पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

न्यूजीलैंड की पहली पारी में 378 रन:कॉनवे ने 125 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा, लॉर्ड्स में डेब्यू टेस्ट में डबल सेंचुरी लगाने वाले पहले बल्लेबाज; जवाब में इंग्लैंड 111/2

लंदन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डेवन कॉ़नवे (200 रन) की डेब्यू टेस्ट पर बनाई गई डबल सेंचुरी की बदौलत न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में 378 रन बनाए। कॉनवे 144 साल के टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में डेब्यू पर डबल सेंचुरी बनाने वाले दुनिया के सातवें और न्यूजीलैंड के दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने 125 साल पुराना रिकॉर्ड भी तोड़ा। कॉनवे लॉर्ड्स मैदान पर डेब्यू टेस्ट में डबल सेंचुरी लगाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए।

इससे पहले केएस रणजीत सिंह ने 1896 में इंग्लैंड की टीम से खेलते हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में 154 रन की पारी खेली थी। वहीं, 1880 में इंग्लैंड के ही विलियमस ग्रेस ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में 152 रन की पारी खेली थी। 378 रन के जवाब में इंग्लैंड ने दूसरे दिन स्टंप्स तक अपनी पहली पारी में दो विकेट पर 111 रन बना लिए थे। ओपनर रॉरी बर्न्स 59 और कप्तान जो रूट 42 रन बनाकर नाबाद थे।

न्यूजीलैंड के 52% रन अकेले बनाए
कॉनवे ने न्यूजीलैंड की पारी के 52.91 प्रतिशत रन अकेले बनाए। यह किसी डेब्यूटैंट का अपनी टीम के लिए दूसरा सबसे बड़ा योगदान है। वर्ल्ड रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के चार्ल्स बैनरमैन के नाम है। बैनरमैन ने 144 साल पहले ऑस्ट्रेलिया के लिए पहले ही टेस्ट में 67.34% रन बनाए थे। तब बैनरमैन ने 165 रनों की नाबाद पारी खेली थी। वह टेस्ट क्रिकेट के इतिहास का पहला मैच था।

डेब्यू पर दोहरा शतक जमाने वाले दूसरे ओपनर
कॉनवे डेब्यू टेस्ट में दोहरा शतक जमाने वाले ओवरऑल सातवें और दूसरे ओपनर बन गए हैं। इससे पहले जिन बल्लेबाजों ने डेब्यू पर दोहरा शतक जमाया था उनमें सिर्फ श्रीलंका के ब्रैंडन कुरुप्पू ही ओपनर थे। साथ ही कॉनवे पहली ही पारी में दोहरा शतक जमाने वाले छठे बल्लेबाज हैं। वेस्टइंडीज के काइल मायर्स ने अपने पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में दोहरा शतक जमाया था।

इंग्लैंड में डेब्यू करते हुए सबसे बड़ी पारी
कॉनवे इंग्लैंड की धरती पर डेब्यू टेस्ट में सबसे बड़ी पारी खेलने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उनसे पहले यह रिकॉर्ड इंग्लैंड के रणजी के नाम पर था। रणजी ने 1896 में मैनचेस्टर में 154 रनों की नाबाद पारी खेली थी। यानी कॉनवे इंग्लैंड की धरती पर डेब्यू टेस्ट में डबल सेंचुरी जमाने वाले पहले बल्लेबाज भी बन गए हैं। कॉनवे इस मैच की शुरुआत के समय 29 साल, 329 दिन के थे। यानी वे डेब्यू पर दोहरा शतक जमाने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी भी बन गए हैं।

डेब्यूटैंट ओली रॉबिंसन ने लिए 4 विकेट
न्यूजीलैंड की पहली पारी को 400 रन से कम में समेटने में इंग्लैंड के डेब्यूटैंट तेज गेंदबाज ओली रॉबिंसन ने अहम भूमिका निभाई। उन्होंने 75 रन देकर चार विकेट लिए। मार्क वुड ने 3 और जेम्स एंडरसन ने 2 विकेट लिए। कॉनवे रन आउट हुए। वे न्यूजीलैंड की पारी में आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे। कॉनवे ने कुल 578 मिनट क्रीज पर बिताए। वे डेब्यू पर सबसे ज्यादा मिनट क्रीज पर बिताने के मामले में दूसरे स्थान पर रहे। कुरुप्पू ने रिकॉर्ड 777 मिनट क्रीज पर बिताए थे।

खबरें और भी हैं...