RCB और PBKS का SWOT एनालिसिस:पंजाब के पास तूफानी पारी खेलने वाले खिलाड़ियों की फौज, विराट का बल्ला नहीं बोला तो बेंगलुरु के लिए खतरा

स्पोर्टस डेस्क9 महीने पहले

IPL के 15वें सीजन की शुरुआत 26 मार्च से होने वाली है। इस बार टूर्नामेंट में लीग राउंड के सभी मैच मुंबई के तीन और पुणे के एक मैदान पर खेले जाएंगे। आज हम आपको दो ऐसी टीम का SWOT एनालिसिस बताएंगे जो आज तक IPL चैंपियन नहीं बन पाई है। ये टीमें पंजाब किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु हैं। आइए टीम की मजबूती (Strength), कमजोरी (Weakness), अवसर (Opportunity) और खतरे (Threat) का विश्लेषण आपको बताते हैं।

पंजाब किंग्स

पंजाब किंग्स ने इस बार मेगा ऑक्शन से पहले केवल दो खिलाड़ियों ओपनर मयंक अग्रवाल (12 करोड़) और अनकैप्ड तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह (4 करोड़) को रिटेन किया था और नीलामी में सबसे बड़ी पर्स वैल्यू 72 करोड़ के साथ उतरी थी। ऑक्शन खत्म होने के बाद टीम के पास 3.45 करोड़ बचे।
स्ट्रेंथ

दमदार मिडिल ऑर्डर और फिनिशर: टीम के पास मिडिल ऑर्डर में लियाम लिविंगस्टन, शाहरुख खान, भानुका राजपक्षे और ओडीयन स्मिथ जैसे नाम हैं। ये खिलाड़ी तेजी से रन बनाने के लिए जाने जाते हैं और जरूरत पड़ने पर पारी को संभाल भी सकते हैं। इनके अलावा अंडर-19 WC में 252 रन बनाने वाले राज बावा भी टीम के लिए फिनिशर की भूमिका निभा सकते हैं।

तेज गेंदबाजी में दमखम: कगिसो रबाडा के जुड़ने से टीम का पेस अटैक मजबूत हुआ है। रबाडा के अलावा टीम के पास अर्शदीप सिंह और संदीप शर्मा जैसे खिलाड़ी भी हैं। साथ ही ईशान पोरेल भी लगातार घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते आ रहे हैं।

वीकनेस
स्पिनर्स के पास अनुभव की कमी: PBKS का स्पिन डिपार्टमेंट बहुत कमजोर नजर आ रहा है। राहुल चाहर को टीम ने जरूर खरीदा है, लेकिन उनका साथ देने के लिए जो नाम है उनके पास अनुभव की कमी है। खुद राहुल ने ज्यादा इंटरनेशनल मैच नहीं खेले हैं। वहीं, हरप्रीत बरार, ऋतिक चटर्जी को भी इंटरनेशनल क्रिकेट का कोई अनुभव नहीं है।

कमजोरी
बैकअप खिलाड़ियों की कमी: लियाम लिविंगस्टन, जॉनी बेयरस्टो के बैकअप के रूप में टीम के पास सिर्फ एक इंटरनेशनल खिलाड़ी भानुका राजपक्षे हैं। टीम के लिए ये परेशानी का सबब बन सकती हैं। IPL के आखिरी दिनों में बेयरस्टो न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज खेलने जाएंगे अगर टीम फाइनल तक पहुंचती है तो बेयरस्टो टीम का हिस्सा नहीं होंगे।

खतरा
शिखर धवन जैसे अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद पंजाब किंग्स ने मयंक अग्रवाल को कप्तान बनाया है। 2020 के IPL सीजन में पंजाब ने केएल राहुल को भी बिना अनुभव के टीम का कप्तान बना दिया था। 2020 और 2021 के सीजन में राहुल की कप्तानी में टीम प्ले-ऑफ तक भी नहीं पहुंच पाई थी। पंजाब ने एक बार फिर वही जोखिम उठाया है।

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु IPL की सबसे चर्चित टीमों में से एक है। मेगा ऑक्शन से पहले टीम ने 3 खिलाड़ियों को रिटेन किया था। इनमें विराट कोहली (15 करोड़), ग्लेन मैक्सवेल (11 करोड़) और मोहम्मद सिराज (7 करोड़) के नाम शामिल थे। ऑक्शन में फाफ डु प्लेसिस को बेंगलुरु की टीम ने 7 करोड़ में खरीदा है जो टीम के कप्तान होंगे।

स्ट्रेंथ
टीम में कमाल के टॉप ऑर्डर बल्लेबाज:
इस सीजन रॉयल चैंलेजर्स का सबसे मजबूत पक्ष उनके टीम का शानदार टॉप ऑर्डर है। RCB के पास विराट कोहली, फाफ डु प्लेसिस के रूप में दो अनुभवी बल्लेबाज हैं। दोनों खिलाड़ियों ने IPL के इतिहास में अपने बल्ले से खूब रन बरसाए हैं। इसका फायदा टीम को मिलने वाला है। वहीं, ग्लेन मैक्सवेल, दिनेश कार्तिक, महिपाल लोमरोर और शेहरेन रदरफोर्ड मध्यक्रम में टीम को मजबूती देंगे।

वीकनेस
एबी की कमी खलेगी: एबी डिविलियर्स ने पिछले साल नवंबर में क्रिकेट के हर फॉर्मेट से संन्यास ले लिया था। ये RCB के लिए किसी झटके से कम नहीं है। डिविलियर्स टीम की बल्लेबाजी की जान थे। इस बार बैटिंग में उनकी कमी खलेगी।

अच्छा लेग स्पिनर नहीं: ऑक्शन में बेंगलुरु की टीम ने युजवेंद्र चहल जैसे कमाल के लेग स्पिनर को खो दिया। वहीं, उनकी जगह कोई अनुभवी स्पिन गेंदबाज नहीं खरीद पाई, जिससे टीम का स्पिन डिपार्टमेंट काफी कमजोर हो गया है।

अवसर
हर्षल से उम्मीद: अटैकिंग बैटिंग लाइन-अप, मजबूत मिडिल ऑर्डर और गेंदबाजी में मिश्रण करने वाले गेंदबाज को देखते हुए टीम के पास इस बार टूर्नामेंट में अच्छा करने का मौका है। हर्षल पटेल को ऑक्शन में RCB ने 10.75 करोड़ देकर टीम से जोड़ा है। पिछले सीजन हर्षल सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे।

कोहली का वर्क लोड हुआ कम: विराट पर कप्तानी का वर्क लोड था, इससे कोई इनकार नहीं कर सकता कप्तानी छोड़ने से उनका वर्क लोड कम हुआ है। वह लगातार नौ सीजन से टीम की कप्तानी संभाल रहे थे। अब विराट से पूरे टूर्नामेंट में सिर्फ बल्ले से अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद होगी।

खतरा
RCB की टीम इस बार थोड़ी कमजोर नजर आ रही है। कप्तान फाफ डु प्लेसिस, दिनेश कार्तिक जैसे बल्लेबाज इंटरनेशनल मैच नहीं खेलते हैं। वहीं, विराट का फॉर्म पिछले 2 सालों से कुछ खास नहीं रहा है। अगर RCB को चैंपियन बनना है तो विराट का बल्ला चलना बहुत जरूरी है। अगर ऐसा नहीं होता है तो अकेले ग्लेन मैक्सवेल पर सारा दबाव आ जाएगा और ये टीम के लिए सबसे बड़ा खतरा साबित हो सकता है।

खबरें और भी हैं...