BCCI को हलाल मीट चाहिए:कानपुर टेस्ट से पहले प्लेयर्स का डाइट चार्ट वायरल, लिखा है- सभी मीट आइटम हलाल होने चाहिए

कानपुर7 दिन पहले

भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले जाने वाले पहले टेस्ट मैच से पूर्व भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) फैंस के निशाने पर है। इसका कारण है कानपुर में खिलाड़ियों का डाइट चार्ट। मंगलवार सुबह ट्विटर पर BCCI प्रमोट्स हलाल (#BCCI Promotes Halal) ट्रेंड होने लगा। कानपुर टेस्ट के लिए दोनों टीमें कानपुर पहुंच चुकी हैं और सभी खिलाड़ी होटल लैंडमार्क टावर में बायो-बबल में रहेंगे।

जैसे ही लोगों को पता चला कि मेन्यू में हलाल मीट को शामिल किया गया है, वैसे ही सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया। इसे लेकर बोर्ड पर सवाल उठ रहे हैं। ट्विटर पर 21 हजार से भी अधिक लोग BCCI को हलाल मीट सर्व करने के लिए सवाल उठा रहे हैं। बता दें कि अमूमन हिंदू धर्म के लोग झटके से काटने वाले जानवरों को खाते हैं, जबकि मुस्लिम समुदाय आज भी हलाल मीट ही खाना पसंद करता है।

खाने का मेन्यू सामने आने के बाद हुआ विवाद
स्पोर्ट्स तक की खबर के अनुसार, बोर्ड ने टीम इंडिया के खिलाड़ियों के लिए खाने का मेन्यू जारी कर दिया है। ऑल डे काउन्टर, स्टेडियम में मिनी ब्रेकफास्ट, लंच, टी टाइम स्नैक और रात में डिनर शामिल है। इस मेन्यू से पोर्क और बीफ बाहर रखे गए हैं। मांसाहारी व्यंजन में हलाल मीट को शामिल किया गया है।

गुस्से में भारतीय फैंस
फैंस ने BCCI के कदम पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब भारतीय टीम के अधिकांश खिलाड़ी हिंदू हैं और उनके धर्म के अनुसार 'हलाल' मांस खाना सख्त मना है, तो बीसीसीआई या भारतीय टीम प्रबंधन उन्हें उनके खिलाफ जाने के लिए मजबूर कैसे कर सकता है।

आज सुबह से ही ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा BCCI
Promotes Halal के बारे में UPCA के एपेक्स कमेटी ऑफिशियल अहमद अली खान ने बताया- यह सब फालतू के ट्रेंड चल रहे है और जो लोग यह ट्रेंड चला रहे हैं वह लोग बीसीसीआई को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। बीसीसीआई और यूपीसीए ऐसे संस्थान हैं जो कभी किसी के प्रति भेदभाव नहीं करता है।

खबरें और भी हैं...