--Advertisement--

एडिलेड टेस्ट / चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 104/4, शमी-अश्विन ने 2-2 विकेट लिए ; स्कोरकार्ड के लिए क्लिक करें



मार्क्स हैरिस का विकेट लेने पर मोहम्मद शमी को बधाई देते साथी खिलाड़ी। मार्क्स हैरिस का विकेट लेने पर मोहम्मद शमी को बधाई देते साथी खिलाड़ी।
चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे चौथे विकेट के लिए 87 रन की साझेदारी की। चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे चौथे विकेट के लिए 87 रन की साझेदारी की।
गेंद को सीमा रेखा के पार भेजते चेतेश्वर पुजारा। गेंद को सीमा रेखा के पार भेजते चेतेश्वर पुजारा।
चौथे दिन का खेल शुरू होने से पहले शेन वार्न से बातचीत करते भारतीय कोच रवि शास्त्री और ऋषभ पंत। चौथे दिन का खेल शुरू होने से पहले शेन वार्न से बातचीत करते भारतीय कोच रवि शास्त्री और ऋषभ पंत।
X
मार्क्स हैरिस का विकेट लेने पर मोहम्मद शमी को बधाई देते साथी खिलाड़ी।मार्क्स हैरिस का विकेट लेने पर मोहम्मद शमी को बधाई देते साथी खिलाड़ी।
चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे चौथे विकेट के लिए 87 रन की साझेदारी की।चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे चौथे विकेट के लिए 87 रन की साझेदारी की।
गेंद को सीमा रेखा के पार भेजते चेतेश्वर पुजारा।गेंद को सीमा रेखा के पार भेजते चेतेश्वर पुजारा।
चौथे दिन का खेल शुरू होने से पहले शेन वार्न से बातचीत करते भारतीय कोच रवि शास्त्री और ऋषभ पंत।चौथे दिन का खेल शुरू होने से पहले शेन वार्न से बातचीत करते भारतीय कोच रवि शास्त्री और ऋषभ पंत।

  • मेजबान टीम को जीत के लिए 323 रन का लक्ष्य मिला
  • पहले टेस्ट के चौथे दिन पुजारा-रहाणे के अर्धशतक, दूसरी पारी में भारत 307 रन पर ऑलआउट
  • नाथन लियोन ने सबसे ज्यादा छह विकेट लिए, स्टार्क ने तीन खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 02:25 PM IST

Full Scorecard पर क्लिक करें।

 

एडिलेड. भारत के खिलाफ चार मैच की सीरीज के पहले टेस्ट के चौथे दिन का खेल खत्म होने के समय ऑस्ट्रेलिया का दूसरी पारी में स्कोर चार विकेट पर 104 रन था। शॉन मार्श 31 और ट्रैविस हेड 11 रन बनाकर नाबाद थे। उसे यह टेस्ट जीतने के लिए अभी 219 रन की जरूरत है, जबकि भारत को सीरीज में बढ़त बनाने के लिए छह विकेट और चाहिए। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 235 रन बनाए थे। भारत की पहली पारी 250 और दूसरी 307 रन पर ऑलआउट हुई थी।

 

चौथे दिन सबसे ज्यादा 11 विकेट गिरे, सबसे ज्यादा 260 रन बने
इस टेस्ट में पहले दिन नौ, दूसरे दिन आठ, तीसरे दिन छह और चौथे दिन 11 विकेट गिरे। वहीं, पहले दिन 250, दूसरे दिन 191, तीसरे दिन 195 और चौथे दिन 260 रन बने। अब तक 896 रन बन चुके हैं और 34 विकेट गिरे हैं। यानी औसतन 26 रन पर एक विकेट गिरा। यदि आखिरी दिन भी यही औसत रहा तो भारत की जीत तय है, क्योंकि उस हिसाब से ऑस्ट्रेलिया 159 रन ही बना पाएगा। 

 

एडिलेड में 116 साल से चौथी पारी में 200 रन नहीं बना पाया ऑस्ट्रेलिया

भारत एडिलेड में अब तक सिर्फ एक टेस्ट जीता है। सौरव गांगुली की अगुआई में दिसंबर 2003 में टीम इंडिया ने यहां जीत हासिल की थी। एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया चौथी पारी में हाइएस्ट 315 रन तक लक्ष्य ही हासिल कर पाया है। उसने 1902 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में चौथी पारी में छह विकेट पर 315 रन बनाकर मैच जीता था। इसके बाद वह कभी भी चौथी पारी में 200 रन तक नहीं बना पाया। ऐसे में आंकड़े भारत की जीत की ओर इशारा कर रहे हैं।

 

एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया का चौथी पारी में प्रदर्शन

रन विकेट किसके खिलाफ साल
315 6 इंग्लैंड 1902
187 7 न्यूजीलैंड 2015
182 3 वेस्टइंडीज 2005
172 0 वेस्टइंडीज 1930
168 4 इंग्लैंड 2006

 

323 रन का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही। पारी की दूसरी ही गेंद पर इशांत शर्मा ने एरॉन फिंच के खिलाफ एलबीडब्ल्यू की अपील की और अंपायर ने अपनी अंगुली उठा दी। फिंच ने डीआरएस ले लिया। इसमें इशांत की यह गेंद नोबॉल निकली। हालांकि, फिंच इस जीवनदान का ज्यादा देर तक लाभ नहीं उठा पाए और 11 रन पर पवेलियन लौट गए। 60 रन के स्कोर पर टीम के शुरुआती तीन खिलाड़ी पवेलियन पहुंच चुके थे।

 

 

