस के अधिकारी मुताबिक MI एरिना में फुटबॉल मैदान, बॉक्स क्रिकेट, पिकल बॉल कोर्ट, फुट वॉलीबॉल, MI बैटल ग्राउंड, किड्स जोन और MI कैफे है। इसके अलावा टीम होटल में रहेगी, जिसमें अत्याधुनिक जिम, मसाज चेयर्स के साथ लाउंज रूम, गेमिंग कंसोल, आर्केड गेम, इनडोर बॉस्केटबॉल, म्यूजिक बैंड के लिए एक अलग स्टेज, टेबल टेनिस, कैफे, पूल टेबल, बच्चों के खेलने का एरिया भी है।

राजस्थान ने बायो बबल में बच्चों के मनोरंजन के लिए कार्टून कैरेक्टर्स के साथ करार किया है।
राजस्थान ने बायो बबल में बच्चों के मनोरंजन के लिए कार्टून कैरेक्टर्स के साथ करार किया है।

हेल्थ को लेकर भी रखा जाता है खास ध्यान
खिलाड़ी 2 महीने से ज्यादा दिनों तक बायो-बबल में रहेंगे। ऐसे में खिलाड़ियों और उनके परिवार के हेल्थ को भी ध्यान में रखकर समय- समय में टीम डॉक्टर हेल्थ टिप्स देते रहते हैं और कई टीमों ने हेल्थ सेक्टर के साथ करार किया है, ताकि इमरजेंसी में खिलाड़ियों और उनके परिवार को सही समय पर हेल्थ सुविधा मिल सके।

साल 2021 IPL में राजस्थान रॉयल्स ने जोस बटलर की बेटी के लिए किए थे खास इंतजाम।
साल 2021 IPL में राजस्थान रॉयल्स ने जोस बटलर की बेटी के लिए किए थे खास इंतजाम।

खिलाड़ी और परिवार के खास दिन को बनाया जाता है स्पेशल
वहीं फ्रेंचाइजी खिलाड़ी और उनके परिवार के खास दिनों जैसे बर्थडे, मैरिज एनिवर्सरी आदि का पूरा ध्यान रखते हैं। उनके लिए खास इंतजाम किया जाता है, ताकि वह इस दिन को मिस न करें। राजस्थान रॉयल्स के अधिकारी बताते हैं कि पिछले सीजन में जोस बटलर की बेटी का बर्थडे था। ऐसे में उस दिन खास इंतजाम किए गए, उनके लिए केक का इंतजाम किया गया, टीम रूम में अन्य खिलाड़ियों और परिवार को बुलाया गया और बर्थ डे सेलिब्रेट किया गया।

टीम रूम में होते रहते हैं कार्यक्रम
खिलाड़ियों को टेंशन से दूर रखने के लिए समय- समय पर टीम रूम में कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। खिलाड़ी और उनके परिवार के लिए फन गेम्स का आयोजन किया जाता है। वहीं टीम की जीत पर पार्टी का आयोजन किया जाता है, जिसमें खिलाड़ी और उनके परिवार के लोग शामिल होते हैं।

खबरें और भी हैं...