जनरल रावत ने ही कराई थी धोनी की आर्मी ट्रेनिंग:माही ने 2 साल पहले मांगी थी इजाजत, CDS ने कहा था- अन्य सैनिकों जैसे ही रक्षक बन पाएंगे

एक महीने पहले

देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) रहे जनरल बिपिन रावत ने ही 2 साल पहले टेरिटोरियल आर्मी में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल बनाए गए क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी को सेना की प्रॉपर ट्रेनिंग करने की इजाजत दी थी। धोनी ने यह ट्रेनिंग करने का उनसे आग्रह किया था। जनरल रावत ने पूर्व भारतीय कप्तान धोनी के इस आग्रह को मंजूर कर लिया था। धोनी ने इसके बाद दो महीने के लिए पैराशूट रेजिमेंट में ट्रेनिंग की थी।

धोनी ने छोड़ दिया था वेस्टइंडीज का दौरा
उस समय टीम इंडिया वेस्टइंडीज के दौरे पर जाने वाली थी। धोनी ने तब BCCI को बताया था कि वे वेस्टइंडीज दौरे पर नहीं जा पाएंगे, क्योंकि वे अगले दो महीने का वक्त भारतीय सेना को देना चाहते हैं।

जनरल रावत ने कहा था- धोनी अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं
ट्रेनिंग के दौरान जनरल रावत ने धोनी को लेकर कहा था कि वे सेना में अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं। वे अन्य सैनिकों की तरह ही रक्षक की भूमिका निभाएंगे। जब कोई भारतीय नागरिक सेना की वर्दी पहनना चाहता है तो वह अपनी उस जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए तैयार हो जाता है, जिसके लिए उसे वर्दी दी गई है।

ट्रेनिंग के दौरान महेंद्र सिंह धोनी।
ट्रेनिंग के दौरान महेंद्र सिंह धोनी।

जनरल रावत ने आगे कहा था कि धोनी ने बेसिक ट्रेनिंग हासिल की है और हम जानते हैं कि वह उस कार्य को पूरा करने में सक्षम हैं। बता दें कि धोनी पैराशूट रेजिमेंट की 106 पैरा टेरिटोरियल आर्मी बटालियन की ट्रेनिंग का हिस्सा बने थे। इस ट्रेनिंग के दौरान धोनी ने आम सैनिकों की तरह ही पेट्रोलिंग, गार्ड और पोस्ट की ड्यूटी की थी।

ट्रेनिंग के दौरान धोनी के जूता पालिश करने की ये तस्वीर खूब वायरल हुई थी।
ट्रेनिंग के दौरान धोनी के जूता पालिश करने की ये तस्वीर खूब वायरल हुई थी।

जनरल रावत का हेलिकॉप्टर हो गया है क्रैश
तमिलनाडु में कुन्नूर के जंगलों में बुधवार दोपहर सेना का Mi-17V5 हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया। इस हादसे के बाद हेलिकॉप्टर में आग लग गई। हादसे में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 लोगों की मौत हो गई।