टीम इंडिया की नींद उड़ा सकते हैं 5 अंग्रेज खिलाड़ी:रूट भारत के खिलाफ 60 के औसत से बनाते हैं रन, एंडरसन के नाम 133 विकेट

नई दिल्ली7 दिन पहले

भारत और इंग्लैंड के बीच 1 जुलाई से बर्मिंघम में टेस्ट मैच खेला जाना है। यह वही टेस्ट है जो पिछले साल कोरोना के कारण स्थगित हो गया था। जब सीरीज रुकी थी तो भारत 2-1 से आगे था। अगर यह मैच टीम इंडिया जीत जाती है तो 2007 के बाद पहली बार टीम इंग्लैंड में कोई टेस्ट सीरीज जीतेगी। यानी टीम के पास 15 साल बाद इतिहास रचने का मौका होगा। हालांकि, इंग्लैंड के पास पांच ऐसे खिलाड़ी हैं जो भारत का सपना तोड़ सकते हैं।

चलिए जान लेते हैं कि कौन हैं वो पांच अंग्रेज सितारे और वे क्यों भारत के लिए मुश्किलें बढ़ा सकते हैं।
आगे बढ़ने से पहले हमारे इस पोल में अपनी राय दे दीजिए...

5. जेम्स एंडरसनः टेस्ट में 650 विकेट पूरे कर चुके

39 साल के इंग्लैंड के दिग्गज गेंदबाज जेम्स एंडरसन टीम इंडिया के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकते हैं। हाल ही में न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 650 विकेट पूरे किए हैं। भारत के खिलाफ इस खिलाड़ी का रिकॉर्ड भी शानदार रहा है। उन्होंने टीम इंडिया के खिलाफ 34 टेस्ट मैच खेले हैं और 133 विकेट झटके हैं। इस दौरान उनका औसत 25.22 का रहा है।

नई गेंद से एंडरसन काफी खतरनाक हो जाते हैं। बढ़ती उम्र के साथ वो और बेहतर होते जा रहे हैं। ऐसे में इस खिलाड़ी से टीम इंडिया को बच के रहना होगा।

4. जॉनी बेयरस्टोः न्यूजीलैंड के खिलाफ की आतिशी बल्लेबाजी

इस साल इंग्लैंड का ये जांबाज खिलाड़ी टेस्ट मैचों में कमाल के फॉर्म में है। 2019 से 2021 तक बेयरस्टो के बल्ले से एक भी शतक नहीं निकला था। वहीं, इस साल इस खिलाड़ी ने 3 शतक लगा दिए हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने 50 ओवर में 299 रन का टारगेट चेज कर लिया था। इस मुकाबले में बेयरस्टो के बल्ले से सिर्फ 92 गेंदों पर 136 रन निकले। इसमें 14 चौके और 7 छक्के शामिल थे।

यह टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड की ओर से अब तक का दूसरा सबसे तेज शतक था। इंग्लैंड के लिए सबसे तेज टेस्ट शतक जमाने का रिकॉर्ड गिलबर्ट जेसप के नाम है। जेसप ने 1902 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 76 गेंदों पर शतक जमाया था। बेयरस्टो जिस तरह के फॉर्म में हैं उसे देखते हुए भारतीय गेंदबाजों को इस खिलाड़ी को जल्दी पवेलियन भेजने की रणनीति बना लेनी चाहिए। भारत के खिलाफ बेयरस्टो ने अब तक 17 टेस्ट मैच खेले हैं और 27.68 के औसत से 803 रन बनाए हैं।

3. ओली रॉबिन्सनः पिछले साल भारतीय बल्लेबाजों पर भारी पड़े थे
पिछले साल जब टीम इंडिया इंग्लैंड दौरे पर गई थी। तब इंग्लैंड के इस तेज गेंदबाज ने भारतीय बल्लेबाजों को खूब परेशान किया था। रॉबिन्सन ने 4 मैच में 21 विकेट झटके थे। उनकी स्विंग होती गेंद टीम इंडिया के बल्लेबाजों को समझ ही नहीं आती। जब गेंद पुरानी हो जाए तो अपने बाउंस और गति से रॉबिन्सन बल्लेबाजों को परेशान करते थे। तीसरे टेस्ट में इस खिलाड़ी ने 81 रन देकर 7 विकेट लिए थे।

पहली पारी में 2 और दूसरी पारी में उनके नाम 5 विकेट आए थे। तीसरे टेस्ट की पहली पारी में टीम इंडिया सिर्फ 78 रन पर ऑलआउट हो गई थी। इंग्लैंड ने ये मैच पारी और 78 रन से अपने नाम किया था और रॉबिन्सन मैन ऑफ द मैच थे। चोट के कारण अभी रॉबिन्सन टीम से बाहर चल रहे हैं, लेकिन वो भारत के खिलाफ मैच के लिए टीम में वापसी कर सकते हैं।

2. बेन स्टोक्सः कप्तान बनने के बाद बदल दिए टीम के तेवर

बेन स्टोक्स के कप्तान बनते ही इंग्लैंड क्रिकेट टीम के तेवर बदल गए हैं। स्टोक्स के कप्तान बनने से पहले इंग्लैंड को ऐशेज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4-0 की करारी हार झेलनी पड़ी थी। वहीं, वेस्टइंडीज की टीम ने अपने घर में उन्हें 1-0 से हराया, लेकिन स्टोक्स के कप्तान और ब्रेंडम मैकुलम के कोच बनने के बाद इंग्लिस टीम पुराने रंग में लौट आई है।

शानदार कप्तान के साथ स्टोक्स दुनिया के बेस्ट ऑलराउंडर भी हैं। गेंदबाजी हो या बल्लेबाजी दोनों से वो टीम इंडिया को परेशान कर सकते हैं। पिछले साल 4 टेस्ट मैचों में वो टीम का हिस्सा नहीं थे, लेकिन अब टीम इंडिया के लिए वो बड़ी परेशानी बन सकते हैं। भारत के खिलाफ स्टोक्स ने 4 फिफ्टी और एक शतक लगा चुके हैं। वहीं, 34 विकेट भी उनके नाम है। उनका बेस्ट प्रदर्शन 73 रन देकर 5 विकेट है।

1. जो रूटः टेस्ट क्रिकेट में इस समय नंबर-1 बल्लेबाज

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान जो रूट का बल्ला इन दिनों जमकर बोल रहा है। रूट ने हाल ही टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार से ज्यादा रन भी पूरे कर लिए हैं। टीम इंडिया के खिलाफ रूट का बल्ला तो और जमकर बोलता है।

उन्होंने अब तक टीम इंडिया के खिलाफ 24 टेस्ट मैच खेले हैं और 60.33 के औसत से 2,353 रन बनाए हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 8 शतक और 10 अर्धशतक निकले हैं। भारत के खिलाफ पिछले साल इसी सीरीज के पहले चार मैचों में रूट 94 की औसत से 564 रन बनाए थे। कप्तानी छोड़ने के बाद रूट और बेफ्रिक होकर खेल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...