• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • India Vs New Zealand World Test Championship Final : Controversy On Umpire Review On Virat Kohli's Catch | Umpire Richard Illingworth

क्या अंपायर दे रहे न्यूजीलैंड का साथ?:विराट के खिलाफ कैच की अपील पर अंपायर इलिंगवर्थ ने लिया रिव्यू, लक्ष्मण ने कमेंट्री के दौरान फैसले पर सवाल उठाया

साउथैम्पटन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत और न्यूजीलैंड के बीच साउथैम्पटन में खेले जा रहे वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में विराट कोहली की बैटिंग के दौरान अंपायर रिव्यू लेने पर विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल, भारतीय पारी के 41वें ओवर की 5वीं बॉल कोहली के बल्ले के पास से निकलकर विकेटकीपर के हाथ में चली गई थी।

गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट और कीवी टीम ने अपील की, जिस पर अंपायर रिचर्ड इलिंगवर्थ ने कोई फैसला नहीं किया। इस पर न्यूजीलैंड के कप्तान विलियम्सन DRS लेना चाह रहे थे, तभी इलिंगवर्थ ने उन्हें बताया कि मैंने अंपायर रिव्यू लिया है। अंपायर के इस फैसले पर विराट नाराज दिखे। हालांकि, रिव्यू में कोहली नॉटआउट दिए गए। पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने अंपायर के फैसले पर सवाल उठाया।

रिव्यू को लेकर अंपायर से बातचीत करते विराट कोहली।
रिव्यू को लेकर अंपायर से बातचीत करते विराट कोहली।

नियम के मुताबिक, मैच में अंपायर रिव्यू तभी लिया जा सकता है, जब खिलाड़ी के द्वारा लिया गया कैच क्लियर न हो। जबकि मैच में साफ देखा गया था कि विकेटकीपर ने बॉल सफाई से पकड़ ली थी। ऐसे में क्रिकेट के दिग्गजों ने अंपायर का यह रिव्यू लेना नियम के खिलाफ माना है।

कमेंटेटर वीवीएस लक्ष्मण ने कहा कि इलिंगवर्थ का फैसला गलत था। लक्ष्मण ने कहा कि कीवी विकेटकीपर बीजे वाटलिंग साफ तौर पर बॉल कलेक्ट करते हुए देखे गए। ऐसे में अंपायर का रिव्यू लेना कहीं से सही नहीं है। भारत के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी अंपायर के फैसले को मजाकिया करार दिया। उन्होंने कहा कि अंपायर ने कोई फैसला नहीं दिया और ये एक रिव्यू बन गया।

बॉल ने कोहली के बल्ले को छुआ तक नहीं।
बॉल ने कोहली के बल्ले को छुआ तक नहीं।

सोशल मीडिया पर फैन्स इलिंगवर्थ के अंपायर रिव्यू लेने के फैसले की आलोचना कर रहे हैं। यूजर्स का कहना है कि अंपायर ने न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन को रिव्यू क्यों नहीं लेने दिया। अगर ऐसा होता तो कीवी टीम अब तक अपना 2 रिव्यू गंवा चुकी होती। पर ऐसा नहीं हो पाया।

रौनक कपूर नाम के यूजर ने लिखा कि अंपायर रिव्यू वाले नियम में काफी कन्फ्यूजन है। अगर नियम सिर्फ कैच को ठीक से पकड़ने को लेकर है, तो अंपायर एज क्यों चेक करते हैं। उन्हें सिर्फ बॉल कलेक्ट करने का फुटेज देखना चाहिए। पर ऐसा नहीं हुआ।

दूसरे यूजर ने लिखा कि अगर अंपायर बॉल कैरी करने को लेकर चेक कर रहे थे, इसका मतलब था कि इलिंगवर्थ मान चुके थे कि कोहली के बल्ले में गेंद लगी है। ऐसे में विलियम्सन को नॉर्मल रिव्यू क्यों नहीं लेने दिया गया? एक और यूजर ने लिखा कि अंपायरों ने यहां क्या किया? न्यूजीलैंड ने रिव्यू नहीं लिया। इसलिए अंपायर ने अपना रिव्यू ले लिया। अगर कोहली आउट हो जाते तो यह ICC के लिए शर्मिंदगी हो सकती थी। पर कोहली बच गए।

हालांकि, कमेंटेटर आकाश चोपड़ा ने बाद में बताया कि अप्रैल 2021 से नया नियम आया है। इसके तहत अंपायर थर्ड अंपायर से पूछ सकता है कि बैट का एज लगा या नहीं। पूर्व क्रिकेटर संजय बांगड़ ने कहा कि ICC टेक्निकल कमेटी ने यह फैसला लिया था। उन्होंने यह फैसला अंपायरों के खुद के कन्फ्यूजन को दूर करने के लिए था। ऐसे में यह फैसला लेना सही था।

खबरें और भी हैं...