RCB की जीत का एनालिसिस:मैक्सवेल-एबी की पारियों ने धीमी पिच पर दिया बड़ा स्कोर, ओएन मोर्गन की गलती KKR पर भारी पड़ी

चेन्नईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू (RCB) ने IPL 2021 में रविवार को कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) को 38 रनों से हरा दिया। RCB ने इस लीग के इतिहास में पहली बार लगातार तीन जीत के साथ सीजन की शुरुआत की है। विराट कोहली भले ही बतौर ओपनर कमाल न कर पा रहे हों, लेकिन मिडिल ऑर्डर में ग्लेन मैक्सवेल और एबी डिविलियर्स की तूफानी बल्लेबाजी टीम की नैया पार करा रही है। इस मुकाबले में भी ऐसा ही हुआ। साथ ही KKR के कप्तान ओएन मोर्गन के कुछ गलत फैसलों ने भी विराट टीम की मदद की। चलिए जानते हैं, उन सभी फैक्टर्स के बारे में, जिनकी बदौलत RCB ने जीत की हैट्रिक बनाई।

1. दो विकेट वाले ओवर के बाद वरुण को गेंदबाजी से हटाया जाना
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी कर रही RCB की टीम को स्पिनर वरुण चक्रवर्ती ने अपने पहले मैच पारी के दूसरे ओवर में दो झटके दिए। उन्होंने कप्तान विराट कोहली (5) और रजत पाटीदार के विकेट लिए, लेकिन KKR के कप्तान ओएन मोर्गन ने उन्हें अगले ही ओवर में मोर्चे से हटा लिया। अच्छी लय से बॉलिंग कर रहे वरुण अगर मैक्सवेल को आउट कर देते तो RCB पारी की शुरुआत में ही काफी पीछे हो जाती।

2. मैक्सवेल और एबी डिविलयर्स शो
RCB ने ग्लेन मैक्सवेल और एबी डिविलियर्स की पारी की बदौलत 204/4 का स्कोर बना लिया। चेन्नई की धीमी और स्पिनर्स की मददगार पिच पर यह 250 रनों के स्कोर जैसा साबित हुआ। मैक्सवेल IPL में 5 साल के बाद अच्छी बल्लेबाजी कर पा रहे हैं। वहीं, एबी ने साबित किया कि वे बैटिंग ऑर्डर में हर पॉजीशन पर मैच विनर साबित हो सकते हैं।

3. हरभजन और शाकिब का फ्लॉप शो
पिच में स्पिनर्स के लिए काफी मदद थी। यह बात वरुण चक्रवर्ती की गेंद से साबित भी होती है, लेकिन हरभजन सिंह और शाकिब अल हसन अपनी स्पिन गेंदबाजी से प्रभाव छोड़ने में विफल रहे। हरभजन ने 4 ओवर में 38 रन दिए और एक भी विकेट नहीं ले सके। वहीं, शाकिब ने 2 ओवर में बिना विकेट लिए 24 रन दे दिए। इनके अलावा मीडियम पेसर आंद्रे रसेल (2 ओवर में बिना विकेट के 38 रन) का फ्लॉप होना भी KKR को काफी महंगा पड़ा।

4. अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल पाए KKR के बल्लेबाज
KKR की ओर से चार बल्लेबाजों ने 20 या इससे अधिक गेंदों का सामना किया, लेकिन इनमें से तीन बल्लेबाज 30 रन के आंकड़े से नीचे रह गए। आंद्रे रसेल ने 31 रन जरूर बनाए, लेकिन उनकी पारी कभी वह रफ्तार नहीं पकड़ सकी जिसके लिए रसेल मशहूर हैं। KKR के सितारों का अच्छी शुरुआत को बड़ी और महत्वपूर्ण पारी में न बदल पाना RCB के लिए काम आसान कर गया।

5. टॉस बना बॉस
चेन्नई के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में इस सीजन में हुए 6 मैचों में पांचवीं बार पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम जीती है। लिहाजा कहा जा सकता है कि टॉस जीतना विराट के लिए मैच में काफी फायदेमंद साबित हुआ। उन्होंने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी थी।

खबरें और भी हैं...