टी-20 के 10 दिग्गज जो ऑक्शन में नहीं बिके:रैना, मोर्गन और फिंच जैसे 120+ स्ट्राइक रेट वाले बैटर को नहीं मिले खरीदार; विदेशी स्पिनर्स को भी तवज्जो नहीं

नई दिल्ली10 महीने पहले

दो दिन तक चला IPL का सबसे बड़ा ऑक्शन रविवार को खत्म हो गया। 10 टीमों ने 204 खिलाड़ियों को अपनी टीम के साथ जोड़ा। नीलामी के दौरान कई ऐसे दिग्गज खिलाड़ी भी थे जिन पर किसी टीम ने बोली नहीं लगाई। युवा ईशान किशन को जहां 15.25 करोड़ रुपए मिले तो वहीं, मिस्टर IPL के नाम से मशहूर सुरेश रैना को कोई खरीदार नहीं मिला।

टीमों ने खिलाड़ियों को खरीदने में तीन बड़ी चीजों का ध्यान दिया। उन्होंने ज्यादा उम्र के खिलाड़ी, विदेशी स्पिनर्स और जिन खिलाड़ियों को भारत में खेलने का ज्यादा अनुभव नहीं है वैसे प्लेयर्स को तवज्जो नहीं दी। आइए आपको इस आर्टिकल के जरिए उन टॉप खिलाड़ियों के बारे में बताते हैं, जिन पर किसी भी फ्रेंचाइजी ने बोली नहीं लगाई और वो आखिर में अनसोल्ड रहे।

Mr. आईपीएल को नहीं मिला कोई खरीदार
ऑक्शन के दौरान अनसोल्ड खिलाड़ियों के नाम में जब सुरेश रैना का नाम आया तो देश के हर क्रिकेट फैन के लिए ये चौंकाने वाला था। रैना का आईपीएल में स्ट्राइक रेट 136.76 का है। पहले सीजन से वह चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेले। हालांकि बीच में जब चेन्नई की टीम बैन हुई तो वो गुजरात लॉयंस के कप्तान बने, लेकिन दोबारा जब टीम ने वापसी की तो वो फिर टीम से जुड़ गए, लेकिन इस बार चेन्नई ने भी उन पर भरोसा नहीं जताया।

रैना घरेलू क्रिकेट में भी पिछले कुछ समय से अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम से भी संन्यास ले लिया है। ऐसे में 35 साल के हो चुके रैना के लिए कोई भी टीम चांस नहीं लेना चाहती थी। उन्होंने अपनी बेस प्राइस दो करोड़ रखी थी। इस खिलाड़ी का आईपीएल करियर देखा जाए तो उन्होंने 205 मैच खेले हैं और 32.51 की औसत से 5528 रन बनाए हैं। इसमें एक शतक और 39 अर्धशतक शामिल हैं।

स्टीव स्मिथ भी किसी टीम का हिस्सा नहीं बने
ऑस्ट्रेलिया के स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ पिछले साल दिल्ली कैपिटल्स का हिस्सा थे। उन्हें 2 करोड़ 20 लाख रुपए मिलते थे। दिल्ली से पहले स्मिथ राजस्थान रॉयल्स के कप्तान भी थे, लेकिन उनकी कप्तानी और बल्ले दोनों के खराब प्रदर्शन के कारण राजस्थान ने उन्हें अगली नीलामी में टीम से नहीं जोड़ा था। स्मिथ का आईपीएल में स्ट्राइक रेट 128.09 का है। स्मिथ ने IPL में 103 मुकाबले खेले हैं। इसमें उन्होंने 34.51 की औसत से 2485 रन बनाए हैं।

इस दौरान स्मिथ ने 11 हॉफ सेंचुरी और 1 शतक भी लगाया है। अभी हाल ही में खेले गए टी-20 वर्ल्ड कप में भी स्मिथ का बल्ला कुछ खास कमाल नहीं कर पाया था। पिछले सीजन में इस खिलाड़ी ने दिल्ली के लिए IPL में 8 मैच खेले थे, लेकिन कोई यादगार पारी नहीं खेल पाए थे।

टी-20 रैंकिंग में नंबर-2 ऑलराउंडर शाकिब को भी कोई खरीदार नहीं मिला
बांग्लादेश के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन ICC वनडे रैकिंग में नंबर वन ऑलराउंडर हैं। वहीं, टी-20 क्रिकेट में ऑलराउंडरों की बात करें तो वो दूसरे स्थान पर हैं। पिछले सीजन कोलकाता की टीम का हिस्सा रहे शाकिब का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा था। उन्होंने 8 मैचों में सिर्फ 47 रन बनाए थे। वहीं, उनके नाम सिर्फ 4 विकेट थे। शाकिब की उम्र भी 34 साल की हो गई है। ऐसे में उन पर भी किसी टीम ने दांव नहीं लगाया।

विदेशी स्पिनर्स आईपीएल टीमों को पसंद नहीं आए
आईपीएल का पिछला दो सीजन भारत में नहीं खेला गया था, लेकिन इस बार क्रिकेट का ये महासंग्राम भारत में खेला जाएगा। भारतीय पिच स्पिनर्स को बहुत फायदा पहुंचाती है, ये सब जानते हैं, लेकिन इस बार नीलामी के दौरान टीमों ने विदेशी की जगह देशी स्पिनर्स पर भरोसा जताया है। इंग्लैंड के आदिल रशीद, अफगानिस्तान के मुजीब उर रहमान, साउथ अफ्रीका के तबरेज शम्सी जैसे बड़े नामों को किसी भी टीम ने नहीं खरीदा। इमरान ताहीर की बढ़ती उम्र इसका कारण हो सकती है, लेकिन मुजीब उर रहमान और राशिद को तो सबसे बेस्ट मिस्ट्री स्पिनर माना जाता रहा है।

स्टार विदेशी बल्लेबाजों को भी कोई तवज्जो नहीं मिली
नीलामी के दौरान इस बार टीमों की रणनीति किसी को भी नहीं समझ नहीं आई। कई टी-20 स्पेशलिस्ट बल्लेबाजों को किसी ने अपनी टीम में नहीं लिया। इंग्लिश बल्लेबाज डेविड मलान, ऑस्ट्रेलिया को टी-20 वर्ल्डकप जिताने वाले कप्तान एरोन फिंच, इंग्लैंड के टी-20 टीम कप्तान इयॉन मोर्गन को कोई खरीदार नहीं मिला। इन सभी खिलाड़ियों का स्ट्राइक रेट आईपीएल में 120 से ज्यादा है। इनके अलावा आईपीएल में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले अमित मिश्रा, पीयूष चावला को भी कोई खरीदार नहीं मिला।

इंग्लैंड के कप्तान मोर्गन का बल्ला टी-20 क्रिकेट में पिछले कुछ समय से नहीं चला है। हालांकि उन्होंने अपनी कप्तानी में कोलकाता को फाइनल तक पहुंचाया था, लेकिन टीमें कप्तान के साथ-साथ एक बेहतर बल्लेबाज की भी तलाश कर रही थीं। इसलिए कोलकाता की टीम ने श्रेयस अय्यर पर दांव खेला।

खबरें और भी हैं...