पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सैलरी वाले मामले पर BCCI का जवाब:बोर्ड ने कहा- 4 महिला क्रिकेटर्स को 8 महीने से सैलरी नहीं देने की बात गलत; बोर्ड ने चारों को नई कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से बाहर किया

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिला क्रिकेट टीम पिछले टी-20 वर्ल्ड कप और वनडे वर्ल्ड के फाइनल में जगह बनाने में सफल रही। महिला खिलाड़ियों को 3 ग्रेड में बांटा गया है। ग्रेड A में 3, ग्रेड B में 10 और ग्रेड C में 6 खिलाड़ी शामिल हैं। A ग्रेड को सालाना 50 लाख, B ग्रेड को 30 लाख और ग्रेड C को सालाना 10 लाख मिलेंगे। - Dainik Bhaskar
महिला क्रिकेट टीम पिछले टी-20 वर्ल्ड कप और वनडे वर्ल्ड के फाइनल में जगह बनाने में सफल रही। महिला खिलाड़ियों को 3 ग्रेड में बांटा गया है। ग्रेड A में 3, ग्रेड B में 10 और ग्रेड C में 6 खिलाड़ी शामिल हैं। A ग्रेड को सालाना 50 लाख, B ग्रेड को 30 लाख और ग्रेड C को सालाना 10 लाख मिलेंगे।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने मीडिया में आई इस रिपोर्ट का खंडन किया है, जिसमें कहा गया था कि नई कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से ड्रॉप किए गए 4 खिलाड़ियों को 8 महीने की सैलरी नहीं दी गई। दरअसल BCCI ने हाल ही में 2020-21 के लिए अनुबंध पाने वाली 19 महिला खिलाड़ियों की सूची जारी की।

इसमें पिछली लिस्ट में शामिल एकता बिष्ट, वेदा कृष्णमूर्ति, डी हेमलता और अनुजा पाटिल को शामिल नहीं किया गया। जबकि ऋचा घोष को पहली बार कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में शामिल किया गया। वहीं शेफाली वर्मा को ग्रेड-C से ग्रेड-B में प्रमोट किया गया। यह अनुबंध अक्टूबर 2020 से सितंबर 2021 के लिए है।

रिपोर्ट में दावा किया गया था नहीं मिली सैलरी
UK की टेलीग्राफ ने एक रिपोर्ट में दावा किया कि नई कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से ड्रॉप किए गए 4 खिलाड़ी एकता, वेदा, हेमलता और अनुजा को 8 महीने की सैलरी नहीं दी गई है। BCCI के एक अधिकारी ने एजेंसी को बताया कि यह रिपोर्ट गलत है। किसी भी खिलाड़ी की सैलरी नहीं रोकी गई है।

जल्द मिलेगी प्राइज मनी
अधिकारी ने कहा कि 2020 में टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंचने वाली महिला टीम को प्राइज मनी जल्द ही दे जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मामले को BCCI की वित्तीय विभाग देख रहा है। जल्द ही खिलाड़ियों को उनकी राशि मिल जाएगी।

अधिकारी ने कहा कि यह बात खिलाड़ियों को भी पता है कि उनकी राशि कहीं नहीं जाने वाली है और उन्हें मिल जाएगी। हम व्यवस्था की कमियों को दूर कर रहे हैं ताकि खिलाड़ियों को परेशानी का सामना न करना पड़े और भविष्य में इस तरह की खामियां न रहे।

ब्रिटिश मीडिया ने किया था खुलासा
ब्रिटिश अखबर द टेलीग्राफ ने अपनी रिपोर्ट में खुलासा किया था कि भारतीय बोर्ड ने फाइनल में पहुंचने वाली महिला टीम को प्राइज मनी का भुगतान नहीं किया है। वहीं, इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने BCCI को पिछले साल मार्च में ही प्राइज मनी सौंप दी थी। वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंचने के लिए भारतीय टीम को 5 लाख डॉलर (करीब 3.64 करोड़ रुपए) की प्राइज मनी मिली थी।

पुरुष और महिलाओं के अनुबंध में बड़ा अंतर
पुरुषों और महिलाओं के अनुबंध में बड़ा अंतर है। पुरुषों को 4 कैटेगरी में बांटा गया है और कुल 28 खिलाड़ियों को जगह दी गई है। A+ ग्रेड वाले को 7 करोड़, A ग्रेड वाले को 5 करोड़, B ग्रेड वाले को 3 करोड़ और C ग्रेड वाले को सालाना 1 करोड़ रुपए मिलते हैं। वहीं महिला खिलाड़ियों की बात करें तो सिर्फ 19 को अनुबंध मिला है।

महिला टीम पिछले टी-20 वर्ल्ड कप और वनडे वर्ल्ड के फाइनल में जगह बनाने में सफल रही। महिलाओं को 3 ग्रेड में बांटा गया है। ग्रेड A में 3, ग्रेड B में 10 और ग्रेड C में 6 खिलाड़ी शामिल हैं। A ग्रेड को सालाना 50 लाख, B ग्रेड को 30 लाख और ग्रेड C को सालाना 10 लाख मिलेंगे।

खबरें और भी हैं...