वर्ल्ड कप / मॉर्गन ने टीम से चर्चित जीतों पर बात की, रूट ने याद दिलाए जर्सी पर बने 3 शेर-क्राउन का मतलब



जो रूट (बाएं) और कप्तान इयॉन मॉर्गन (दाएं)। जो रूट (बाएं) और कप्तान इयॉन मॉर्गन (दाएं)।
X
जो रूट (बाएं) और कप्तान इयॉन मॉर्गन (दाएं)।जो रूट (बाएं) और कप्तान इयॉन मॉर्गन (दाएं)।

  • लगातार 2 हार के बाद इंग्लैंड के कप्तान मॉर्गन ने टीम मोटिवेट किया
  • भारत को हरा इंग्लैंड ने वर्ल्ड कप में वापसी की, उसका अगला मुकाबला न्यूजीलैंड से

Dainik Bhaskar

Jul 02, 2019, 12:33 PM IST

निक होल्ट, द टेलीग्राफ. 25 तारीख की शाम को क्रिकेट के मक्का लॉर्ड्स पर इंग्लैंड टीम के खिलाड़ियों के कंधे झुके हुए थे। चाल धीमी थी। वजह- एक महीने पहले तक क्रिकेट वर्ल्ड कप की सबसे बड़ी दावेदार बताई जा रही टीम अब लगातार दो मैच हारकर टूर्नामेंट से बाहर होने के कगार पर थी। कप्तान इयाॅन मॉर्गन पर बड़ा जिम्मा था कि किस तरह इन झुके हुए कंधों को वापस ऊंचा किया जाए। खिलाड़ियों को कैसे मोटिवेट किया जाए। मॉर्गन ने टीम के सीनियर खिलाड़ी जो रूट और सायकोलॉजिस्ट डेविड यंग को बुलाया। इन दोनों से बात करने के बाद टीम मीटिंग बुलाई। इसे 'कल्चर मीट' का नाम दिया। एजेंडा था- साथियों को इंग्लैंड टीम का कल्चर और उसकी ताकत याद दिलाना। 

 

The Telegraph

 

मीटिंग में मॉर्गन ने पिछले कुछ वक्त की इंग्लैंड टीम की ही सबसे चर्चित जीतों के बारे में बात करनी शुरू की। इन बातों में धीरे-धीरे टीम का हर खिलाड़ी शामिल होने लगा। जो खिलाड़ी उन मैचों में अच्छा खेला था, उनके जेहन में भी अच्छी यादें लौटीं। जब टीम मीटिंग का माहौल निराशा से निकलकर कुछ सामान्य और पुरानी अच्छी यादों से भरा हुआ लगने लगा तो मॉर्गन ने अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि- “हमने पिछले 3-4 साल में बेमिसाल क्रिकेट खेला है। हम दुनिया की नंबर-1 वनडे टीम बने। 2 या 3 मैच हार जाने से ये सच नहीं बदल जाता कि ये टीम इस वक्त दुनिया की सबसे हिम्मती टीम है। हमारा खेल बहादुरी से भरा हुआ है। यही हमारी पहचान है। हां, ये बात जरूर है कि ये 2-3 हार हमें सबसे बड़े टूर्नामेंट में मिलीं, जिसकी वजह से कुछ चिंता होना लाजिमी भी है। लेकिन इससे हमारे खेलने का तरीका नहीं बदलने वाला।”
 
मॉर्गन बोले- ये कप जीतने का सबसे अच्छा मौका 
मॉर्गन ने टीम से कहा- “इंग्लैंड के पास पिछले 20 साल में वर्ल्ड कप जीतने का इससे अच्छा मौका नहीं रहा है। हमें तो उन दो हार का शुक्रगुजार होना चाहिए। अब समीकरण आसान हैं। हमारे सामने चार मैच (दो ग्रुप मैच, सेमीफाइनल, फाइनल) हैं और हमें चारों जीतने हैं। वी आर चैंपियन।” 

 

इसके बाद मॉर्गन ने जो रूट को बुलाया। रूट और मॉर्गन ने पिछले साल श्रीलंका दौरे के वक्त टीम को जर्सी पर बने सिंबल का मतलब बताया था, जिसमें 3 शेर और एक क्राउन बना है। रूट ने एक बार फिर टीम को उसी सिंबल का मतलब याद दिलाया। कहा- “जर्सी पर सबसे ऊपर बना ये क्राउन हमारी टीम और हमारे देश का प्रतिनिधित्व करता है। ये हमें याद दिलाता है कि हम वो खुशकिस्मत हैं, जिसे देश के लिए खेलने का मौका मिल रहा है। हमें क्राउन की प्रतिष्ठा के लिए खेलना है और जब हम मैदान छोड़ें तो ये क्राउन अगली पीढ़ी के जिम्मेदार खिलाड़ियों को सौंपना है। इसके नीचे 3 शेर बने हैं। इनका मतलब है- करेज (हिम्मत), यूनिटी (एकता) और रिस्पेक्ट (सम्मान)।” 

 

अब जब इंग्लैंड ने टूर्नामेंट में अब तक अजेय रही भारतीय टीम को हराकर जोरदार वापसी कर ली है, तो कह सकते हैं कि मॉर्गन और रूट की वो कोशिश सफल रही। इंग्लैंड अभी भी वर्ल्ड कप की बड़ी दावेदार है। हालांकि अभी उनका काम पूरा नहीं हुआ है। जैसा कि मॉर्गन ने कहा था- अभी 3 नॉकआउट गेम बचे हैं। 

 

इंग्लैंड की जर्सी पर बना सिंबल और उसका मतलब 

  • Country (देश) 
  • Courage (हिम्मत) 
  • Unity (एकता) 
  • Respect (सम्मान) 
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना