स्टीव स्मिथ ने पांच साल बाद लिया विकेट:ऑस्ट्रेलिया को तीन ओवर में दो विकेट की जरूरत थी, स्मिथ के कमाल दिखाने पर भी मुकाबला ड्रॉ; देखें VIDEO

सिडनी12 दिन पहले
स्मिथ ने जैक लीच को आउट कर ऑस्ट्रेलिया की जीत की उम्मीद बढ़ा दी थी।

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच चल रही एशेज सीरीज का चौथा टेस्ट मैच रोमांचक अंदाज में ड्रॉ समाप्त हुआ। ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए आखिरी 64 गेंदों पर 2 विकेट की जरूरत थी। जैक लीच और स्टुअर्ट ब्रॉड ने इनमें से 46 गेंदें निकाल दी। मैच में सिर्फ 3 ओवर यानी 18 गेंदें बची थीं, तब कंगारू कप्तान पैट कमिंस ने स्टीव स्मिथ को गेंदबाजी पर लगाया। स्मिथ ने कामयाबी भी हासिल की, लेकिन अपनी टीम को मैच में जीत नहीं दिला सके। चलिए जानते हैं आखिरी तीन ओवर में क्या-क्या हुआ...

स्मिथ ने जैक लीच को आउट कर जगाई उम्मीद
इंग्लैंड की पारी का 100वां ओवर स्टीव स्मिथ फेंकने आए। उन्होंने इस ओवर की आखिरी गेंद पर जैक लीच को डेविड वार्नर के हाथों कैच करवा दिया और ऑस्ट्रेलिया को जीत की दहलीज पर ले आए। स्मिथ ने 2016 के बाद पहली बार टेस्ट विकेट लिया। इससे पहले उन्होंने नवंबर 2016 में पर्थ टेस्ट में साउथ अफ्रीका के वर्नोन फिलेंडर का विकेट लिया था। लीच 34 गेंद और 77 मिनट के संघर्ष के बाद आउट हुए। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया को 12 गेंदों पर आखिरी विकेट की जरूरत थी।

101वां ओवर ब्रॉड ने खेला
इंग्लैंड की पारी का 101वां ओवर ऑफ स्पिनर नाथन लायन लेकर आए। इस ओवर की सभी 6 गेंदें स्टुअर्ट ब्रॉड ने सुरक्षित तरीके से खेल ली। लेकिन, साथ ही एक बड़ा चैलेंज आ गया। आखिरी ओवर में नंबर-11 बल्लेबाज जेम्स एंडरसन को विकेट बचाना था।

स्मिथ Vs एंडरसन एक अलग ट्विस्ट के साथ
स्टीव स्मिथ Vs जेम्स एंडरसन मुकाबला एशेज के अंदर रोमांचक मुकाबलों में से एक होता है। लेकिन इसमें हमेशा बल्लेबाज स्मिथ होते थे और गेंदबाज एंडरसन। इस बार मामले में अलग ट्विस्ट था। बल्लेबाजी पर एंडरसन थे और गेंदबाज पर स्टीव स्मिथ। जिस तरह स्टीव स्मिथ ने कई बार एंडरसन की गेंदबाजी का जमकर सामना किया उसी तरह आज एंडरसन ने मुकाबला किया। उन्होंने 6 गेंदें खेलीं और अपना विकेट नहीं दिया। इसकी बदौलत इंग्लैंड ने मैच ड्रॉ़ करा लिया। यह 2021-22 एशेज सीरीज का पहला टेस्ट रहा जिसमें ऑस्ट्रेलिया जीत हासिल नहीं कर पाया।

81 टेस्ट मैचों में 18 विकेट
स्टीव स्मिथ ने अपना क्रिकेट करियर बतौर लेग स्पिनर शुरू किया था। बाद में उन्होंने खुद को एक बेहतरीन बल्लेबाज के तौर पर टीम में स्टैब्लिश किया। उन्होंने अब तक 81 टेस्ट मैचों में 18 विकेट लिए हैं। बल्लेबाजी में उनके जलवे जगजाहिर हैं। वे टेस्ट क्रिकेट में अब तक 60.60 की औसत से 7757 रन बना चुके हैं। इनमें 27 शतक और 33 अर्धशतक शामिल हैं।