न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत का गेंदबाजी का फैसला, स्कोरकार्ड देखें

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • टीम इंडिया जीती तो पहली बार न्यूजीलैंड में टी-20 सीरीज जीतेगी
  • दोनों टीमें एक-एक जीत के बाद तीन मैच की सीरीज में बराबरी पर

FULL SCORECARD पर क्लिक करें।

 

 

हैमिल्टन. न्यूजीलैंड ने तीन मैच की सीरीज के आखिरी टी-20 में भारत को चार रन से हरा दिया। उसने 2-1 से सीरीज अपने नाम की। इसके साथ भी भारत का न्यूजीलैंड में पहली बार टी-20 सीरीज जीतने का सपना टूट गया। यही नहीं, उसका पिछली 10 टी-20 सीरीज से अजेय रहने का रिकॉर्ड भी टूट गया। इस मैच में रोहित शर्मा ने टॉस जीता और गेंदबाजी का फैसला किया। न्यूजीलैंड ने 20 ओवर में 4 विकेट पर 212 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 20 ओवर में 6 विकेट पर 208 रन ही बना पाई।

 

टीम इंडिया रोहित की कप्तानी में 14 महीने बाद कोई सीरीज हारी

रोहित शर्मा की कप्तानी में भारतीय टीम पहली बार कोई सीरीज हारी है। रोहित की कप्तानी में टीम इंडिया ने अब तक तीन वनडे और पांच टी-20 सीरीज खेलीं। इनमें से उसकी यह पहली हार है। रोहित ने अपनी कप्तानी में पहली बार दिसंबर 2017 में श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज जीती थी। उसके बाद श्रीलंका को टी-20 सीरीज में हराया। फरवरी 2018 में दक्षिण अफ्रीका में टी-20 सीरीज, श्रीलंका में निदाहास ट्रॉफी (टी-20), यूएई में एशिया कप (वनडे), पिछले साल नवंबर में घरेलू मैदान पर वेस्टइंडीज के खिलाफ टी-20 और पिछले महीने न्यूजीलैंड में वनडे सीरीज जीती थी।

 

टी-20 में भारतीय महिलाएं भी हारीं

भारत को आखिरी ओवर में जीत के लिए 16 रन चाहिए थे, लेकिन वह 11 रन ही बन पाया। पुरुष टीम के सीरीज हारने से कुछ घंटे पहले भारतीय महिला टीम को न्यूजीलैंड से टी-20 सीरीज में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा था। भारत की पुरुष और महिला टीमों ने वनडे सीरीज जीती, लेकिन टी-20 सीरीज गंवा दी। खास यह है कि भारतीय महिला टीम को भी आखिरी ओवर में जीत के लिए 16 रन चाहिए थे, लेकिन वह 13 रन ही बना पाई थी।

 

न्यूजीलैंड ने 212 में से 132 रन बाउंड्री से बनाए

टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी न्यूजीलैंड ने तेज शुरुआत की। उसके बल्लेबाजों ने 28 बार (18 चौके और 10 छक्के) गेंद को बाउंड्री के पार पहुंचाया। कॉलिन मुनरो ने सबसे ज्यादा 72 रन बनाए। उन्होंने 40 गेंद की अपनी पारी में 5 चौके और 5 छक्के लगाए।

 

ऐसे गिरे भारत के विकेट

  • पहला विकेट (0.5 ओवर) : न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने पारी का पहला ओवर स्पिनर मिशेल सैंटनर से कराया। उनकी इस गेंद को ओपनर शिखर धवन ने स्लॉग स्वीप करते हुए हिट करना चाहा, लेकिन गेंद और बल्ले का सही मिलान नहीं हो पाया। गेंद सीधे डीप मिडविकेट पर खड़े डेरिल मिशेल के हाथों में चली गई। इस समय भारत के खाते में सिर्फ 6 रन ही जुड़े थे।
  • दूसरा विकेट (8.3 ओवर) : मिशेल सैंटनर की सीधी गेंद को विजय शंकर ने डीप स्क्वायर के ऊपर से बाउंड्री के पार भेजने की कोशिश की, लेकिन गेंद को सही ताकत नहीं दे पाए। बाउंड्री पर खड़े कोलिन डी ग्रैंडहोम ने कोई गलती नहीं की और कैच लपक लिया। आउट होने से पहले शंकर ने 28 गेंद पर 43 रन बनाए। इस समय भारत का स्कोर 81 रन था।
  • तीसरा विकेट (12.2 ओवर) : ब्लेयर टिकनेर की यह गेंद फुल टॉस थी। ऋषभ ने इसे मिडविकेट के ऊपर से बाउंड्री के पार भेजने की कोशिश की, लेकिन गेंद उनके बल्ले पर पूरी तरह आई नहीं और मिडविकेट पर खड़े कप्तान केन विलियम्सन ने उनका कैच पकड़ने में कोई गलती नहीं की। टिकनेर का अंतरराष्ट्रीय टी-20 में यह पहला विकेट रहा। इस समय टीम का स्कोर 121 रन था।
  • चौथा विकेट (13.6 ओवर) : डेरिल मिशेल की ऑफसाइड गेंद पर कवर ड्राइव लगाने के चक्कर में रोहित शर्मा बल्ले का बाहरी किनारा लगा बैठे। विकेट के पीछे खड़े टिम सिफर्ट ने कैच लपकने में कोई गलती नहीं की। इस समय भारत का स्कोर 141 रन था।

