ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पाकिस्तान का फाइटबैक:506 रन के टारगेट के जवाब में पाक ने बनाया 192/2 का स्कोर, बाबर आजम का शतक

कराची5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच कराची नैशनल स्टेडियम में खेला जा रहा दूसरा टेस्ट मैच रोमांचक मोड़ पर पहुंच गया है । दिन की समाप्ति पर पाकिस्तान ने 82 ओवर्स में 2 विकेट खोकर 192 रन बना लिए हैं । अंतिम दिन उसे जीत के लिए 314 रन और बनाने होंगे । कप्तान बाबर आज़म के साथ मिलकर अब्दुल्ला शफीक ऑस्ट्रेलिया के जबड़े से जीत छीनने की भरसक कोशिश कर रहे है। पहली पारी में केवल 148 रनों पर सिमटने वाली पाकिस्तान ने दूसरी इनिंग में गजब का जज्बा दिखाया है । बाबर 102 और शफीक 71 पर नाबाद खेल रहे हैं ।

पहले मैच की दोनों परियों में शतक ठोकने वाले इमाम - उल - हक दूसरे मैच में सस्ते में चलते बने। अजहर अली भी कुछ खास नहीं कर सके । ऐसे में पाकिस्तान के सर पर चौथे दिन ही हार का खतरा मंडरा रहा था । इन मुश्किल हालात में बाबर आज़म ने साबित किया कि क्यों उन्हें विश्व के बेस्ट बल्लेबाजों में शुमार किया जाता है।

पाकिस्तान ने की वापसी
केवल 21 रनों पर शुरुआती 2 विकेट गंवा चुकी पाकिस्तानी टीम ने गजब का कमबैक किया। उसके बाद बल्लेबाजी करने आए कप्तान बाबर आजम ने अब्दुल्ला शफीक के साथ पाकिस्तान की पारी संभाला। शफीक ने 153 गेंदों पर अपनी फिफ्टी पूरी की। उन्होंने अपनी पारी में 3 चौके और 1 छक्का भी जड़ा। वहीं आजम ने 83 गेंदों पर अर्धशतक बनाया। उन्होंने अपनी पारी में 7 चौके लगाए। वहीं 102 गेंदों पर उन्होंने 50 रन की पार्टनरशिप की, जबकि 389 गेंदों पर उनके बीच 150 रन की साझेदारी हुई। खेल समाप्त होने तक उन दोनों के बीच 171 रनों की पार्टनरशिप हुई। शफीक 71 रन और आजम 102 रन बनाकर नाबाद रहे।

ड्रॉ कराना जीत से कम नहीं
अगर पाकिस्तानी टीम यहां से मैच ड्रॉ कराने में सफल रही तो इसे जीत के रूप में ही देखा जाएगा। जिस विकेट पर मिचेल स्टार्क जैसा खिलाड़ी रिवर्स स्विंग करा रहे थे , वहां यह फाइटबैक दमदार रहा। अगर पाकिस्तान 506 रनों का यह विशाल लक्ष्य चेज कर लेता है तो सबसे बड़े टारगेट को चेज करने का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लेगा । इसके पहले 2003 में वेस्टइंडीज ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही चौथी पारी में 418 रनों का विशाल लक्ष्य हासिल किया था।

पाकिस्तान के जीतने पर मनोबल ऊंचा होगा
अगर पाकिस्तान जीतती है तो उसका मनोबल ऊंचा होगा।मिचेल स्टार्क और पैट कमिंस की जोड़ी पर पाकिस्तानी बल्लेबाजों ने भरपूर दबाव बनाए रखा और उन्हें 2 विकेट के बाद किसी भी सफलता से दूर कर दिया। शतक पूरा करने के बाद बाबर आज़म ने चीखते हुए दौड़ लगाई और बल्ला हवा में उछाल दिया। उन्हें देखकर ऐसा महसूस हो रहा था कि यह पारी सचमुच बेहद खास है। उनके आक्रामक जश्न में तमाम आलोचनाओं का जवाब छिपा था ।

पहले टेस्ट में पिच को लेकर हुई थी आलोचना
पहले टेस्ट मैच में सपाट पिच बनाने को लेकर आलोचना झेल रहे पीसीबी ने दूसरे टेस्ट में गेंदबाजों को भी थोड़ी मदद देने वाली विकेट तैयार की । इसका परिणाम हुआ कि ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान की पहली पारी केवल 148 रनों पर ही समेट दी । ऐसे में पूरी दुनिया से पाकिस्तान की आलोचनाओं का दौर शुरू हो गया। एक्सपर्ट कहने लगे कि मुश्किल विकेट पर पाकिस्तान की असलियत सामने आ गई । ऐसे में बाबर आज़म ने शफीक के साथ मिलकर मुकाबले की सूरत बदल दी और खुद को साबित किया ।