विराट और रोहित को बाहर जाती गेंद, धोनी को स्लोअर खेलने में दिक्कत होती है

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • वर्ल्ड कप-2015 के बाद से टीम इंडिया के 7 मुख्य बल्लेबाजों के आउट होने के पैटर्न का एनालिसिस
  • विराट कोहली लंबे समय से ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंद और धोनी स्लोअर बॉल पर आउट हो रहे हैं

द टेलिग्राफ, लंदन. वर्ल्ड कप उस दौर में है, जहां मैच जीतने के बाद भी टीमों को अपनी कमजोरियों पर काम करते रहना होगा। वरना नॉकआउट में दिक्कत हो सकती है। हमने वर्ल्ड कप-2015 के बाद से टीम इंडिया के बल्लेबाजों के आउट होने के पैटर्न का एनालिसिस किया। इस एनालिसिस के आधार पर जानते हैं कि बल्लेबाजों को किस लाइन-लेंथ की गेंद से दिक्कत होती है और उन्हें किन गलतियों से बचना होगा


विराट 80% मौकों पर ऑफ स्टंप के बाहर खेलते हुए आउट हो रहे हैं 
कप्तान विराट कोहली को ऑफ स्टंप के बाहर की गेंदों पर ध्यान देना होगा। ऑफ स्टंप से स्विंग होती गेंदों के खिलाफ विराट का स्ट्राइक रेट 60.97 रहता है, जो उनके करिअर स्ट्राइक रेट 93.1 से काफी कम है। बाहर स्विंग होती गेंदों पर भी स्ट्राइक रेट 73 का है। 

 \"Virat

 

 ये उन पारियों का ग्राफ है, जब विराट 20 गेंदों में ही आउट हो गए।  80% मौकों पर वे ऑफ स्टंप के बाहर आउट हुए। 


पारी की शुरुआत में रोहित को बाहर स्विंग होती गेंदों पर दिक्कत होती है 
रोहित का करिअर स्ट्राइक रेट 89 का है। पर पारी की शुरुआत में बाहर स्विंग होती गेदों पर उनका स्ट्राइक रेट 52.90 का रह जाता है। स्विंग ही नहीं, बाहर टर्न लेती गेंदों के खिलाफ भी रोहित को दिक्कत होती है। ऐसी गेंदों पर स्ट्राइक रेट 61.11 का रहता है। 

\"Rohit

 

स्लोअर पर धोनी का औसत सिर्फ 10 का 
पारी की शुरुआत में धोनी के खिलाफ तेज गेंदबाज 125 किमी से धीमी रफ्तार की गेंदें फेंकते हैं तो धोनी का औसत 10.50 का, स्ट्राइक रेट 75 का रहता है। इसी वजह से धोनी स्पिनर्स के खिलाफ भी संघर्ष करते हैं। स्पिनर्स पर उनका स्ट्राइक रेट 60 तक आ जाता है। 

  • तेज गेंदबाजों पर धोनी का स्ट्राइक रेट 80.21 का है। तेज गेंदबाज उन्हें औसतन हर 38वीं गेंद पर आउट करते हैं। 
  • स्पिनर्स के खिलाफ धोनी का स्ट्राइक रेट 60.73 का है। तेज गेंदबाज उन्हें औसतन हर 108वीं गेंद पर आउट कर पाते हैं। 

राहुल को इनस्विंगर, यॉर्कर से बचना होगा 
राहुल को अंदर की ओर स्विंग होती गेंदें परेशान करती हैं। फुल इनस्विंगर के खिलाफ राहुल का स्ट्राइक रेट 48.71 का है। ऐसी गेंदों पर वे बोल्ड या कैच हुए हैं। यॉर्कर से भी सावधान रहना होगा। 


अंदर आती गेंदों पर जाधव को मुश्किल 
लोअर ऑर्डर में आने की वजह से जाधव को तेज रन बनाने होते हैं। ऐसे में अंदर आती गेंदों पर उनका स्ट्राइक रेट 69 ही रहता है। हालांकि बाहर जाती गेंदों पर ये बढ़कर 141 का हो जाता है। 


शंकर गुड लेंथ बॉल पर 2 बार आउट हुए 
फुल या शॉर्ट बॉल पर शंकर का स्ट्राइक रेट 100 रहता है। गुड लेंथ पर 58 का। गुड लेंथ गेंद ऑफ स्टंप के आस-पास रहे तो शंकर मुश्किल में होते हैं। वर्ल्ड कप में 2 बार इसी जोन में आउट हुए। 

 

ऑफ स्टंप पर हार्दिक का कम स्ट्राइक रेट 
स्पिनर्स के खिलाफ हार्दिक पंड्या का स्ट्राइक रेट 136.87 का रहता है। उन्हें ऑफ स्टंप की बाहर की गेंदों पर दिक्कत होती है। स्ट्राइक रेट 90 तक आ जाता है। हालांकि ये भी अच्छा स्ट्राइक रेट है।

खबरें और भी हैं...