IPL सबसे तेजी से बढ़ने वाली लीग:सालाना ग्रोथ रेट 24%, वैल्यू नए मीडिया राइट्स के बाद 1,000 करोड़ डॉलर पार होने की उम्मीद

न्यूयॉर्क7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

IPL निवेशकों के लिए सोने की खान रही है। कई बड़ी कंपनियां ग्रोथ को देखते हुए इसमें निवेश कर रही हैं। इसलिए टीमों की वैल्यू भी लगातार बढ़ रही है। इस क्रिकेट लीग के लॉन्च होने के बाद 2009 में जब फोर्ब्स ने टीमों की वैल्यूएशन की थी, तब 8 फ्रेंचाइजी की औसत वैल्यू करीब 67 मिलियन डॉलर (करीब 515 करोड़ रु.) थी।

इस बार टीमों की संख्या 8 से बढ़ाकर 10 हुई, तब फिर फोर्ब्स ने इनकी वैल्यूएशन की, जो 1.04 बिलियन डॉलर (करीब 7965 करोड़ रु.) तक पहुंच गई। टीमों के वैल्यूएशन की सालाना ग्रोथ रेट 24% रही। मुंबई इंडियंस सबसे मूल्यवान IPL टीम रही, जिसकी वैल्यू 9960 करोड़ रुपए आंकी गई।

IPL ने वैल्यूएशन में अमेरिकी बास्केटबॉल लीग और फुटबॉल लीग को पछाड़ा
फोर्ब्स ने IPL को दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली लीग माना। इसकी ग्रोथ सबसे बड़ी बास्केटबॉल लीग NBA और अमेरिका की फुटबॉल लीग NFL की ग्रोथ से ज्यादा रही। IPL की मौजूदा वैल्यू करीब 7 बिलियन डॉलर (करीब 53,610 करोड़ रु.) है। नए मीडिया राइट्स के बाद इसके 10 बिलियन डॉलर (करीब 76590 करोड़ रु.) को पार करने की उम्मीद है।

मीडिया राइट्स की नीलामी के बारे में सब कुछ जानिए, 5 पॉइंट में

1. डॉक्युमेंट 10 मई तक खरीदे जा सकते हैं
मीडिया राइट्स के टेंडर डॉक्युमेंट्स 10 मई तक खरीदे जा सकते हैं। इसके बाद करीब एक महीने तक जमा किए गए डॉक्युमेंट्स की जांच होगी और जून के दूसरे सप्ताह में नीलामी जीत कर राइट्स हासिल करने वाली कंपनियों के नाम की घोषणा कर दी जाएगी।

2. चार अलग-अलग बकेट की होगी नीलामी
BCCI इस बार मीडिया राइट्स के चार अलग-अलग बकेट की नीलामी कर रहा है। पहला बकेट भारतीय उपमहाद्वीप में टीवी राइट्स का है। दूसरा बकेट डिजिटल राइट्स का है। तीसरे बकेट में 18 मैच शामिल किए गए हैं।

इन 18 मैचों में सीजन का पहला मैच, वीकएंड पर होने वाले हर डबल हेडर में शाम वाला मैच और चार प्लेऑफ मुकाबलों को रखा गया है। चौथे बकेट में भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर के प्रसारण अधिकार शामिल हैं।

3. बेस प्राइस 32,890 करोड़ रुपए है
BCCI ने सभी चार बकेट को मिलाकर कुल 32,890 करोड़ रुपए का बेस प्राइस तय किया है। हर मैच के टेलिविजन राइट्स का बेस प्राइस 49 करोड़ रुपए तय किया है। वहीं, एक मैच के डिजिटल राइट्स का बेस प्राइस 33 करोड़ रुपए रखा गया है।

18 मैचों के क्लस्टर में हर मैच का बेस प्राइस 16 करोड़ रुपए है। भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर के राइट्स के लिए प्रति मैच बेस प्राइस 3 करोड़ रुपए है। इस तरह कुल रकम 32,890 रुपए होती है। बोर्ड को उम्मीद है कि उसे करीब 54 हजार करोड़ रुपए मिलेंगे।

4. दो दिन होगी राइट्स की नीलामी
बोर्ड ने बताया है कि पहले और दूसरे बकेट की नीलामी एक दिन होगी। वहीं, तीसरे और चौथे बकेट की नीलामी उसके अगले दिन की जाएगी। यह प्रक्रिया ई-ऑक्शन के जरिए पूरी होगी। पहले बकेट की विजेता कंपनी को दूसरे बकेट के लिए दोबारा बोली लगाने की इजाजत होगी।

यानी अगर दूसरा बकेट किसी और कंपनी ने खरीदा है तो पहला बकेट खरीदने वाली कंपनी उससे ज्यादा रकम देकर उसे हासिल कर सकती है। इसी तरह दूसरे बकेट की विजेता कंपनी को तीसरे बकेट के लिए फिर से बोली लगाने की इजाजत होगी।

5. भारतीय उपमहाद्वीप के टीवी राइट्स भारतीय कंपनी को ही मिलेंगे
BCCI ने बताया है कि भारतीय उपमहाद्वीप के टीवी राइट्स के लिए सिर्फ वही कंपनी बोली लगा सकती है जो भारत में रजिस्टर्ड ब्रॉडकास्टर हो और उसका नेटवर्थ 1 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा हो। दूसरे, तीसरे और चौथे बकेट के लिए बोली लगाने वाली कंपनी का नेटवर्थ कम से कम 500 करोड़ रुपए होना जरूरी है।