--Advertisement--

क्रिकेट / दर्शकों की कम संख्या से परेशान ऑस्ट्रेलिया की भारत से डे-नाइट टेस्ट खेलने की अपील



भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन सीए प्रमुख केविन रॉबर्ट्स ने कमेंटेटर्स से बातचीत में कई मुद्दों पर अपने विचार रखे। भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन सीए प्रमुख केविन रॉबर्ट्स ने कमेंटेटर्स से बातचीत में कई मुद्दों पर अपने विचार रखे।
IND vs AUS Test Series: Australia appeals to India to play Day-Night Test
X
भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन सीए प्रमुख केविन रॉबर्ट्स ने कमेंटेटर्स से बातचीत में कई मुद्दों पर अपने विचार रखे।भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के दूसरे दिन सीए प्रमुख केविन रॉबर्ट्स ने कमेंटेटर्स से बातचीत में कई मुद्दों पर अपने विचार रखे।
IND vs AUS Test Series: Australia appeals to India to play Day-Night Test

  • ऑस्ट्रेलिया ने 2015 के बाद से अब तक दिन-रात्रि प्रारूप के चार टेस्ट खेले
  • इनमें से तीन टेस्ट एडिलेड में खेले और सभी जीते
  • अगले साल जनवरी में श्रीलंका से ब्रिसबेन में दूधिया रोशनी में टेस्ट खेलेगा

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 04:23 PM IST

एडिलेड. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने एडिलेड में खेले जाने वाले टेस्ट को स्थायी तौर पर दिन-रात्रि प्रारूप में खेलने की इच्छा जताई है। साथ ही उसने भारत से अपील की है कि अगली बार ऑस्ट्रेलिया दौरे में वह यहां खेले जाने वाले मैच को गुलाबी गेंद से खेलने के लिए अपनी मंजूरी दे दे।

रॉबर्ट्स ने बीसीसीआई से अपने फैसले पर फिर से विचार करने को कहा

  1. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड के प्रमुख केविन रॉबर्ट्स ने भारतीय बोर्ड से कहा कि वह इस बात पर फिर से विचार करे कि जब 2020-21 में अगली बार यहां दौरे पर आए तो इस मैदान पर होने वाले टेस्ट को गुलाबी गेंद से दिन-रात्रि प्रारूप में खेले

  2. भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीमें मौजूदा चार टेस्ट की सीरीज का पहला मैच इसी मैदान पर खेल रही हैं। हालांकि, टेस्ट का पहला दिन दर्शक संख्या के लिहाज से निराशाजनक रहा। यहां स्टेडियम में मैच देखने के लिए बहुत कम लोग पहुंचे थे।

  3. सीए ने मौजूदा सीरीज के पहले टेस्ट को दिन-रात्रि कराने का प्रस्ताव काफी पहले ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सामने रखा था। हालांकि, बीसीसीआई ने उसके प्रस्ताव को मानने से इनकार कर दिया था।

  4. दरअसल, भारत ने अब तक दिन-रात्रि प्रारूप में एक भी टेस्ट नहीं खेला है। ऐसे में वह कोई नया प्रयोग कर बहुप्रतीक्षित सीरीज में खुद को जोखिम में नहीं डालना चाहती थी, जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम का गुलाबी गेंद से रिकॉर्ड काफी अच्छा रहा है।

  5. पिछले तीन साल में एडिलेड में दूधिया रोशनी में होने वाले टेस्ट में पहले दिन दर्शक संख्या 47,000, 32,000 और 55,000 दर्ज की गई है, लेकिन इस टेस्ट के पहले दिन गुरुवार को यह 24,000 रही थी। कम दर्शक संख्या ने सीए की चिंता बढ़ा दी है।

  6. केविन रॉबर्ट्स ने कहा, हमें लगता है कि यदि मैच गुलाबी गेंद से मैच होता तो दूसरे प्रांत से करीब 15000 दर्शक और आ सकते थे। दिन में होने के कारण हमारे प्रशंसक यहां नहीं पहुंचे। हमें इससे फर्क पड़ता है, क्योंकि उनकी सोच हमारे लिए मायने रखती है।

  7. उन्होंने बताया, पिछले वर्षों में यहां काफी बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे। हम भविष्य में भी ऐसा ही चाहते हैं। मुझे यकीन है कि हम 2020-21 में भारत के अगले ऑस्ट्रेलिया दौरे तक मेहमान टीम को  गुलाबी गेंद से खेलने के लिए मना लेंगे।

  8. रॉबर्ट्स ने कहा, भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसे दिन-रात्रि टेस्ट प्रारूप से अब तक समस्या है। टेस्ट क्रिकेट को फिर से लोकप्रिय बनाने के लिए गुलाबी गेंद से खेल बहुत जरूरी है, ताकि ताकि पांच दिनों के खेल में लोगों की रुचि बरकरार रहे।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..