अयाज मेमन की कलम से / शंकर आईपीएल में बल्ले से फ्लॉप रहे, प्लेइंग-11 में नंबर-4 को लेकर माथापच्ची जारी



अयाज मेमन

अयाज मेमन

Jul 27, 2019, 11:24 PM IST

खेल डेस्क. वर्ल्ड कप में भारत के पहले मैच को अभी करीब 10 दिन बचे हैं। फिर भी पिछले दिनों लॉर्ड्स में भारतीय क्रिकेट से जुड़े एक कार्यक्रम में सिर्फ इसी बात पर चर्चा गर्म थी कि 5 जून को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विराट कोहली किन खिलाड़ियों को प्लेइंग-11 में शामिल करेंगे। कई स्थानों के लिए तो नाम करीब करीब तय हैं। दो बातों पर माथापच्ची है- पहली यह कि नंबर-4 पर कौन सा बल्लेबाज उतरेगा? दूसरी यह कि टीम एक स्पिनर को खिलाएगी या दो को? इस लिहाज से टीम के 2 प्रैक्टिस गेम भी अहम हैं, क्योंकि उससे काफी हद तक अंदाजा मिल जाएगा।

 

नंबर-4 का स्पॉट तो लंबे समय से चर्चा में रहा है। टीम चयन के वक्त चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने विजय शंकर को 3 डायमेंशनल खिलाड़ी बताते हुए संकेत दिए थे कि उन्हें नंबर-4 पर आजमाया जा सकता है। लेकिन शंकर आईपीएल में बल्ले से फ्लॉप रहे, गेंदबाजी भी कुछ ही मैचों में की। अब वे चोटिल होने की वजह से वॉर्मअप मैचों के लिए भी उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि आईपीएल में केएल राहुल ने जो फॉर्मदिखाई, उससे टीम मैनेजमेंट को जरूर राहत मिली होगी। वे भी नंबर-4 के दावेदार हैं। इन बातों को ध्यान में रखते हुए पहले मैच में राहुल को मौका मिलने की ज्यादा संभावना दिख रही है।

 

राहुल के साथ कार्तिक की जिम्मेदारी बढ़ी
केदार जाधव भी वॉर्मअप मैचों में नहीं खेल रहे हैं। वे टीम के इंग्लैंड से रवाना होने से कुछ दिन पहले ही फिट घोषित किए गए हैं। टीम मैनेजमेंट उन्हें मैच फिट होने के लिए कुछ और दिन का समय देना चाह रहा है। मुमकिन है कि 5 जून को भी वे ना खेलें। इस लिहाज से राहुल के साथ-साथ दिनेश कार्तिक की जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है। बहरहाल ये देखना रोचक होगा कि इतने सारे विकल्पों में से किन 2 बल्लेबाजों को पहले मैच में मौका मिलता है।

 

विराट और रवि शास्त्री के लिए बड़ा सिरदर्द है- टीम कॉम्बिनेशन
वहीं, गेंदबाजों की फिटनेस और फॉर्म को लेकर कोई समस्या नहीं है। कुलदीप के लिए आईपीएल अच्छा नहीं रहा था, लेकिन नेशनल टीम के साथ माहौल अलग रहता है। कुलदीप यूं भी विदेशी परिस्थितियों में जल्दी एडजस्ट हो जाते हैं। गेंदबाजी में विराट और रवि शास्त्री के लिए बड़ा सिरदर्द है- कॉम्बिनेशन। पेसर और स्पिनर का सटीक कॉम्बिनेशन चुनना बेहद अहम होगा। खासकर उस परिस्थिति में जब टीम के पास 4 ऑलराउंडर हैं- शंकर, जाधव, हार्दिक पंड्या और रवींद्र जडेजा। इनमें से कितने ऑलराउंडर चयन के लिए उपलब्ध होंगे और कितने खेलेंगे, उस पर गेंदबाजी क्रम भी निर्भर करेगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना