पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Former Women’s Coach Biju George Says Indian Team Is One Of The Best Fielding Sides In The World

फील्डिंग में भी बेस्ट टीम इंडिया:पूर्व कोच बिजू जॉर्ज ने कहा- मिताली-हरमनप्रीत ने करियर में शायद ही कोई कैच छोड़ा; स्मृति, जेमिमा, दीप्ति और वेदा बेस्ट फील्डर्स

मुंबई14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व फील्डिंग कोच ने कहा है कि भारत की महिला क्रिकेट टीम दुनिया की बेस्ट फील्डिंग टीम है। - Dainik Bhaskar
पूर्व फील्डिंग कोच ने कहा है कि भारत की महिला क्रिकेट टीम दुनिया की बेस्ट फील्डिंग टीम है।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम टेस्ट, वनडे और टी-20 सीरीज के लिए इंग्लैंड पहुंच चुकी है। टीम 16 जून से इंग्लिश टीम के खिलाफ एकमात्र टेस्ट खेलेगी। इसके बाद वनडे और टी-20 सीरीज खेली जाएगी। भारत की पूर्व फील्डिंग कोच बिजू जॉर्ज ने कहा है कि हमारी महिला क्रिकेट टीम फील्डिंग में भी बेस्ट है।

उन्होंने कहा कि मिताली राज, हरमनप्रीत कौर और झूलन गोस्वामी ने शायद ही अपने करियर में कोई कैच ड्रॉप किया होगा। बिजू ने कहा कि स्मृति मंधाना, जेमिमा रोड्रिग्स, दीप्ति और वेदा कृष्णमूर्ति टीम की बेस्ट फील्डर हैं। तानिया दुनिया की बेस्ट विकेटकीपर में से एक हैं। जबकि दीप्ति थ्रो में माहिर हैं।

2017 में बेस्ट फील्डिंग यूनिट थी टीम इंडिया
बिजू जुलाई 2017 से लेकर नवंबर 2019 तक टीम इंडिया की कोच रहीं थीं। उन्होंने क्रिकेटनेक्स्ट से कहा- 2017 वर्ल्ड कप में हमारी टीम बेस्ट थी। हमने सबसे ज्यादा कैच लिए, सबसे ज्यादा रन रोके, सबसे ज्यादा विकेट के पीछे शिकार किए। बिजू फिलहाल स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) और LNCPE के साथ काम कर रही हैं।

शरीर के ढांचे से भी फील्डिंग में पड़ता है फर्क
बिजू ने कहा- मुझे लगता है अच्छी फील्डिंग के लिए कुछ फेक्टर्स चाहिए होते हैं। शरीर के ढांचे से भी फर्क पड़ सकता है। बड़े हाथ और बांह इसमें काफी मदद कर सकते हैं। हमारी कई खिलाड़ियों में इसकी कमी है। उदाहरण के तौर पर एक साधारण सी लंबाई वाली ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी, भारतीय खिलाड़ी के मुकाबले ज्यादा फायदा मिलता है। इसके साथ ही फील्ड कवर करने में भी दोनों के बीच काफी अंतर होता है। यहां टेक्नीक का कोई मायने नहीं है।

खिलाड़ियों को एक जगह सेट कर प्रैक्टिस कराई
बिजू ने कहा- जब मैंने भारतीय टीम को जॉइन किया, तो मेरा फोकस सिर्फ हर पोजिशन के लिए एक परफेक्ट खिलाड़ी ढूंढना था। जैसे कि मिताली के लिए मिड-विकेट या मिड-ऑन बेस्ट था। वह वहां से बॉलर्स से भी बातचीत कर सकती थीं। हरमन के लिए मिड-विकेट। स्मृति और दीप्ति के लिए बाउंड्री लाइन, क्योंकि वे बहुत फास्ट हैं और उनकी थ्रो शानदार है। हमने इसी मुताबिक फील्ड सेट कर प्रैक्टिस की।

''आने वाले सीरीज में फील्डिंग पर देना होगा ध्यान''
55 साल की बिजू ने कहा कि साउथ अफ्रीका के खिलाफ मार्च में हुई सीरीज में टीम की फील्डिंग लचर रही थी। उन्होंने कहा- मुझे लगता है अब भी खिलाड़ियों की स्पीड और स्ट्रेंथ को लेकर काम करने की जरूरत है। लॉकडाउन की वजह से यह काफी प्रभावित हुआ है। घर से निकलकर अचानक से मैदान पर बॉल को ट्रैक कर पाना मुश्किल होता है। साउथ अफ्रीका के खिलाफ यही हुआ था।

खबरें और भी हैं...