इंडिया की पॉसिबल प्लेइंग-XI:विराट की वापसी तय, रहाणे की जगह हनुमा विहारी को मौका? अनफिट सिराज होंगे बाहर

केपटाउन4 महीने पहले

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच 11 जनवरी से 3 मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा और निर्णायक मुकाबला खेला जाएगा। ये मैच केपटाउन के मैदान पर होगा। सेंचुरियन टेस्ट 113 रन से जीतने के बाद कोहली एंड कंपनी को सीरीज जीत का फेवरेट माना जा रहा था, लेकिन जोहान्सबर्ग में मेजबान टीम ने दमदार कमबैक करते हुए सीरीज को 1-1 की बराबरी पर ला दिया। अब केपटाउन में जो जीतेगा, वो सीरीज पर भी कब्जा जमा लेगा। चलिए जानने की कोशिश करते हैं कि अंतिम टेस्ट में भारतीय टीम किन XI खिलाड़ियों के साथ मैदान पर उतर सकती है।

ओपनिंग जोड़ी और नंबर-3
इस मैच में भी बतौर ओपनर केएल राहुल और मयंक अग्रवाल ही नजर आएंगे। इस जोड़ी ने इस सीरीज में अभी तक अच्छा खेल दिखाया है। सेंचुरियन में टीम इंडिया की जीत में ओपनिंग जोड़ी ने बड़ी भूमिका निभाई थी। राहुल और मयंक के बीच तालमेल भी कमाल का रहा है। दोनों खिलाड़ी बढ़िया फॉर्म में हैं और केपटाउन में भी बड़ा स्कोर बनाने के लिए बेताब रहेंगे। केएल राहुल मौजूदा सीरीज में दो बार 50+ का स्कोर बना चुके हैं और मयंक का नाम पर भी एक अर्धशतक दर्ज है।

नंबर-3 पर चेतेश्वर पुजारा पर भरोसा कायम रह सकता है। जोहान्सबर्ग टेस्ट की दूसरी पारी में उन्होंने अच्छा खेल दिखाते हुए 61.63 के स्ट्राइक रेट के साथ 53 रन बनाए थे। पुजारा ने भले ही पिछले लंबे समय से बड़ी पारियां न खेली हों, लेकिन केपटाउन टेस्ट में उनकी जगह बहुत हद तक पक्की नजर आ रही है।

कप्तान की वापसी तय, लेकिन नंबर-5 का क्या
दूसरे टेस्ट में अनफिट होने के चलते भारतीय टेस्ट कैप्टन विराट कोहली की प्लेइंग-XI में वापसी पक्की नजर आ रही है। जोहान्सबर्ग टेस्ट के दौरान कोहली को मैदान पर बैटिंग का अभ्यास भी करते देखा गया था और कोच राहुल द्रविड़ ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनकी वापसी के संकेत दिए थे। पहले टेस्ट में विराट को स्टार्ट जरूर मिला था, लेकिन वह बड़ी पारी नहीं खेल सके थे। पूरे मैच में उनके बल्ले से 53 रन देखने को मिले थे। अफ्रीका के खिलाफ तीसरे मुकाबले में कोहली जरूर बड़ी पारी खेलने के लिए बेताब रहेंगे।

अब बड़ा सवाल ये है कि नंबर-5 पर किसको मौका मिलेगा। इस क्रम के लिए दो दावेदार हैं। अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी। रहाणे ने दूसरे टेस्ट की दूसरी पारी में फिफ्टी जरूर लगाई थी, लेकिन ये बात सभी जानते हैं कि वह फॉर्म में नहीं हैं। 2021 में अजिंक्य का औसत 21 से भी कम का रहा था। वहीं, विहारी ने जोहान्सबर्ग में कोहली की गैरमौजूदगी में अच्छा खेल दिखाया था। हनुमा ने दूसरी पारी में कठिन परिस्तिथियों में 84 गेंदों पर नाबाद 40 रन बनाए थे। वह फॉर्म में भी और हाल ही में सा. अफ्रीका ए के खिलाफ भी उनके बल्ले से रन देखने को मिले थे। नंबर-5 का चयन करना टीम मैनेजमेंट के लिए वाकई में मुश्किल होने वाला है।

विकेटकीपर
टीम इंडिया के पास ऋषभ पंत और ऋद्धिमान साहा के रूप में दो विकेटकीपर बल्लेबाज हैं। पहले दो टेस्ट में पंत को मौका दिया गया। हालांकि, चार पारियों में वह 14.75 की साधारण सी औसत के साथ केवल 59 रन ही बना सके। ऋषभ ने काफी समय से टेस्ट में कोई दमदार पारी नहीं खेली है और उनकी जगह पर भी सवाल उठ रहे हैं, लेकिन इसके बाद भी केपटाउन टेस्ट में उनके ऊपर विश्वास जताया जा सकता है। साहा के पास अनुभव जरूर है, लेकिन विदेशी पिचों पर पंत का रिकॉर्ड काफी दमदार रहा है।

ऑलराउंडर अश्विन से फिर रहेगी उम्मीद
पहले दो मैचों में भले ही आर अश्विन ने 3 विकेट लिए हों, लेकिन तीसरे मैच में भी उनको मौका मिल सकता है। अश्विन का अनुभव केपटाउन टेस्ट में टीम के काम आ सकता है। साथ ही वह निचले क्रम पर अच्छी बल्लेबाजी भी कर सकते हैं। दूसरे मैच में अश्विन ने पहली पारी में बहुमूल्य 46 रनों की पारी खेली थी।

पेस अटैक
तीसरे टेस्ट की प्लेइंग-XI में भारतीय पेस अटैक में एक बदलाव नजर आ सकता है। टीम में चोटिल मोहम्मद सिराज की जगह इशांत शर्मा या उमेश यादव को मौका मिल सकता है। सिराज को जोहान्सबर्ग टेस्ट के दौरान 'हैमस्ट्रिंग' में खिंचाव आ गया था, जिसके चलते पूरे मैच में वो केवल 15.5 ओवर ही डाल सके थे। अगर वो पूरी तरह से फिट नहीं हो पाते हैं, तो ये देखने लायक होगा कि केपटाउन में कैप्टन कोहली इशांत को मौका देते हैं या उमेश को आजमाते हैं।

अन्य तेज गेंदबाजों में जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और शार्दूल ठाकुर की जगह पक्की है। शमी इस सीरीज में टीम इंडिया के लीडिंग विकेट टेकर हैं और अभी तक 11 विकेट ले चुके हैं। बुमराह के खाते में सिर्फ 6 विकेट देखने को मिले हैं। केपटाउन में जसप्रीत बुमराह से टीम को बहुत उम्मीदें रहेंगी। लॉर्ड शार्दूल की बात करें तो पिछले टेस्ट में पहली पारी में रिकॉर्ड 7 विकेट लेकर धूम मचाने वाले ठाकुर तीसरे मैच में भी अपनी लय बरकरार रखना चाहेंगे। मौजूदा सीरीज में शार्दूल ठाकुर ने अभी तक 10 खिलाड़ियों को पवेलियन का रास्ता दिखाया है।