• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Bhaskar Cricket Podcast Sushil Doshi Said Virat Now Has Less Ability To Prove To The Bowlers Modest

भास्कर क्रिकेट पॉडकास्ट:विराट में अब पहले जैसी काबिलियत नहीं रही, केएल राहुल ने फुटवर्क से जीता दिल

नई दिल्लीएक वर्ष पहले

कप्तानी विवाद के बीच टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका दौरे का जोरदार आगाज किया है। पहले टेस्ट मैच के पहले दिन भारत ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए स्टंप्स तक 3 विकेट खोकर 272 रन बना लिए। ओपनर केएल राहुल 122 और अजिंक्य रहाणे 40 रन बनाकर नाबाद हैं। दिग्गज कमेंटेटर सुशील दोषी ने अपने पॉडकास्ट में भारतीय बल्लेबाजों की जमकर तारीफ की। हालांकि, चेतेश्वर पुजारा और कप्तान विराट कोहली के फ्लॉप शो को देखकर वे काफी निराश भी हुए।

राहुल ने दिखाया डिसाइसिव और किफायती फुटवर्क
दोषी ने कहा कि मौजूदा समय में केएल राहुल भारतीय टीम के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक बन गए हैं। साउथ अफ्रीका की तेज पिच पर उन्होंने न सिर्फ निर्णायक (डिसाइसिव) बल्कि किफायती फुटवर्क का भी प्रदर्शन किया। उन्होंने अपने पैरों को उतना ही मूव किया जितनी जरूरत थी, न कम और न ज्यादा। इसका फायादा उन्हें और टीम इंडिया को भरपूर मिला है। दूसरे छोर से मयंक अग्रवाल ने भी राहुल का बेहतरीन साथ दिया। मयंक के ड्राइव्स देखने लायक थे।

पुजारा को अपनी बैटिंग पर विचार करना होगा
एक जमाने में चेतेश्वर पुजारा को तकनीकी रूप से विराट कोहली से भी ज्यादा सक्षम बल्लेबाज माना जाता था, लेकिन दुर्भाग्य से वे लय खो बैठे हैं। उन्हें जल्द ही संभल जाना चाहिए, क्योंकि भारत के पास क्वालिटी युवा बल्लेबाजों की फौज तैयार है।

विराट बहुत दबाव में दिख रहे
दोषी ने कहा कि कप्तान विराट कोहली दबाव में दिख रहे हैं और अपना नेुचरल गेम नहीं खेल पा रहे हैं। विराट पहले अपनी बल्लेबाजी से गेंदबाजों को मामूली साबित कर देते थे। उनकी यह काबिलियत हाल के समय में कम हुई है। इसलिए वे अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पा रहे हैं।

भारत को बनाने होंगे 400 से ज्यादा रन
दोषी ने कहा कि भारतीय टीम ने पहले दिन शानदार बल्लेबाजी जरूर की है, लेकिन इसे दूसरे दिन भी जारी रखने की जरूरत होगी। भारत को कम से कम 400 रन जरूर बनाने चाहिए। अभी सात विकेट बाकी हैं, लिहाजा इसमें मुश्किल नहीं होनी चाहिए।

साउथ अफ्रीका की गेंदबाजी में पहले जैसी बात नहीं
दिग्गज कमेंटेटर ने यह भी कहा कि साउथ अफ्रीका का अटैक पहले की तरह धारदार नहीं रह गया है। एक जमाने में व्हाइट लाइटनिंग के नाम से मशहूर एलन डोनाल्ड और शॉन पोलाक विपक्षी बल्लेबाजों के मन में भय पैदा करते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। इसका फायदा भी भारतीय बल्लेबाजों को मिला है।

खबरें और भी हैं...