साउथ अफ्रीका है भारत का फाइनल फ्रंटियर:वहां आज तक टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाई है टीम इंडिया, जानिए पाकिस्तान और इंग्लैंड में पहली बार कब जीती

नई दिल्लीएक महीने पहलेलेखक: आदर्श कुमार
  • कॉपी लिंक

26 दिसंबर से टीम इंडिया साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेलेगी। ये सीरीज भारतीय टीम के लिए काफी अहम होने वाली है। साउथ अफ्रीका एकमात्र ऐसी टीम है जिसकी सरजमीं पर टीम इंडिया आज तक कोई टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाई है। साउथ अफ्रीका की पिच स्विंग, गति और उछाल के लिए जानी जाती है। यहां टीम इंडिया के बल्लेबाज बहुत संघर्ष करते हैं।

साउथ अफ्रीका को भारत ने अपनी धरती पर तो 1996 में ही हरा दिया था, लेकिन अफ्रीकी धरती पर आज तक हम टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाए हैं।

साउथ अफ्रीका में पहली बार 2006 में जीते टेस्ट मैच
राहुल द्रविड़ की कप्तानी में 2006 में साउथ अफ्रीका की सरजमीं पर टीम इंडिया ने पहला टेस्ट मैच जीता था। इस मैच के हीरो श्रीसंत थे। उन्होंने अपनी घातक गेंदबाजी से साउथ अफ्रीका बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था। इस टेस्ट मैच में श्रीसंत ने 8 विकेट झटके थे और मैन ऑफ द मैच भी बने थे। पहली पारी में श्रीसंत ने 40 रन देकर 5 विकेट अपने नाम किए थे।

ऑस्ट्रेलिया की धरती पर 2018-19 में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतें
ऑस्ट्रेलिया को भारतीय सरजमीं पर टीम इंडिया ने 1979 में ही टेस्ट सीरीज में हरा दिया था, लेकिन कंगारुओं की धरती पर पहली बार 2018-19 में हमने सीरीज अपने नाम की थी। विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतने वाले पहले कप्तान बने थे। इस सीरीज में चेतेश्वर पुजारा का बल्ला जमकर बोला था।

उन्होंने चार टेस्ट में 74.43 के औसत से 521 रन बनाए थे। वहीं, जसप्रीत बुमराह ने 4 टेस्ट में 21 विकेट झटके थे।

पाकिस्तान को उनकी धरती पर पहली बार 2004 में हराया
टीम इंडिया के लिए 2004 का पाकिस्तान दौरा यादगार रहा था। टीम ने वनडे के साथ-साथ टेस्ट सीरीज भी जीती थी। सौरव गांगुली की कप्तानी में ये पहला मौका था जब भारतीय टीम ने पाकिस्तान की धरती पर कोई टेस्ट सीरीज अपने नाम की थी।

ये दौरा वीरेंद्र सहवाग के लिए भी काफी यादगार था। वो भारत के लिए टेस्ट मैचों में तिहरा शतक जड़ने वाले पहले बल्लेबाज बने थे।

वेस्टइंडीज में पहली टेस्ट सीरीज जीत की कहानी
1971 में भारत ने वेस्टइंडीज में पांच मैचों की टेस्ट सीरीज खेली थी। इस दौरे पर टीम इंडिया से ज्यादा उम्मीदें नहीं थीं। भारतीय कप्तान अजीत वाडेकर थे। भारत ने पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच 7 विकेट से जीता था।

ये वेस्टइंडीज की धरती पर भारत की पहली टेस्ट जीत भी थी। सीरीज के बाकी मुकाबले ड्रॉ रहे और भारत ने 1-0 से वेस्टइंडीज में पहली सीरीज अपने नाम की थी।

वाडेकर ने इंग्लैंड में भी बनाया था टीम इंडिया को चैंपियन
1971 का साल टीम इंडिया के लिए बहुत शानदार रहा था। इस साल वेस्टइंडीज के बाद इंग्लैंड की सरजमीं पर भी हमने पहली बार टेस्ट सीरीज जीती थी। इस दौरे पर भी भारतीय टीम के कप्तान अजीत वाडेकर ही थे। इस सीरीज में तीन टेस्ट मैच खेले जाने थे। इनमें से पहले दो मैच ड्रॉ रहे।

ओवल के तीसरे टेस्ट में भारतीय टीम को जीत मिली थी। इस टेस्ट मैच में चंद्रशेखर ने कमाल की गेंदबाजी की थी। उन्होंने 38 रन देकर छह विकेट लिए थे। इंग्लैंड की दूसरी पारी 101 रनों पर सिमट गई थी। भारत को इंग्लैंड में अपनी पहली सीरीज जीतने के लिए केवल 173 रन चाहिए थे। भारतीय टीम ने 4 विकेट से मुकाबला अपने नाम कर लिया था।

इसके अलावा टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड में पहली टेस्ट सीरीज 1967 में, श्रीलंका में पहली बार 1993 में और बांग्लादेश की धरती पर 2000 में टेस्ट सीरीज अपने नाम की थी।