मिडिल ऑर्डर की धीमी बैटिंग से BCCI खुश नहीं:सौरव गांगुली और जय शाह ने सलेक्टर्स के साथ मीटिंग की, 7 से 16 ओवर की बैटिंग में प्रॉब्लम

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह एशिया कप में टीम इंडिया की मध्य ओवरों में बल्लेबाजी को लेकर खुश नहीं है। उन्होंने टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम के ऐलान से पहले सलेक्टर्स से बात की थी। ऑस्ट्रेलिया में 16 अक्टूबर से शुरू होने वाली टी-20 वर्ल्ड कप के लिए सोमवार को भारतीय टीम की घोषणा की गई थी। 15 सदस्यों के अलावा 4 स्टैंडबाय खिलाड़ियों के नामों का भी ऐलान किया गया था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक BCCI अध्यक्ष और सचिव ने सलेक्टर्स से टीम इंडिया के प्रदर्शन को लेकर चर्चा की। उन्होंने एशिया कप में मध्य ओवरों (7-16) में बने धीमी रनों को लेकर चिंता जाहिर की। दरअसल एशिया कप में भारत को सुपर-4 में पाकिस्तान और श्रीलंका से हार का सामना करना पड़ा था और टीम इंडिया फाइनल से बाहर हो गई थी। जबकि, टूर्नामेंट से पहले टीम इंडिया को ट्रॉफी का मुख्य दावेदार माना जा रहा था।

एशिया कप में अगर भारत की बल्लेबाजी पर नजर डालें तो टीम इंडिया की खास तौर से 7वे से 16वें ओवर के बीच पारी लड़खड़ा गई थी। पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में 9 ओवर में 3 विकेट खोकर 59 रन बने थे। वहीं हांगकांग के खिलाफ इन ओवर में 62 रन और जबकि पाकिस्तान के खिलाफ सुपर 4 में 1 विकेट पर 62 रन टीम इंडिया ने बनाए थे। वहीं अफगानिस्तान के प्रदर्शन को छोड़ दिया जाए, तो श्रीलंका के खिलाफ 9 ओवरों में सबसे ज्यादा 78 रन बने थे।

कैसी रही एशिया कप में 7 से 16 ओवर तक भारत की बैटिंग
ओवर ऑल बात करें तो एशिया कप में भारत ने 5 मैच खेले। इन सभी मैचों के 7 से 16 ओवर में भारत ने कुल 421 रन बनाए। इस दौरान 12 विकेट गिरे। रन रेट 8.42 का रहा। भारतीय बल्लेबाजों ने इन ओवर्स में कुल 28 चौके और 15 छक्के जमाए।

टी- 20 वर्ल्ड कप में बुमराह और हर्षल पटेल की हुई है वापसी
एशिया कप में चोट की वजह से बाहर रहे जसप्रीत बुमराह और हर्षल पटेल की टीम में वापसी हुई है। इसके अलावा टीम में स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा की जगह अक्षर पटेल को मौका दिया गया है। जडेजा की घुटने की सर्जरी हुई है। वो एशिया कप में चोटिल हो गए थे। वह वर्ल्ड कप की टीम से बाहर हो गए हैं। एशिया कप में जडेजा के टीम से बाहर होने के बाद भारतीय टीम पटरी से उतर गई थी और लगातार 2 मैच में हार के बाद टीम इंडिया एशिया कप से बाहर हो गई।

शमी को शामिल नहीं किए जाने पर उठ रहे हैं सवाल
वहीं मोहम्मद शमी को टीम में शामिल नहीं किए जाने पर सवाल उठाए जा रहे हैं। पूर्व भारतीय क्रिकेटर और सिलेक्शन कमेटी के पूर्व चेयरमैन कृष्णमाचारी श्रीकांत ने कहा, 'अगर मैं सिलेक्शन कमेटी का चेयरमैन होता, तो मोहम्मद शमी टीम में जरूर होते। हम ऑस्ट्रेलिया में वर्ल्ड कप खेलने जा रहे हैं। उनके पास पेस है और बाउंस करने की क्षमता है। वह शुरुआती ओवर में विकेट ले सकते हैं। ऐसे में मैं हर्षल के बजाय शमी को टीम में रखता। इसमें कोई संदेह नहीं कि हर्षल पटेल एक अच्छे गेंदबाज हैं, लेकिन परिस्थितियों के मुताबिक मोहम्मद शमी बेहतर खिलाड़ी साबित होते।’

वहीं पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन भी सिलेक्शन कमेटी के इस फैसले से नाखुश नजर आ रहे हैं। उन्होंने ट्वीट कर के अपनी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने लिखा, 'टी-20 वर्ल्ड कप के 15 सदस्यीय टीम में मोहम्मद शमी और श्रेयस अय्यर को न देखकर हैरान हूं। मेरी नजर में श्रेयस को दीपक हुड्डा की जगह तो मोहम्मद शमी को हर्षल पटेल की जगह टीम में होना चाहिए।'

वहीं पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी दिनेश कनेरिया ने भी कहा कि मोहम्मद शमी को ही टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम में शामिल किया जाना चाहिए था।

खबरें और भी हैं...