रहाणे-पुजारा और मयंक में किसका कटेगा पत्ता:दूसरे टेस्ट में खेलेंगे विराट, जानें तीनों खिलाड़ियों की नाकामी का किसे पहुंच सकता है फायदा?

6 महीने पहले

कानपुर में भारत-न्यूजीलैंड के बीच खेला गया पहला टेस्ट ड्रॉ रहा। अब बारी है 3 दिसंबर से खेले जाने वाले मुंबई टेस्ट की। मुंबई टेस्ट से भारतीय कप्तान विराट कोहली भी वापसी करने जा रहे हैं। अब बड़ा सवाल ये हैं कि कोहली टीम में वापस लौटेंगे, तो प्लेइंग इलेवन से किसे बिठाया जाएगा...

दरअसल, कानपुर टेस्ट में विराट की जगह श्रेयस अय्यर को डेब्यू करने का मौका मिला था और अय्यर ने अपने पहले ही टेस्ट में यादगार प्रदर्शन करते हुए (पहली पारी 105 और दूसरी पारी 65) कुल 175 रन बनाए। श्रेयस 'प्लेयर ऑफ द मैच' रहे और ऐसे में उनको ड्रॉप करने की उम्मीद न के बराबर है।

सवाल है पुजारा-रहाणे का
टीम के अनुभवी खिलाड़ी चेतेश्वर पुजारा और उपकप्तान अजिंक्य रहाणे लंबे समय से आउट ऑफ टच हैं। दोनों का भारत के लिए बड़ी पारी खेले लंबा समय बीत चुका है। पुजारा ने जहां 40 पारियों पहले शतक लगाया था, तो रहाणे ने भी 22 पारियों पहले ही 100+ का आंकड़ा पार किया था। विदेशी दौरों पर फ्लॉप होने के बाद दोनों से भारतीय सरजमीं पर बड़ी पारी की उम्मीद थी, लेकिन कानपुर टेस्ट में पुजारा ने मैच में कुल 48 और रहाणे के बल्ले से 39 रन देखने को मिले।

अब कोहली की वापसी के बाद रहाणे के बाहर बैठने के ज्यादा आसार हैं। दरअसल, रहाणे इस साल 8 बार सिंगल डिजिट पर आउट हुए हैं। वहीं, उनका औसत भी केवल 19.50 का रहा है। 2013 में अजिंक्य के टेस्ट डेब्यू के बाद से ये पहला मौका है, जह उनका बैटिंग औसत 20 से भी कम रहा है। इंग्लैंड दौरे की 7 पारियों में भी उनका बल्ला एकदम खामोश रहा था। रहाणे केवल एक फिफ्टी के साथ महज 109 रन ही बना सके थे। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी रहाणे ने एक शतकीय पारी जरूर खेली थी, लेकिन बाकी सीरीज में वह रनों के लिए तरसते नजर आए थे।

चेतेश्वर पुजारा की बात करें, तो भले ही उनको आखिरी शतक लगाए 40 पारियां बीत गई हों, लेकिन ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दौरे पर उन्होंने विकेट पर काफी समय बिताया था। AUS दौरे पर उन्होंने 8 पारियों में 33.88 के औसत के साथ 271 रन बनाए थे। वहीं, ENG दौरे पर भी उनका औसत 32 से ज्यादा रहा था और उन्होंने 2 फिफ्टी के साथ 227 रन बनाए थे।

पुजारा-रहाणे दोनों को मिल सकता है मौका
हां, मुंबई टेस्ट में खराब फॉर्म और कैप्टन कोहली की वापसी के बाद भी दोनों को प्लेइंग-XI में मौका मिल सकता है। इसके पीछे की वजह दोनों का अनुभव और मयंक अग्रवाल का खराब फॉर्म हो सकती है। कानपुर टेस्ट में मयंक की भी रोहित शर्मा और केएल राहुल के चोटिल होने के चलते प्लेइंग-XI में वापसी हुई थी, लेकिन दोनों पारियों में वह संघर्ष करते नजर आए और सिर्फ 30 रन ही बना सके। मयंक ने भी 10 पारियों पहले 50+ का स्कोर बनाया था और खराब फॉर्म के कारण ही उनको अंतिम 11 से बाहर कर दिया गया था।

मयंक बाहर, केएस अंदर
मयंक अग्रवाल मुंबई टेस्ट की प्लेइंग-XI से बाहर होते हैं, तो उनके स्थान पर युवा विकेटकीपर केएस भरत को ओपनिंग में मौका मिल सकता है। दरअसल, घरेलू क्रिकेट में भी भरत ओपन करते हैं और कानपुर में उन्होंने अपनी कीपिंग से सभी को खासा प्रभावित भी किया था। केएस भरत को दूसरे टेस्ट मैच में मयंक की जगह खिलाया जा सकता है।

कोहली अंदर, साहा बाहर
वहीं, कोहली टीम में ऋद्धिमान साहा की जगह पर वापसी कर सकते हैं। अगर वाकई में दूसरे टेस्ट मैच में मयंक की जगह भरत और साहा की जगह विराट प्लेइंग-XI में आते हैं, तो चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे दोनों अंतिम एकादश में बने रहेंगे। साहा कानपुर टेस्ट मैच में अनफिट नजर आए थे। गर्दन में दर्द के चलते साहा NZ की पहली और दूसरी पारी के दौरान कीपिंग के लिए भी नहीं आए थे। उनके बाहर बैठने पर भरत विकेटकीपिंग का जिम्मा संभाल सकते हैं।