• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Bhaskar Cricket Podcast Rishabh Pant Batting As If Beating The Enemy In His Street Rahane Career Is Now In Danger

भास्कर क्रिकेट पॉडकास्ट:ऋषभ पंत ने ऐसी बैटिंग की मानो दुश्मन को उसकी गली में पीट रहे हों, रहाणे का करियर अब खतरे में

नई दिल्ली13 दिन पहले

केपटाउन टेस्ट में जीत के लिए 212 रन के टारगेट का पीछा करते हुए साउथ अफ्रीका ने तीसरे दिन स्टंप्स तक अपनी दूसरी पारी में दो विकेट खोकर 101 रन बना लिए हैं। कीगन पीटरसन 48 रन बनाकर नाबाद पर हैं। दिग्गज कमेंटेटर सुशील दोषी ने अपने पॉडकास्ट में कहा कि मैच में साउथ अफ्रीका का पलड़ा भारी है। चौथे दिन भारत को जल्दी दो-तीन विकेट निकालने होंगे, तभी बात बनेगी। दोषी ने भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत की भी जमकर तारीफ की।

सिर्फ पंत का बल्ला बोला, बाकी खामोश
दोषी ने कहा कि पंत ने बेहतरीन अंदाज में बल्लेबाजी की। यह बेमिसाल पारियों में से एक है। उन्होंने इस तरह का खेल दिखलाया मानों दुश्मन को उसकी गली में पीट रहे हों। हालांकि, पंत को दूसरे छोर से अच्छा साथ नहीं मिला। भारत का कोई अन्य बल्लेबाज 30 रन भी नहीं बना पाया।

रहाणे का टीम में बने रहना मुश्किल
चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर दोषी ने कहा कि पुजारा तो अभी खेलेंगे, लेकिन रहाणे का करियर अब खतरे में है। रहाणे को सिलेक्टर्स ने भरपूर मौके दिए। टीम मैनेजमेंट भी उन्हें हर मैच में मौका देता रहा, लेकिन वे लंबे समय से कसौटी पर खरा नहीं उतर पा रहे हैं। अगली टेस्ट सीरीज में उन्हें टीम से बाहर होना पड़ सकता है।

साउथ अफ्रीका को मिला नया स्टार
दोषी साउथ अफ्रीका के युवा बल्लेबाज कीगन पीटरसन से खासा प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि पीटरसन बहुत ही सुलझे हुए बल्लेबाज हैं और उन्हें पता होता है कि कब आक्रमण करना है और कब डिफेंस। भारतीय गेंदबाज अगर उन्हें और तेंबा बउमा का विकेट जल्द ले लेते हैं तो भारतीय टीम इस मैच को अब भी जीत सकती है।

टेक्नोलॉजी सबके लिए एक समान
मैच के तीसरे दिन डीन एल्गर के विकेट को लेकर खासा विवाद हुआ। DRS लेने की वजह से एल्गर आउट होने से बच गए और भारतीय कप्तान विराट कोहली इससे खासा नाराज दिखे। रीप्ले से ऐसा लग रहा था कि गेंद स्टंप्स पर लगती, लेकिन बॉल ट्रैकिंग के मुताबिक गेंद स्टंप पर नहीं लगती। इस पर दोषी ने कहा कि टेक्नोलॉजी दोनों टीमों के लिए एक समान है। इससे आने वाले फैसले सभी के लिए स्वीकार्य होने चाहिए।