बीसीसीआई / सौरव गांगुली ने कहा- मैं ऐसे समय में अध्यक्ष बन रहा हूं, जब बोर्ड की छवि लगातार खराब हो रही



पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली। (फाइल फोटो) पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली। (फाइल फोटो)
X
पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली। (फाइल फोटो)पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली। (फाइल फोटो)

  • सौरव गांगुली ने बोर्ड अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरा
  • गांगुली 5 साल से बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2019, 05:40 PM IST

खेल डेस्क. पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के नए अध्यक्ष के लिए सोमवार को नामांकन दाखिल किया। उनका कार्यकाल सितंबर, 2020 तक होगा। गांगुली ने कहा, ‘ये मेरे लिए कुछ अच्छा करने का शानदार मौका है। मैं ऐसे समय में इस कुर्सी पर बैठ रहा हूं, जब बोर्ड की छवि लगातार खराब हो रही है।’ बोर्ड अध्यक्ष पद के लिए गांगुली का नाम रविवार रात मुंबई में बीसीसीसीआई की बैठक में सामने आया। उन्होंने इस रेस में बृजेश पटेल को पीछे छोड़ा।

 

गांगुली ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘मैं देश के लिए खेला और कप्तानी की। इस कुर्सी पर बैठ रहा हूं, जब बोर्ड की छवि पिछले 3 साल से लगातार खराब हो रही है। मेरे लिए कुछ कर दिखाने का मौका है।’

 

गांगुली का कार्यकाल 10 महीने का ही होगा
गांगुली का कार्यकाल सितंबर, 2020 तक होगा। वे 5 साल से बंगाल क्रिकेट के अध्यक्ष हैं। बोर्ड में 6 साल तक किसी पद पर रहने के बाद उन्हें कूलिंग ऑफ (आराम) दिया जाएगा। अपने प्रशासनिक गुरु जगमोहन डालमिया की तरह ही गांगुली इस पद की रेस में तब आए हैं, जब ऐसा लग रहा था कि अध्यक्ष पद पर कोई और पहुंचेगा।

 

‘मेरी पहली प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेट’

गांगुली ने आगे कहा, ‘छोटे कार्यकाल में मेरी पहली प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल करना होगा। भारतीय क्रिकेट में सभी हितधारकों से मिलने की योजना है। मैं कुछ ऐसा करना चाहता हूं जो सीओए ने 33 महीनों तक नहीं किया।’ गांगुली ने 113 टेस्ट में 7212 और 311 वनडे में 11363 रन बनाए। वे साल 2000 से 2005 तक टीम इंडिया के कप्तान थे। इसके बाद पिछले 5 साल से गांगुली बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

 

गांगुली गृह मंत्री अमित शाह से मिले थे
गांगुली ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। उनसे पूछा गया कि क्या वे बंगाल में भाजपा के लिए प्रचार करेंगे, तो गांगुली ने इससे मना कर दिया। उन्होंने कहा, ‘ऐसा नहीं है। मुझसे किसी ने भी इस पर बात नहीं की।’ 

 

डालमिया मेरे लिए पिता समान थे: गांगुली
गांगुली जब टीम इंडिया के कप्तान थे, तब जगमोहन डालमिया बोर्ड के अध्यक्ष थे। डालमिया ने बोर्ड में कई अहम बदलाव किए थे। उनके बारे में पूछे जाने पर गांगुली भावुक हो गए। उन्होंने कहा, ‘मैंने कभी नहीं सोचा था कि उनकी कुर्सी पर बैठूंगा। वे मेरे लिए पिता समान थे। बोर्ड में श्रीनिवासन और अनुराग ठाकुर जैसे कई बेहतरीन अध्यक्ष हुए हैं, जिन्होंने अच्छा काम किया।’

 

अनुराग गुट ने गांगुली का नाम आगे किया
गांगुली के नाम पर सहमति से पहले कई सदस्यों ने आपत्ति जताई। इस फैसले को लेकर बोर्ड के सदस्य दो गुट बंटे थे। इनमें एक अनुराग ठाकुर और दूसरा एन श्रीनिवासन का गुट था। श्रीनिवासन गुट बृजेश को अध्यक्ष बनाना चाह रहा था, लेकिन अंत में अनुराग गुट के उम्मीदवार के नाम पर ही सहमति बनी। गांगुली ने कहा, ‘निर्विरोध चुना जाना बड़ी जिम्मेदारी होती है। आप निर्विरोध चुने जाए या नहीं, जिम्मेदारी हमेशा बड़ी होती है। आर्थिक रूप से भारत क्रिकेट का पावरहाउस है। हमारे सामने कई चुनौतियां होंगी।’
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना