हिमाचल प्रदेश ने रचा इतिहास:तमिलनाडु को 11 रन से हराकर पहली बार विजय हजारे ट्रॉफी की अपने नाम; कार्तिक का शतक गया बेकार

एक वर्ष पहले

विजय हजारे ट्रॉफी के फाइनल में हिमाचल प्रदेश ने शानदार प्रदर्शन करते हुए तमिलनाडु को 11 रन से हराकर इतिहास रच दिया है। खिताबी मुकाबले में तमिलनाडु ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 49.4 ओवर में 314 रन बनाए, जवाब में हिमाचल ने 47.3 ओवर में 299 रन बनाए लेकिन आखिरी समय में अंधेरा हो गया। इसके बाद VJD नियम के तहत हिमाचल को विजेता घोषित किया गया। हिमाचल ने पहली बार कोई घरेलू टूर्नामेंट जीतने में सफल रही है।

क्या होता है VJD नियम
भारतीय घरेलू क्रिकेट में लिस्ट ए, टी20 क्रिकेट और भारतीय महिलाओं के मैचों में बारिश, मौसम की मार या किसी अन्य तरह की बाधा के वक्त VJD Method का इस्तेमाल किया जाता है।

शुभम अरोड़ा ने जड़ा शानदार शतक
हिमाचल प्रदेश की जीत में सलामी बल्लेबाज शुभम अरोड़ा का बड़ा योगदान रहा। वो अपना 8वां लिस्ट ए मैच खेल रहे थे और उन्होंने 131 गेंदों में 136 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से 13 चौके और एक निकले। अमित कुमार ने उनका अच्छा साथ निभाया। उन्होंने 74 रनों की शानदार पारी खेली। पारी के अंत में कप्तान ऋषि धवन की धुआंधार पारी ने हिमाचल के लिए मैच एकदम आसान बना दिया। उन्होंने 23 गेंदों में नाबाद 42 रन बनाकर अपनी टीम को विजेता बनाया।

कार्तिक का शतक नहीं आया काम
तमिलनाडु के लिए विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने 116 और बाबा इंद्रजीत ने 80 रनों की पारी खेली। वहीं, शानदार फॉर्म में चल रहे शाहरुख खान ने भी 21 गेंदों पर 42 रन की धमाकेदार पारी खेली, लेकिन इन तीनों की पारियां तमिलनाडु को जीत नहीं दिला पाई। इससे पहले तमिलनाडु पांच बार विजय हजारे ट्रॉफी अपने नाम कर चुकी थी।

खबरें और भी हैं...