10 फोटो में IPLके दोनों मैचों का रोमांच:हंसती रही दिल्ली जीत गई बेंगलुरु; ईशान ने लगातार 4 गेंदों पर लगाए चौके, सूर्यकुमार को कान पर लगी चोट

अबु धाबी13 दिन पहले

IPLमें शुक्रवार को डबल हेडर था। दोनों मैच एक ही समय पर खेले गए। मुंबई इंडियंस ने आखिरी मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को 42 रन से हराया। उसके बावजूद भी वह प्लेऑफ में जगह नहीं बना सकी। प्लेऑफ में पहुंचने के लिए मुंबई को मैच 171 रन से जीतना जरूरी था। वहीं, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने दिल्ली को 7 विकेट से हराया। दोनों मैचों को 10 फोटो में देखें। पहलें पांच फोटो बेंगलुरु और दिल्ली के मैच की हैं और आखिरी पांच मुंबई और हैदराबाद की हैं।

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और दिल्ली कैपिटल्स के बीच हुए मैच में बेंगलुरु को जीत के लिए आखिरी ओवर में ओवर में 15 रन चाहिए थे। आवेश खान के कंधों पर दिल्ली को जीत दिलाने की जिम्मेदारी थी। उधर बल्लेबाजी कर रहे भरत ने तीसरी बॉल को छोड़ दिया। जिसके बाद आवेश हंसने लगे। उन्हें लगा कि दिल्ली की जीत पक्की हो गई है। पर ऐसा नहीं हुआ। उसके बाद भरत ने छक्का जड़ा और टीम को जीत दिला दी। जिसके बाद आवेश ने चेहरा छिपा लिया।
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और दिल्ली कैपिटल्स के बीच हुए मैच में बेंगलुरु को जीत के लिए आखिरी ओवर में ओवर में 15 रन चाहिए थे। आवेश खान के कंधों पर दिल्ली को जीत दिलाने की जिम्मेदारी थी। उधर बल्लेबाजी कर रहे भरत ने तीसरी बॉल को छोड़ दिया। जिसके बाद आवेश हंसने लगे। उन्हें लगा कि दिल्ली की जीत पक्की हो गई है। पर ऐसा नहीं हुआ। उसके बाद भरत ने छक्का जड़ा और टीम को जीत दिला दी। जिसके बाद आवेश ने चेहरा छिपा लिया।
बेंगलुरु की पारी के 14 वें ओवर में ग्लेन मैक्सवेल का कैच श्रेयस अय्यर ने अक्षर पटेल की पहली गेंद पर छोड़ा। इस ओवर में मैक्सवेल को दो जीवन दान मिले। उनका दूसरा कैच आखिरी गेंद पर अश्विन ने छोड़ा।
बेंगलुरु की पारी के 14 वें ओवर में ग्लेन मैक्सवेल का कैच श्रेयस अय्यर ने अक्षर पटेल की पहली गेंद पर छोड़ा। इस ओवर में मैक्सवेल को दो जीवन दान मिले। उनका दूसरा कैच आखिरी गेंद पर अश्विन ने छोड़ा।
दिल्ली की पारी के दौरान पृथ्वी शॉ ने 12 वें ओवर में युजवेंद्र चहल की गेंद पर कवर्स के ऊपर सिक्स मारने की कोशिश की। पर शॉट की टाइमिंग खराब होने की वजह गेंद बल्ले से ठीक से नहीं लग पाई। जिसकी वजह से एक्सट्रा कवर में जॉर्ज गार्टन ने कैच पकड़ा। कैच पकड़ने से पहले गेंद दो बार उनके हाथों से छूटी और तीसरी बार वह पकड़ने में कामयाब हुए। फील्ड अंपायर ने डिसिजन थर्ड अंपायर के पाले में डाल दिया था, लेकिन गार्टन को विश्वास था कि कैच उन्होंने सही पकड़ा। इसलिए अंपायर के फैसले से पहले ही उन्होंने आउट का इशारा कर दिया था।
दिल्ली की पारी के दौरान पृथ्वी शॉ ने 12 वें ओवर में युजवेंद्र चहल की गेंद पर कवर्स के ऊपर सिक्स मारने की कोशिश की। पर शॉट की टाइमिंग खराब होने की वजह गेंद बल्ले से ठीक से नहीं लग पाई। जिसकी वजह से एक्सट्रा कवर में जॉर्ज गार्टन ने कैच पकड़ा। कैच पकड़ने से पहले गेंद दो बार उनके हाथों से छूटी और तीसरी बार वह पकड़ने में कामयाब हुए। फील्ड अंपायर ने डिसिजन थर्ड अंपायर के पाले में डाल दिया था, लेकिन गार्टन को विश्वास था कि कैच उन्होंने सही पकड़ा। इसलिए अंपायर के फैसले से पहले ही उन्होंने आउट का इशारा कर दिया था।
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को दिल्ली कैपिटल्स से जीत के लिए आखिरी ओवर में ओवर में 15 रन चाहिए थे। क्रीज पर मैक्सवेल और भरत मौजूद थे। पहली तीन गेंदों पर मैक्सवेल ने 7 रन बनाए। उसके बाद चौथी गेंद को भरत ने छोड़ दिया। पांचवीं गेंद पर 2 रन बने। आखिरी गेंद पर 6 रन चाहिए थे। आखिरी गेंद वाइड चली गई और भरत कुमार ने अगली गेंद में छक्का जड़कर टीम को जीत दिलाई। इसके बाद ड्रेसिंग रूम में बैठे बेंगलुरु के कैप्टन विराट कोहली खुशी से उछल पड़े और अपने साथियों से लिपट गए।