अश्विन ने ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट गिराया

पहला विकेट : पारी का 12वां ओवर अश्विन ने फेंका। आखिरी गेंद पर फिंच सामने थे। उन्होंने गेंद को खेलने की कोशिश की, लेकिन विकेट के पीछे ऋषभ ने उनका कैच पकड़ लिया। अंपायर ने आउट दे दिया, लेकिन फिंच को लगा कि शायद वे आउट नहीं हैं। उन्होंने इस बारे में कुछ क्षण हैरिस से बातचीत की और फिर पवेलियन की ओर बढ़ गए। उस समय ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 28 रन था।
दूसरा विकेट : ऑस्ट्रेलिया के स्कोर में 16 रन ही और जुड़े थे कि मोहम्मद शमी की गेंद को कट करने की कोशिश में मार्क्स हैरिस विकेट के पीछे ऋषभ के हाथों लपके गए। उन्होंने 26 रन बनाए।
तीसरा विकेट : फिंच के आउट होने पर मैदान में उस्मान ख्वाजा आठ रन पर थे। उन्होंने रविचंद्रन अश्विन की एक गेंद को सीमा रेखा के पार भेजने की कोशिश की, लेकिन स्वीपर कवर में रोहित शर्मा ने उनका शानदार कैच पकड़ लिया। उस समय टीम का स्कोर 60 रन था।

 

 

चौथा विकेट : शुरुआती तीन बल्लेबाजों के आउट होने के बाद शॉन मार्श और पीटर हैंड्सकॉम्ब ने चौथे विकेट के लिए 24 रन जोड़ लिए थे। तभी भारतीय कप्तान विराट कोहली ने इशांत शर्मा की जगह शमी को गेंद थमाई। शमी ने पांचवीं गेंद पर पीटर हैंड्सकॉम्ब को मिड-विकेट पर चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच आउट करा दिया।

 

भारत के आखिरी छह बल्लेबाजों में पांच ही दहाई के अंक तक पहुंच पाए

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार मैच की सीरीज के पहले टेस्ट के तीसरे दिन का खेल खत्म होने के समय भारत ने दूसरी पारी में तीन विकेट पर 151 रन बनाए थे। तीसरे दिन चेतेश्वर पुजारा 40 और अजिंक्य रहाणे एक रन बनाकर नाबाद थे। चौथे दिन दोनों ने भारत के स्कोरबोर्ड को आगे बढ़ाया और चौथे विकेट के लिए 87 रन जोड़े। हालांकि, दोनों के आउट होने के बाद भारतीय खिलाड़ी ज्यादा देर तक मैदान पर टिक नहीं पाए और पूरी टीम 307 रन पर पवेलियन लौट गई। टीम इंडिया के आखिरी चार विकेट चार रन पर गिरे। उसके आखिरी छह बल्लेबाज कुल 34 रन ही बना पाए। इसमें ऋषभ पंत के 28 रन भी शामिल हैं।


नाथन लियोन ने पुजारा को पवेलियन भेजा

 

चौथा विकेट : टीम का स्कोर जब 234 रन था, तब नाथन लियोन की गेंद पर चेतेश्वर पुजारा शॉर्ट लेग पर फिंच के हाथों लपके गए। उन्होंने नौ चौके की मदद से 71 रन बनाए।

पांचवां विकेट : पुजारा की जगह आए रोहित शर्मा भी ज्यादा देर तक क्रीज पर टिक नहीं पाए। वे सिर्फ एक रन ही बना पाए। लियोन की गेंद पर सिली पॉइंट में पीटर हैंड्सकॉम्ब ने उनका कैच पकड़ा।

छठा विकेट : रोहित के बाद रहाणे का साथ देने ऋषभ पंत मैदान पर उतरे। उन्होंने लियोन के एक ओवर में 18 रन बनाए। हालांकि, अगले ओवर में लियोन ने उन्हें पवेलियन की राह दिखाई। ऋषभ छक्का मारने के चक्कर में डीप कवर पॉइंट पर फिंच के हाथों लपके गए। उस समय टीम का स्कोर 282 रन था।

सातवां विकेट : ऋषभ के आउट होने के बाद रविचंद्रन अश्विन बल्लेबाजी के लिए आए। हालांकि, वे दहाई का आंकड़ा पार नहीं कर पाए। मिशेल स्टार्क की एक छोटी रहती गेंद को खेलने के चक्कर में डीप बैकवर्ड स्क्वायर पर मार्क्स हैरिस ने उनका कैच पकड़ा। अश्विन के आउट होने के समय भारत का स्कोर 303 रन था।

आठवां विकेट : रहाणे 71 रन बनाकर खेल रहे थे, लेकिन दूसरे छोर से उन्हें पर्याप्त सहयोग नहीं मिल रहा था। शायद यही वजह रही कि उनका धैर्य भी जवाब दे गया और लियोन की एक गेंद को स्वीप करने की कोशिश में बैकवर्ट पॉइंट पर स्टार्क को कैच थमा दिया। टीम का स्कोर 303 रन ही था।

नौवां विकेट : लियोन की अगली गेंद मोहम्मद शमी को डीप बैकवर्ड स्क्वायर पर हैरिस ने लपक लिया। शमी खाता भी नहीं खोल पाए।

दसवां विकेट : टीम के खाते में अभी चार रन ही और जुड़े थे कि स्टार्क की शॉर्ट गेंद को खेलने के चक्कर में शॉर्ट लेग पर फिंच ने उनका कैच पकड़ लिया। इसके साथ ही भारतीय पारी 307 रन पर ऑलआउट हो गई।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..