डोमेस्टिक सीजन का ब्लू प्रिंट:20 दिसंबर से मुश्ताक अली ट्रॉफी और 11 जनवरी से रणजी ट्रॉफी कराने की तैयारी, BCCI ने मांगी राय

मुंबईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
घरेलू सीजन के लिए बोर्ड ने दिसंबर से मार्च के बीच देश भर में 6 बायो-सिक्योर हब तैयार करने की योजना बनाई है। (सिम्बोलिक फोटो) - Dainik Bhaskar
घरेलू सीजन के लिए बोर्ड ने दिसंबर से मार्च के बीच देश भर में 6 बायो-सिक्योर हब तैयार करने की योजना बनाई है। (सिम्बोलिक फोटो)

घरेलू क्रिकेट कराने की योजना बना रहे भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने सीमित मुकाबलों के लिए राज्य संघों से राय मांगी है। घरेलू सीजन के लिए बोर्ड ने दिसंबर से मार्च के बीच देश भर में 6 बायो-सिक्योर हब तैयार करने की योजना बनाई है।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, संघों को लिखे पत्र में बोर्ड ने घरेलू मुकाबलों के आयोजन को लेकर 4 विकल्प दिए हैं। जिसमें पहला ऑप्शन सिर्फ रणजी ट्रॉफी का आयोजन है। दूसरा ऑप्शन सिर्फ सैयद मुश्ताक अली टी-20 टूर्नामेंट का आयोजन है।

तीसरे ऑप्शन में रणजी ट्रॉफी और सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी का कॉम्बिनेशन होगा। जबकि चौथे ऑप्शन में दो सीमित ओवरों के टूर्नामेंट (सैयद मुश्ताक अली और विजय हजारे ट्रॉफी) के लिए विंडो तैयार की जा सकती है।

टूर्नामेंट के समय का भी जिक्र
पत्र के मुताबिक, बोर्ड ने टूर्नामेंट के संभावित समय पर भी बात की है। रणजी ट्रॉफी (11 जनवरी से 18 मार्च) के लिए 67 दिन प्रस्तावित किए गए हैं। मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए 22 दिन (20 दिसंबर से 10 जनवरी) की जरूरत होगी। अगर विजय हजारे ट्रॉफी कराई जाती है, तो यह 11 जनवरी से 7 फरवरी के बीच 28 दिन में आयोजित हो सकता है।

पत्र में यह भी बताया कि कोरोना महामारी के दौरान नए कॉम्पिटिशन के आयोजन से घरेलू क्रिकेट को नई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इनमें आयोजन स्थलों पर मेडिकल पर्सनल की तैनाती प्रमुख है।

6 बायो-बबल बनाए जाएंगे
कोविड के कारण बोर्ड को घरेलू सीजन को छोटा करना पड़ सकता है। बोर्ड ने यह भी कहा है कि वे सीजन की मेजबानी के लिए 6 बायो सिक्योर बबल बनाएगी और हर बबल में 3 वेन्यू होंगे। पत्र के मुताबिक, घरेलू टूर्नामेंट में 38 टीमें होंगी। इन्हें 5 इलीट ग्रुप और एक प्लेट ग्रुप में बांटा जाएगा। इलीट ग्रुप में 4 और प्लेट ग्रुप में 8 टीमें होंगी। मैचों का प्रसारण डिजिटली किया जाएगा।

यूएई में हुआ IPL का आयोजन
बोर्ड ने हाल ही में इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का आयोजन संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में बायो-सिक्योर माहौल में कराया था। बोर्ड प्रसिडेंट सौरव गांगुली ने जोर देते हुए कहा था कि आम तौर पर अगस्त में होने वाले घरेलू सत्र को भी जल्द ही शुरू किया जा सकता है। राज्य संघों को अपने फैसले की जानकारी बोर्ड को 2 दिसंबर तक देनी है। इसके बाद ही कोई अंतिम निर्णय लिया जायेगा।