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को दिल्ली कैपिटल्स से जीत के लिए आखिरी ओवर में ओवर में 15 रन चाहिए थे। क्रीज पर मैक्सवेल और भरत मौजूद थे। पहली तीन गेंदों पर मैक्सवेल ने 7 रन बनाए। उसके बाद चौथी गेंद को भरत ने छोड़ दिया। पांचवीं गेंद पर 2 रन बने। आखिरी गेंद पर 6 रन चाहिए थे। आखिरी गेंद वाइड चली गई और भरत कुमार ने अगली गेंद में छक्का जड़कर टीम को जीत दिलाई। इसके बाद ड्रेसिंग रूम में बैठे बेंगलुरु के कैप्टन विराट कोहली खुशी से उछल पड़े और अपने साथियों से लिपट गए।
बेंगलुरु को जीत के लिए आखिरी तीन गेंदों पर 7 रन चाहिए थे। बल्लेबाजी कर रहे बेंगलुरु के बल्लेबाज भरत ने पहली गेंद को छोड़ दिया। दूसरी गेंद पर 2 रन बनाए और आखिरी गेंद पर जीत के लिए 6 चाहिए थे। पर आखिरी गेंद उनके बल्ले से नहीं लग पाई। उन्हें लगा कि टीम हार गई और वे उदास हो गए और माथा पकड़ लिया। तभी अंपायर ने उस गेंद को वाइड करार दिया और आखिरी गेंद पर भरत ने छक्का जड़ कर टीम को जीत दिलाई।
बेंगलुरु को जीत के लिए आखिरी तीन गेंदों पर 7 रन चाहिए थे। बल्लेबाजी कर रहे बेंगलुरु के बल्लेबाज भरत ने पहली गेंद को छोड़ दिया। दूसरी गेंद पर 2 रन बनाए और आखिरी गेंद पर जीत के लिए 6 चाहिए थे। पर आखिरी गेंद उनके बल्ले से नहीं लग पाई। उन्हें लगा कि टीम हार गई और वे उदास हो गए और माथा पकड़ लिया। तभी अंपायर ने उस गेंद को वाइड करार दिया और आखिरी गेंद पर भरत ने छक्का जड़ कर टीम को जीत दिलाई।
मुंबई की पारी के 19 वें ओवर में उमरान मलिक ने ऑफ साइड में लोअर बाउंस गेंद फेंकी। गेंद सूर्यकुमार के बैट के किनारे से लगकर सीधे हेलमेट में लगी। उन्हें काफी जोर से चोट लगी। इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है, कि बॉल लगने के तुरंत बाद उन्होंने बल्ला फेंक दिया।
मुंबई की पारी के 19 वें ओवर में उमरान मलिक ने ऑफ साइड में लोअर बाउंस गेंद फेंकी। गेंद सूर्यकुमार के बैट के किनारे से लगकर सीधे हेलमेट में लगी। उन्हें काफी जोर से चोट लगी। इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है, कि बॉल लगने के तुरंत बाद उन्होंने बल्ला फेंक दिया।
जब सूर्यकुमार यादव को चोट लगी, तब सिद्धार्थ कौल उनसे पूछते नजर आए कि उनकी आवाज सुनाई दे रही है कि नहीं।
जब सूर्यकुमार यादव को चोट लगी, तब सिद्धार्थ कौल उनसे पूछते नजर आए कि उनकी आवाज सुनाई दे रही है कि नहीं।
ईशान ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 32 गेंदों की पारी में 11 चौके 4 छक्के लगा डाले और 262.50 के स्ट्राइक रेट से 84 रन बनाए । ये उनके करियर की दूसरी सबसे तेज पारी थी।
ईशान ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 32 गेंदों की पारी में 11 चौके 4 छक्के लगा डाले और 262.50 के स्ट्राइक रेट से 84 रन बनाए । ये उनके करियर की दूसरी सबसे तेज पारी थी।
जेसन होल्डर ने सूर्यकुमार यादव का विकेट लिया। सूर्यकुमार 40 गेंदों पर 82 रन बनाकर आउट हुए। उनका कैच मोहम्मद नबी ने लिया।
जेसन होल्डर ने सूर्यकुमार यादव का विकेट लिया। सूर्यकुमार 40 गेंदों पर 82 रन बनाकर आउट हुए। उनका कैच मोहम्मद नबी ने लिया।
सनराइजर्स हैराबाद की पारी के 19 वें ओवर में नाथन कूल्टर नाइल ने अपने ओवर में ऋद्धिमान साहा का कैच पकड़ा। गेंद नाइल के हाथ पर सीधे लगी और उछल गई। फिर उन्होंने कैच पकड़ लिया।
सनराइजर्स हैराबाद की पारी के 19 वें ओवर में नाथन कूल्टर नाइल ने अपने ओवर में ऋद्धिमान साहा का कैच पकड़ा। गेंद नाइल के हाथ पर सीधे लगी और उछल गई। फिर उन्होंने कैच पकड़ लिया।