  • पांचवां विकेट (14.5 ओवर) : स्कॉट कुगलेजिन की गेंद को हिट करने के चक्कर में हार्दिक पंड्या के हाथों से बैट छूटकर विकेटकीपर के पास जा गिरा और गेंद स्क्वायर लेग पर खड़े केन विलियम्सन के हाथों में चली गई। भारत के स्कोरकार्ड में 145 रन जुड़ चुके थे।

  • छठवां विकेट (14.5 ओवर) : बढ़ते रनरेट के दवाब को कम करने के लिए महेंद्र सिंह धोनी ने डेरिल मिशेल की गेंद पर लॉन्ग ऑन की ओर खेला, लेकिन गेंद को गति नहीं दे पाए। बाउंड्री पर खड़े टिम साउदी ने उनका कैच पकड़ लिया। इस समय भारत का स्कोर 145 रन ही था।

 

ऐसे गिरे न्यूजीलैंड के विकेट

  • पहला विकेट (7.4 ओवर) : न्यूजीलैंड के दोनों ओपनर्स 7 ओवर में 79 रन बना चुके थे। आठवां ओवर करने के लिए रोहित शर्मा ने कुलदीप यादव को गेंद थमाई। रोहित खुद पहली स्लिप पर खड़े हुए। सिफर्ट स्ट्राइक पर थे। तीसरी गेंद पर एलबीडब्ल्यू की अपील हुई, लेकिन अंपायर ने आउट नहीं दिया। अगली गेंद पर सिफर्ट ने शॉट लगाने की कोशिश की, लेकिन इंच भर के फासले से चूक गए और महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें स्टम्प करने में कोई गलती नहीं की। लेग अंपायर ने फैसला थर्ड अंपायर पर छोड़ा। थर्ड अंपायर ने काफी बारीकी से रीप्ले देखने के बाद सिफर्ट को आउट करार दिया।
  • दूसरा विकेट (13.2 ओवर) : कुलदीप यादव की इस गेंद पर कॉलिन मुनरो ने स्लॉग स्वीप किया। उनका इरादा इसे मिडविकेट के ऊपर से खेलने का था, लेकिन गेंद स्पिन होने के कारण उनके बल्ले पर पूरी तरह नहीं आई और मिडविकेट पर हार्दिक पंड्या ने उनका कैच पकड़ने में कोई गलती नहीं की। इस समय टीम का स्कोर 135 रन था।
  • तीसरा विकेट (14.4 ओवर) : खलील अहमद की स्लोवर बाउंसर को न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने लेग में छक्के के लिए जोरदार हिट किया था, लेकिन गेंद बल्ले का ऊपरी किनारा लेकर सर्कल के अंदर ही रह गई। फाइन लेग पर खड़े कुलदीप यादव ने कोई गलती नहीं की और गेंद को कैच कर लिया। इस समय न्यूजीलैंड का स्कोर 150 रन था।
  • चौथा विकेट (18.2 ओवर) : भुवनेश्वर कुमार की ऑफसाइड यार्कर गेंद पर कोलिन डी ग्रैंडहोम ने कवर के ऊपर से खेलने की कोशिश की। हालांकि, गेंद उनके बल्ले से पूरी तरह से कनेक्ट नहीं हो पाई और बाहरी किनारा लेते हुए विकेट के पीछे महेंद्र सिंह धोनी के हाथों में पहुंच गई। न्यूजीलैंड के खाते में तब तक 193 रन जुड़ चुके थे।

 

दोनों टीमों ने 1-1 बदलाव किए
सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच के लिए दोनों टीमों ने एक-एक बदलाव किए। भारतीय टीम प्रबंधन ने इस मैच में युजवेंद्र चहल की जगह कुलदीप यादव को शामिल किया। वहीं, ब्लेयर टिकनेर न्यूजीलैंड के लिए डेब्यू करेंगे। उन्हें लॉकी फर्ग्युसन की जगह न्यूजीलैंड टीम में शामिल किया गया।

 

दोनों टीमें इस प्रकार हैं :

भारत : रोहित शर्मा (कप्तान), महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), शिखर धवन, ऋषभ पंत, विजय शंकर, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पंड्या, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार, क्रुणाल पंड्या, के खलील अहमद।

न्यूजीलैंड : केन विलियम्सन (कप्तान), कॉलिन मुनरो, ब्लेयर टिकनेर, रॉस टेलर, टिम सिफर्ट (विकेटकीपर), कोलिन डी ग्रांडहोम, जेम्स नीशम, मिशेल सैंटनर, डेरिल मिशेल, टिम साउदी, ईश सोढ़ी।